30 JULFRIDAY2021 1:35:35 AM
Nari

रहस्‍यों से भरी जगन्‍नाथपुरी, जानिए आखिर क्‍यों सागर तट पर बंधें हैं हनुमान जी?

  • Edited By neetu,
  • Updated: 14 Jun, 2021 05:48 PM
रहस्‍यों से भरी जगन्‍नाथपुरी, जानिए आखिर क्‍यों सागर तट पर बंधें हैं हनुमान जी?

हिंदू धर्म में चार-धाम की यात्रा का विशेष महत्व है। इनमें एक धाम जगन्‍नाथ पुरी है, जो भारत के ओडिशा राज्य के तटवर्ती शहर पुरी स्थापित है। जगन्नाथ का शाब्दिक अर्थ जगत का स्वामी है। इसलिए इनकी नगरी जगन्नाथपुरी या पुरी कहलाती है। वहीं यह मंदिर कई रहस्यों से भरा हुआ है। बात मंदिर की करें तो इसके लिए भगवान की अधूरी बनी लकड़ी की मूर्तियां है। इसके साथ ही मंद‍िर के ऊपर से क‍िसी भी व‍िमान या पक्षी का ना जाना एक बहुत बड़ा रहस्य है। ऐसे में हर कोई इन बातों से हैरानी में पड़ जाता है।

PunjabKesari

PunjabKesari

इसके अलावा मंदिर के आसपास भी कई रहस्य छिपे हैं। इनमें से एक रहस्य संकटमोचन हनुमान जी से जुड़ा है। माना जाता है कि यहां पर समुद्रतट पर भगवान जी ने स्वयं हनुमान जी को बांध दिया था। चलिए जानते हैं इस रहस्य के बारे में विस्तार से...

PunjabKesari

PunjabKesari

इस कारण रूठ गए थे भगवान 

माना जाता है कि भगवान जी के धरती पर रूप लेने पर देवी-देवता, नर-गंधर्व हर किसी की दर्शन करने की चाह होती है। ऐसा ही कुछ जगन्नाथजी की मूर्ति स्थापना होने पर हुआ था। कहते हैं भगवान के दर्शन करने के लिए जगन्नाथ पुरी के पास बहने वाले समुद्र भी इच्छा हुई। ऐसे में वे कई बार प्रभु दर्शन के लिए मंदिर में गए है। मगर इसतरह समुद्र का पानी अंदर जाने पर मंदिर को काफी नुकसान हुआ। साथ ही समुद्र देव ने ऐसा करीब 3 बार किया था। 

PunjabKesari

PunjabKesari

भगवान द्वारा बुलाए गए परम भक्त 

समुद्र का इसतरह मंदिर में बार-बार प्रवेश करने पर नुकसान झेलना पड़ा। वहीं इसके कारण भक्तों को भगवान के दर्शन नहीं हो पाते थे। ऐसे में भक्तों ने भगवान जगन्‍नाथजी से प्रार्थना की। भक्तों के आग्रह पर  भगवान जगन्‍नाथजी ने संकटमोचन हनुमान जी को समुद्र पर काबू पाने के लिए नियुक्त किया। तब हनुमान जी ने अपने बल से समुद्र को बांध दिया। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इसलिए जगन्नाथ पुरी का समुद्र हमेशा शांत होता है। 

PunjabKesari

PunjabKesari

भगवान ने प्रिय भक्त को बांधा स्‍वर्ण बेड़ी से 

माना जाता है कि इस परिस्थिति में समुद्र ने अपनी चतुराई दिखाकर हनुमान जी से भगवान के दर्शनों की बात की। फिर उनकी बातों को सुनकर हनुमान जी मंदिर में दर्शन करने चले गए। ऐसे में उनके पीछे-पीछे सागर चलने लग पड़े। इसतरह जब भी हनुमान जी मंदिर जाते तो समुद्र भी उनके पीछे आ जाते थे। इसके कारण मंदिर को नुकसान होने लगा। तब भगवान जगन्नाथपुरी ने हनुमान जी को रोकने के लिए उन्हें स्वर्ण बेड़ी से बांध दिया। आपको बता दें, जगन्‍नाथपुरी में सागरतट पर ही बेड़ी हनुमानजी का प्राचीन मंदिर बना हुआ हैमाना जाता है कि इसी जगह पर भगवानजी ने हनुमान जी को बांधा था।

PunjabKesari

 

PunjabKesari
 

Related News