01 DECTUESDAY2020 11:17:27 PM
Nari

आखिर क्यों खास है अमृतसर की दिवाली?

  • Edited By neetu,
  • Updated: 14 Nov, 2020 12:24 PM
आखिर क्यों खास है अमृतसर की दिवाली?

पूरी दुनिया में दिवाली के त्योहार का जश्न बहुत ही शानदार तरीके से मनाया जाता है। यह हिंदुओं और सिक्खों द्वारा बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार, प्रभु श्रीराम अपनी पत्नि और भाई के साथ पूरे 14 साल का वनवास पूरा कर अपने घर लौटे थे। ऐसे में उनके आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने घी के दीये जलाकर उनका स्वागत किया था। वहीं दूसरी ओर सिक्ख धर्म के सिक्ख धर्म के छठें गुरु 'गुरु हरगोबिंद साहिब' जी ने इस पावन दिन पर 52 राजाओं को कैद से मुक्त करवाया था। ऐसे में इस दिन को सिख धर्म द्वारा 'बंदी छोड़ दिवस' के नाम से मनाया जाने लगा। 

 

बात हम भारत की करें तो अमृतसर की दिवाली सबसे ज्यादा मशहूर होती है। तो चलिए आज हम आपको 'गुरू की नगरी' के नाम से मशहूर अमृतसर में दिवाली मनाएं जाने के बारे में बताते हैं...

PunjabKesari

नगर में कीर्तन की रौनक 

इन दिनों खासतौर पर पूरा शहर आस्था से भरा होता है। शहर में नगर कीर्तन निकाले जाते हैं, जिनकी अलग ही रौनक देखने को मिलती है। 

चहल-पहल से भरा बाजार 

दिवाली से कई दिन पहले ही बाजारों में चलह-पहल रहती है। यहां पर घर सजाने से लेकर बर्तन व कपड़े हर तरह का सामान मिलता है। पंजाबी कलचर को पसंद करने वाले लोगों को अपनी मनपसंद की चीजें यहां आसानी से मिल जाएगी।

PunjabKesari

आतिशबाजी के साथ जलाते हैं दीपक

दिवाली के दिन दरबार साहिब की विशेष रूप से सजावट की जाती हैं। इस पवित्र जगह को ताजे फूलों, लाइट्स व दीयों के साथ सजाते है। हम यूं भी कह सकते हैं कि गोल्डन टेंपल को एकदम दुल्हन की तरह सजाया जाता है। रात के समय में आतिशबाजियां चलाने से शहर का नजारा देखने वाला होता है। इस खूबसूरत व अलौकिक नजारे को देखने के लिए लोग देश-विदेश से आते हैं। 

PunjabKesari

ऐसे में इस बार आप अपनी इस 'दिवाली' या 'बंदी छोड़ दिवस' के मौके पर कही घूमने का प्लान कर रहे हैं तो अमृतसर जाना बेस्ट रहेगा। 

Related News