28 MARSATURDAY2020 8:50:46 PM
Nari

नवजात दूध पीते ही कर देता है उल्टी तो क्या करें मांएं?

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 20 Feb, 2020 06:10 PM
नवजात दूध पीते ही कर देता है उल्टी तो क्या करें मांएं?

एक औरत को जीवन में बहुत सी नई-नई चीजों का सामना करना पड़ता है। शुरुआत होती है पहले पीरियड से, फिर धीरे-धीरे शरीर में आने वाले और कई बदलाव, नई शादी, नया घर, नए लोग और सबसे अहम और खास नई बात होती है, एक मां बनना। मां बनना जहां एक औरत के लिए सौभाग्य के बात है, वहीं उसे कई तरह के चैलेंजिस का भी सामना करना पड़ता है। खासतौर पर जब वह पहली बार मां बनी है। आज हम आपको बताएंगे पहली बार मां बनने पर कुछ ऐसी परेशानियां जिन्हें हर औरत को सामना करना पड़ता है।

Image result for new moms,nari

पहली बार मां बनने वाली महिलाएं परेशान रहती है कि उनका बच्चा मोशन बहुत करता है। जहां एक सूझवान व्यक्ति दिन में दो से तीन बार टॉयलेट जाता है वहीं अगर वह अपने बच्चे को दिन में 10 बार पॉटी करता देखेगा तो उसे अजीब जरुर लगेगा। मगर आपको बता दें, कि डॉक्टर की राय मानें तो एक बच्चा दिन में यदि 10 बार पॉटी करे तो यह एक आम बात है। इसमें घबराने की कोई जरुरत नहीं है। अगर बच्चे का वजन ठीक है, और उसे भूख अच्छे से लग रही है तो दिन में 10 बार पेट साफ होना आम बात है। बच्चे की यह आदत 1-2 महीने में ठीक हो ही जाती है।

दूसरी समस्या आती है बच्चे का फीड न लेना...

सबसे ज्यादा प्रॉबल्म बच्चों में फीड न लेने की देखी गई है, या फिर फीड लेने के बाद उल्टी कर देना बच्चों की आम समस्या है। मगर यदि आपके बच्चे का वजन नार्मल है, और वह समय पर खाना खा रहा है, तो इसमें घबराने की बात नहीं है। मोशनस की तरह बच्चे के उल्टी करने की समस्या भी आने वाले दिनों में ठीक हो जाती है। अगर बच्चा दिन में 6 बार यूरीन कर रहा है तो भी आपको निश्चिंत हो जाना चाहिए, कि बच्चा जो फीड ले रहा है उससे उसका विकास अच्छे से हो रहा है।

आई इंफेक्शन

इसके अलावा माएं बच्चों में होने वाली आई इंफेक्शन से काफी परेशान रहती हैं। इससे बचने के लिए आपको चाहिए कि बच्चे को देखने आने वाले लोग सैनीटाइजर के बाद हाथ साफ करने के बाद ही बच्चे को हाथ में उठाएं।

Image result for new moms,nari

पेट गैस

बच्चे के पेट में गैस होना भी आम बात है। 3 से 4 महीने तक बच्चे के साथ ऐसा होना आम बात है। मगर ध्यान रखें कि बच्चे को फीड देने के बाद उसे डकार जरुर दिलवाएं, साथ ही बच्चा जब 2-3 हफ्ते का हो जाए, तो उसे कुछ देर पेट के बल लेटाएं। ऐसा करने से बच्चे के पेट में मौजूद एक्सट्रा गैस निकल जाती है।

ऑयलिंग

अक्सर न्यू मॉम डॉक्टर से पूछतीं हैं कि बच्चे को किस ऑयल से मसाज करें। बच्चे के लिए कोकोनट ऑयल और जैतून के तेल से की गई मसाज फायदेमंद रहती है। बच्चे को देसी घी, या फिर ज्यादा सगुंधित ऑयल के साथ मसाज नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से बच्चा स्किन इंफेक्शन का शिकार हो सकता है। न्यू बोर्न बेबी के छोटे-छोटे दाने होना बेहद आम बात है। समय के साथ-साथ यह अपने आप ठीक हो जाते हैं।

Image result for baby massage,nari

बच्चे के दानों से बचाने के लिए उन्हें गर्मी से बचाकर रखें, साथ ही सर्दियों में जरुर से ज्यादा भी कवर न करें। इसके अलावा बच्चे की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, उसे कॉटन के कपड़े पहनाएं, समय पर नहलाएं और दूध पिलाने के बाद उसका मुंह जरुर साफ करें, नहीं तो बच्चे से अजीब सी स्मैल आती रहती है। 
 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News