16 APRFRIDAY2021 4:57:50 PM
Nari

डाइटिंग के चक्कर में मोल ना लें बीमारियां, डायटिशियन एक्सपर्ट से जानिए कैसे घटाए वजन

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 05 Feb, 2021 01:31 PM
डाइटिंग के चक्कर में मोल ना लें बीमारियां, डायटिशियन एक्सपर्ट से जानिए कैसे घटाए वजन

सेहतमंद रहने के लिए मोटापे पर कंट्रोल रखना बहुत जरूरी है क्योंकि मोटापा कई बीमारियों को न्योता देता है। वजन कंट्रोल में रखने के लिए लोग कई तरह की तरीके आजमाते हैं। इसे नियंत्रित रखने के लिए वर्कआउट के साथ-संतुलित डाइट अहम रोल निभाती है। ज्यादातर लोग वजन घटाने के चक्कर में डाइटिंग का सहारा लेते हैं। डाइटिंग जिससे आपका वजन तो शायद तेजी से कम हो जाए लेकिन इसके साइड इफैक्ट्स भी हैं जो शरीर पर बुरा असर डालते हैं।

क्रैश डाइटिंग का बढ़ता चलन

क्रैश डाइटिंग की ओर लोगों का रुझान तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि डाइट प्लान के तहत रोजाना ली जाने वाली कैलोरी की मात्रा कम कर दी जाती है ताकि कम समय में ज्यादा वजन घट जाए लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार, क्रैश डाइटिंग में फैट के साथ साथ मसल्स व टिश्यूज भी नष्ट हो जाते हैं। इसे बनने व मरम्मत होने में काफी समय लगता है। शरीर अंदरुनी कमजोरी महसूस करता है।

PunjabKesari

क्रैश डाइटिंग के नुकसान

-क्रैश डाइटिंग करने के कई साइड इफैक्ट्स भी हैं जो आपकी बॉडी को कई तरह के नुकसान पहुंचा सकती है। एन.एच.एस हॉस्पिटल की डाइटिशियन करनदीप कौर के मुताबिक,  वजन घटाने के लिए प्रति माह औसतन 3 से 4 किलोग्राम का ही लक्ष्य रखें। क्रैश डाइटिंग वजन तो तेजी से घटाती है लेकिन इसके बहुत सारे नुकसान भी हैं।

-रिसर्च स्टडी के मुताबिक, तेजी से एकदम वजन कम करने से मेटाबॉलिज्म का स्तर कम हो जाता है। भविष्य में फिर से वजन तेजी से बढ़ने की संम्भावना रहती है।

-शरीर में कई षोषक तत्वों की कमी होने लगती हैं। इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है क्योंकि लंबा समय तक भूखा रहने से शरीर को एनर्जी व न्यूट्रिशन नहीं मिल पाते।

-निर्जलीकरण, दिल की धड़कन, और हृदय पर तनाव  आदि समस्या का खतरा बना रहता है।

-क्रैश डाइटिंग के दौरान ब्लोटिंग, कब्ज, पेट फूलना या दस्त होना जैसी पाचन संबंधी समस्याएं आम है जो लगभग हर व्यक्ति को वजन घटाने की प्रक्रिया के दौरान झेलनी पड़ती है। साइकॉलोजी कारण जैसे कुछ लोग मानसिक तनाव भी महसूस करते हैं।

PunjabKesari

कैसा होना चाहिए आपका डाइट प्लान?

हैल्दी और फिट रहने के लिए आपका संतुलित आहार खाना बहुत जरूरी है जिसमें ऊर्जा, प्रोटीन, विटामिन, खनिज फाइबर जैसे जरूरी पौष्टिक तत्व पर्याप्त मात्रा में हो। हैल्दी आहारों को आप हर मील के हिसाब से चार हिस्सों में बांट सकते हैं।

-अनाज, बाजरा और दालें
- फल और सब्जियां
-दूध और पशु खाद्य पदार्थ
-नट और बीज

औरतें कैसे रख सकती हैं वजन पर कंट्रोल?

