01 OCTSATURDAY2022 12:50:51 AM
Nari

जब राधा और बांसुरी दोनों से अलग हो गए थे भगवान श्रीकृष्ण,  जानिए उनके जीवन का अनोखा रहस्य

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 17 Aug, 2022 07:11 PM
जब राधा और बांसुरी दोनों से अलग हो गए थे भगवान श्रीकृष्ण,  जानिए उनके जीवन का अनोखा रहस्य

आज जब भी प्रेम की बात होती है तो राधा-कृष्ण का नाम  सबसे ऊपर लिया जाता है। सदियों से पीढ़ी दर पीढ़ियां यही कहानी सुनती आ रही है कि श्रीकृष्ण को केवल दो ही चीजें यानी बांसुरी और राधा ही सबसे ज्यादा प्रिय थीं। कृष्ण की बांसुरी की धुन ही थी जिससे राधा श्रीकृष्ण की तरफ खिंची चली आती थी। भले ही श्रीकृष्ण और राधा का मिलन ना हो सका, लेकिन उनकी बांसुरी उन्हें हमेशा एक सूत्र में बांधे रखा। अब सवाल यह कि  फिर ऐसा क्या हुआ कि भगवान श्रीकृष्ण को  अपनी बांसुरी तोड़नी पड़ी। 

PunjabKesari
बांसुरी की धुन सुन दौड़ आती थी गोपियां

प्रचलित कहानी के मुताबिक भगवान श्रीकृष्ण के लिए राधा के बाद बांसुरी सबसे महत्वपूर्ण थीं। श्रीकृष्ण की मधुर बांसुरी की धुन सुन सिर्फ राधा ही नहीं बल्कि सभी गोपियां दौड़ी चली आती थी।  मगर, एक समय ऐसा आया जब कंस का वध करने के लिए कृष्ण को मथुरा रवाना हो गए। कृष्ण के विदा होने पर सिर्फ राधा ही नहीं बल्कि पूरा गोकुल दुखी हो उठा लेकिन मथुरा जाने के बाद श्रीकृष्ण कभी  लौटकर नहीं आ पाए।

PunjabKesari
सारे कर्तव्यों से मुक्त होकर राधा ने की थी श्रीकृष्ण से मुलाकात 

कंस वध के बाद श्रीकृष्ण द्वारका बस गए और रूकमनी से शादी कर ली। उन्होंने अपने पत्नी धर्म को बखूबी निभाया लेकिन उनके मन में हमेशा राधा का ही वास रहा। सारे कर्तव्यों से मुक्त होने के बाद राधा आखिरी बार अपने प्रियतम कृष्ण से मिलने गईं। जब वह द्वारका पहुंचीं तो उन्होंने कृष्ण की रुक्मिनी और सत्यभामा से विवाह के बारे में सुना लेकिन वह दुखी नहीं हुईं। जब कृष्ण ने राधा को देखा तो बहुत प्रसन्न हुए।  राधा जी को कान्हा की नगरी द्वारिका में कोई नहीं पहचानता था। राधा के अनुरोध पर कृष्ण ने उन्हें महल में एक देविका के रूप में नियुक्त किया। 

PunjabKesari
अकेली और कमजोर हो गई थी राधा

राधा दिन भर महल में रहती थीं और महल से जुड़े कार्य देखती थीं। मौका मिलते ही वह कृष्ण के दर्शन कर लेती थीं, लेकिन महल में राधा ने श्रीकृष्ण के साथ पहले की तरह का आध्यात्मिक जुड़ाव महसूस नहीं कर पा रही थीं इसलिए राधा ने महल से दूर जाना तय किया।  धीरे-धीरे समय बीता और राधा बिलकुल अकेली और कमजोर हो गईं। उस वक्त उन्हें भगवान श्रीकृष्ण की आवश्यकता पड़ी। आखिरी समय में भगवान श्रीकृष्ण उनके सामने आ गए।

PunjabKesari
राधा का वियोग सह ना पाए श्रीकृष्ण

 आखिरी मिलन पर श्रीकृष्ण ने राधा से कुछ मांगने के लिए कहा। तब राधा ने उनसे आखिरी बार बांसुरी बजाने की इच्छा जताई। श्रीकृष्ण की बांसुरी की सुरीली धुन सुनते-सुनते ही राधा ने अपना शरीर त्याग दिया। कान्हा राधा के आध्यात्मिक रूप और कृष्ण में विलिन होने तक बांसुरी बजाते रहे। भगवान राधा-श्रीकृष्ण का प्रेम अमर है लेकिन फिर भी श्रीकृष्ण राधा का वियोग सह ना पाए और उन्होंने प्रेम के प्रतीक बांसुरी को तोड़कर फेंक दिया। इसके बाद उन्होंने बांसुरी या कोई भी वादक यंत्र नहीं बजाया।
 

Related News