05 JULSUNDAY2020 9:14:04 PM
Nari

पर्यावरण दिवस 2020: देश की पहली महिला प्रधानमंत्री ने रखी थी नींव

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 05 Jun, 2020 09:31 AM
पर्यावरण दिवस 2020: देश की पहली महिला प्रधानमंत्री ने रखी थी नींव

प्रत्येक वर्ष 5 जून को विश्व भर में पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को उनके पर्यावरण के प्रति सचेत करना है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने 5 जून 1972 को विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की नींव रखी। तब से लगातार हर वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है। World Environment Day की शुरुआत स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में हुई। यहां 1972 से ही इस दिन को मनाया जाने लगा।

भारत में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने रखी थी नींव

भारत में 19 नवंबर, 1986 को पहली बार इस दिन को मनाया गया। इस दिन को मनाने की निश्चय तब की महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने रखी थी। हालांकि उस वक्त पर्यावरण को लेकर कुछ खास चिंता करने की जरूरत नहीं थी, मगर शायद व्यक्ति के जीवन में पर्यावरण की जरूरत को समझते हुए, उन्होंने इस दिन को विदेश के साथ-साथ भारत में भी मनाने की अनुमति दी।

nari

पर्यावरण है तो हम हैं...

कई बार मौज-मस्ती में आकर अपने आसपास का ख्याल रखना छोड़ ही देते हैं। हम भूल जाते हैं कि यह प्रकृति ही हमारा जीवन है। एक समय था, जब व्यक्ति जंगलो में रहकर अपना जीवन व्यतीत करता था, आज भले हमारे पास रहने के लिए पक्के और अच्छे मकान बन गए हैं, मगर इसका मतलब यह नहीं कि चार दीवारी में बंद होकर हम अपने पर्यावरण की देखभाल ही न करें।

nari

लॉकडाउन के चलते कुछ अलग होगा ढंग

लॉकडाउन का एक पॉजिटिव प्रभाव जो रहा, वो यह था कि इस दौरान हमें खुले और साफ वातावरण में हवा लेने का मौका मिला। भले सभी अपने घरों में बंद रहे, मगर फिर भी अच्छे और साफ माहौल में घर के अंदर रहने का भी अपना आनंद होता है। इस वर्ष पर्यावरण दिवस भी तोड़ा, अलग होगा। जहां प्रत्येक वर्ष खासतौर पर भारत देश की सरकार बढ़ते प्रदूषण को लेकर चिंतित थी, वहीं इस बार इस चिंता का विषय थोड़ा कम होगा।

nari

देश के प्रधानमंत्री भी पर्यावरण को लेकर काफी सजग हैं। वो हर साल लोगों से मिलकर पर्सनल तौर पर पर्यावरण से जुड़े टिप्स बच्चों और बड़े दोनों से शेयर करते थे। मगर इस बार पी.एम. मोदी इस विषय के बारे में भी ऑनलाइन ही लोगों के साथ अपने विचार सांझे करेंगे। 

लॉकडाउन से लेनी चाहिए सीख

भले भारत में कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं, मगर लॉकडाउन में प्रदूषण दर की कम हुई रेंज से हमें सीख जरूर लेनी चाहिए। लॉकडाउन के बाद भी हमें खुद के स्तर पर अपने आसपास को साफ रखने, पेट्रोल और डीजल वाली गाड़ियों का काम इस्तेमाल करने की कोशिश करनी चाहिए। फिर लॉकडाउन के इन एक प्लस प्वाइंट का लुत्फ हम ताउम्र उठा सकते हैं।

nari

कैसे रखा जाए वातावरण स्वच्छ?

-कोशिश करें रोजाना के काम काज करने के लिए गाड़ी-मोटर साइकिल की जगह साइकिल का उपयोग करें।
-प्लास्टिक का इस्तेमाल कम से कम करें।
-हर साल जितने हो सके पेड़-पौधे लगाने चाहिए, अपने घर टैरिस पर या फिर मोहल्ले में हर जगह पेड़ लगाएं। 
-बच्चों को पेड़ पौधों की हमारी जिंदगी में जरूरत और इनकी देखभाल करना सिखाएं, ताकि आगे चलकर वह पर्यावरण की संभाल कर सकें। 
-सड़क पर चलते-फिरते कुछ भी खाएं पिएं तो उसके पैकेट को डस्टबिन में ही फेंके। 
-ऑरगेनिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल अधिक करें।


 

Related News