23 OCTWEDNESDAY2019 1:34:20 PM
Nari

जुकाम से होती है Swine Flu की शुरुआत, इंफेक्शन से बचाएंगे ये 9 टिप्स

  • Edited By Priya verma,
  • Updated: 02 Jan, 2019 04:09 PM
जुकाम से होती है Swine Flu की शुरुआत, इंफेक्शन से बचाएंगे ये 9 टिप्स

खतरनाक वायरस स्वाइन फ्लू ने एक बार फिर दस्तक दे दी है। यह बीमारी एच1एन1 वायरस की वजह से फैलती है इसे शूकर इन्फ्लूएंजा भी कहते हैं हालांकि ऐसा पहली बार नहीं है जब इस वायरस ने देश में दस्तक दी हो। इससे पहले साल 2017 में भी कई लोग स्वाइन फ्लू वायरस से पॉजीटिव पाए गए थे। चिकित्सक विशेषज्ञों के अनुसार, एच1एन1 वायरस के चाल-चलन, मौसम के हिसाब से बदलता रहता है। यह संक्रमण रोग है जो एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है लेकिन यह वायरस अब आम सुनने को मिल रहा है जिसका इलाज भी संभव है लेकिन इसके लिए समय पर सतर्क व इलाज होना बहुत जरूरी है।
 

स्वाइन फ्लू का सबसे पहला लक्षण 

स्वाइन फ्लू श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारी है। इसका सबसे पहला लक्षण जुकाम है लेकिन इस जुकाम से संक्रमित व्यक्ति को 100 डिग्री या उससे अधिक बुखार की शिकायत होने लगती है। जब यह धीरे धीरे फैलना शुरु होता है तो व्यक्ति की भूख कम होने लगती है और सीने-गीले में जलन, सूजन उल्टियां जैसे लक्षण भी दिखने लगते हैं।

PunjabKesari, HiN1


स्वाइन फ्लू के अन्य लक्षण

रोगी के खांसने व छींकने से वायरस हवा में फैल जाते हैं। जिससे आसपास के लोग बहुत जल्दी इसकी चपेट में आ सकते हैं। इसके लक्षण एकदम नहीं बल्कि एक हफ्ते बाद नजर आने शुरू होते हैं। 

खांसी व छींके आना
सांस लेने में परेशानी होना
तेज बुखार
ठंड़ लगना
गला खराब होना
मांसपेशियां व सिर में तेज दर्द 
कमजोरी और थकावट महसूस होना

PunjabKesari, Cough Cold

किन लोगों को अधिक खतरा 

जो लोग पहले ही कई रोगों से पीड़ित हैं, उन्हें खास ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि यह वायरस उन लोगों को जल्दी चपेट में लेता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं व बच्चों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।

डायबिटीज
फेफडे़ में इंफेक्शन के रोगी
दिल के मरीज
लीवर और किडनी के रोगी
ब्लड डिस्ऑर्डर के शिकार 
गर्भवती महिला
बुजुर्ग व कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोग

PunjabKesari, Swine Flu

स्वाइन फ्लू से बचाव करने के उपाय 

इस रोग से बचने के लिए कुछ एहतियात बरतना बहुत जरूरी है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके।  

स्वाइन फ्लू के रोगी के पास मास्क लगाकर जाएं। 
खांसी और जुकाम से ग्रस्त रोगी से दूरी बनाकर रखें। 
कोई छींकता है या खांसता है तो नाक व मुंह पर रुमाल रख लें।
बुखार होने पर तुरंत जांच करवाएं। 
रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनाने के लिए हेल्दी डाइट लें। 
आलू, चावल व दही का प्रयोग कम से कम करें।
ज्यादा से ज्यादा गर्म पानी पीते रहें।
कोल्ड-कफ में हाथ मिलाने से बचें।
साफ-सफाई का ध्यान रखें।
 

स्वाइन फ्लू के लिए वैक्सीन है उपलब्ध

स्वाइन फ्लू के लिए वैक्सीन तो उपलब्ध हैं जिसकी कीमत 700 रुपए के करीब है लेकिन यह शत-प्रतिशत कारगर होगी यह कहना मुश्किल है जबकि एक्सपर्ट बताते हैं कि इससे होने वाली मृत्यु दर 1 प्रतिशत से भी कम है। उन मरीजों की उपचार के दौरान मौत होती है, जिनको स्वाइन फ्लू के साथ अन्य खतरनाक बीमारी भी होती है। इस बीमारी का इलाज करने वाले संस्थानों पर हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं इसलिए अब इससे अधिक घबराने की जरूरत नहीं है, यह कॉमन फ्लू हो गया है हालांकि इसे फैलने से रोकने के लिए कुछ जरूरी सावधानियां बरतने की खास जरूरत है।

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News