● ज्यादा प्रोटीन आहार लें।
● भरपूर पानी पीएं।
● अधिक मात्रा तला भूना खाना, देसी घी, मक्खन और कुकिंग ऑयल व हाइड्रोजनीकृत वसा लेने से परहेज करें।
● मैदे से बनी चीजें खाने बचें।
● कम वसा वाला दूध व उससे बने उत्पादनों का सेवन करें।
● मीठे आहार व ड्रिंक्स से परहेज रखें।
● जल्दबाजी नहीं, आराम से समय लगाकर खाएं।
● फिजिकल एक्टिविटी के लिए योग व एक्सरसाइज करें।

PunjabKesari

आयुर्वेदिक नुस्खे वजन घटाने में बेहद कारगार

आयुर्वेद जिन तीन महत्वपूर्ण बिंदु (दोष) पर आधारित है। उसे वात, पित और कफ कहते हैं। हमारा शरीर इन्हीं तीन कारकों पर पूरी तरह आधारित होता है। यदि शरीर के अंदर इनमें से किसी एक की भी कमी या अधिकता होती है तो स्वास्थ्य का संतुलन गड़बड़ा जाता है और आप बीमार पड़ जाते हैं। रिसर्च स्टडी के अनुसार, आयुर्वेदिक में इन तीन बिंदुओं के आधार पर आहार खाकर वजन को नियंत्रित किया जा सकता है।

वजन घटाने से जुड़े अन्य आयुर्वेदिक टिप्स

शांतिपूर्वक अच्छे से चबाकर खाना खाएं। शरीर की जरूरत के अनुसार ही खाएं। ओवर इटिंग से बचें। मेडिटेशन को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इससे रक्त में कोर्टिसोल की मात्रा कम होती हैं। यह एक स्ट्रेस हार्मोंन है। इसका स्तर बढ़ने पर वजन बढ़ना शुरू हो जाता है। कोर्टिसोल की मात्रा बढ़ जाने के कारण कुछ महिलाएं चिंता और अवसाद जैसे विकारों से भी ग्रस्त हो सकती हैं।

1. सबसे बड़ी मील को रात की बजाए दिन के समय ही खाएं। रात को खाई ज्यादा कैलोरी ही मोटापा की वजह बनती है।

2. दिन की शुरुआत एक गुनगुने गिलास नींबू पानी से करें। इससे आपका पाचन तंत्र सही रहता है।

3. शरीर के अनुकूल व्यायाम व योग को लाइफस्टाइल का हिस्सा बनाएं।

PunjabKesari

इंटरमिटेंट फास्टिंग, वेगन, कीटो व जीएम डाइट कितनी फायदेमंद?

यह डाइट प्लान भले ही वजन घटाने के परिणाम जल्दी प्रदान करती हैं लेकिन यह परिणाम अल्पकालिक होते है। इस तरह के आहार, शोध प्रमाण समर्थित नहीं हैं। इन डाइट प्लान से शरीर में कई तरह के जरूरी पोषक तत्वों की कमी हो सकती हैं। इसकी बजाए एक हैल्दी बैलेंस डाइट को लाइफस्टाइल का हिस्सा बनाएं। जिसे आप पूरा वर्ष यानि 365 दिनों फ़ॉलो कर सकें।

डाइटिंग की वजह महिलाओं के झड़ने लगते हैं बाल 

- न्यूट्रिशन एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर ज्यादा उम्र के लोग खासकर महिलाएं डाइटिंग करें तो उनका बहुत ज्यादा वजन एकदम गिर सकता है। इम्यून सिस्टम व हड्डियों पर बुरा असर पड़ता है। मांसपेशियों में कमजोरी महसूस होने लगती है। 

- डाइटिंग के दौरान कैलोरी का सेवन बहुत कम हो जाता है। शरीर को जरूरी पोषण नहीं मिल पाता। इसी के चलते बाल झड़ने, बेजान और कमज़ोर भी हो जाते हैं इसलिए डाइटिंग के समय ध्यान रखें कि प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा को पर्याप्त रखें।

PunjabKesari

-वंदना डालिया
 

Related News