08 AUGMONDAY2022 9:36:37 PM
Nari

महिला ने हाईकोर्ट की जज को भेजी यह चीज, अनोखे ढंग से किया 'स्किन-टू-स्किन' फैसले का विरोध

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 19 Feb, 2021 01:05 PM
महिला ने हाईकोर्ट की जज को भेजी यह चीज, अनोखे ढंग से किया 'स्किन-टू-स्किन' फैसले का विरोध

कुछ दिनों पहले बॉम्बे हाईकोर्ट की जज पुष्पा वीरेंद्र गनेडीवाला ने यौन शोषण मामले पर फैसला सुनाया था जिसका लोगों ने जमकर विरोध किया था। दरअसल पिछले महीने जनवरी में नाबालिग से यौन शोषण के मामले पर बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि किसी नाबालिग के कपड़े उतारे बिना उसको छूना यौन शोषण नहीं माना जा सकता। इतना ही नहीं फैसलों में यह भी कहा गया था कि 12 साल की बच्ची का टॉप उतारे बिना स्तन छूना और बच्ची का हाथ पकड़कर पैंट की चेन खोलना पॉस्को के तहत अपराध नहीं है। ऐसे में इस फैसले के बाद इसका जमकर विरोध किया गया और तमाम देशवासियों ने इस फैसले की आलोचना की। 

वहीं अब इस फैसले का अनोखा विरोध किया है गुजराक की एक राजनीतिक विश्लेषक ने। दरअसल गुजरात के रहने वाली एक महिला ने जज पुष्पा वीरेंद्र गनेडीवाला को 150 कंडोम भेजे और इस फैसले पर अपनी नाराजगी जाहिर की। 

PunjabKesari

कौन है कंडोम भेजने वाली महिला? 

महिला का नाम देवश्री त्रिवेदी बताया जा रहा है। देवश्री ने इस फैसला का विरोध करते हुए 12 अलग-अलग जगहों पर कंडोम भेजे हैं। दरअसल इस महिला की मांग है कि वह जज द्वारा गिए गए इस फैसले को बर्दाशत नहीं कर सकती हैं क्योंकि इससे लड़कियों और उन नाबालिग बच्चियों को इंसाफ नहीं मिल पाएगा। 

जज को सस्पेंड करने की रखी मांग 

इतना ही नहीं मीडिया रिपोर्टस की मानें तो देवश्री ने इस फैसले का कड़ा विरोध किया और कहा कि ,' जस्टिस पुष्पा का यह मानना है कि अगर किसी ने स्किन को छुआ नहीं है तो फिर यह यौन शोषण नहीं है। देवश्री ने आगे कहा,' मैंने उनको कंडोम भेजकर यह बताया है कि इसका इस्तेमाल करने पर भी स्किन टच नहीं होता तो इसे क्या कहें? देवश्री ने जस्टिस गनेडीवाला को सस्पेंड करने की भी मांग रखी है। देवश्री की मानें तो पार्सल सोमवार शाम को हाई कोर्ट रजिस्ट्री में हरिदास नाम के व्यक्ति को मिला है। हालांकि बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच के रजिस्ट्री ऑफिस ने कहा है कि उन्हें कंडोम के पैकेट नहीं मिले हैं। 

PunjabKesari

महिला पर हो सकती है कार्रवाई

बता दें कि इस पर नागपुर बार एसोसिएशन के वकील श्रीरंग भंडारकर ने कहा कि ये अवमानना का केस है और इस हरकत के लिए महिला के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

फैसले से नाराज देवश्री

मीडिया रिपोर्टस की मानें तो देवश्री जज के फैसले से नाराज थीं और इसी पर विरोध जताते हुए देवश्री ने जज को कंडोम के पैकेट भेजे हैं। इसकी एक वीडियो भी देवश्री त्रिवेदी ने यूट्यूब पर शेयर की है। जहां महिला 12 पैकेट में लगभग 150 कंडोम पैक कर रही थी। बता दें कि महिला ने 13 फरवरी को विभिन्न पतों के साथ नागपुर में हाईकोर्ट रजिस्ट्री और जज के आधिकारिक आवास के पते पर कंडोम के पैकेट भेजे। 

Related News