11 APRSUNDAY2021 12:28:39 AM
Nari

भारत में दिखाई नहीं देगा साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, सूतककाल भी नहीं होगा मान्य

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 30 Nov, 2020 02:06 PM
भारत में दिखाई नहीं देगा साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, सूतककाल भी नहीं होगा मान्य

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण आज यानि 30 नवंबर, 2020 को लगने वाला है, जिसकी अवधि 4:18:11 बताई जा रही है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण ग्रहों की चाल से जोड़कर देखा जाता है, जो सोमवार दोपहर 1.04 मिनट पर शुरू होगा। यह चंद्र ग्रहण दोपहर 3.13 मिनट पर अपने चरम पर होगा और 5.22 मिनट पर खत्म हो जाएगा।

क्या भारत में दिखेगा ग्रहण?

बता दें कि यह चंद्रग्रहण ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर एशिया और अमेरिका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। आखिरी ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा लेकिन इसका प्रभाव जरूर पड़ेगा। हालांकि उपछाया ग्रहण होने की वजह से इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा।

PunjabKesari

क्या होता है उपच्छाया चंद्रग्रहण?

चंद्रग्रहण एक खगोलीय घटना है, जो चंद्रमा के पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आने पर होती है। ऐसा तब होता है, जब सूर्य, पृथ्वी व चंद्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में स्थित रहें। वहीं उपच्छाया चंद्र ग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी की परिक्रमा करने के दौरान चंद्रमा पेनुम्ब्रा से होकर गुजरता है। इस दौरान, चंद्रमा सामान्य से थोड़ा गहरा दिखाई देता है।

वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा ग्रहण

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, इस ग्रहण का सबसे ज्यादा असर रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि पर पड़ेगा। ऐसे में इस राशि के लोगों को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। ज्योतिष विद्वानों के मुताबिक, उपछाया चंद्रग्रहण इतना प्रभावशाली नहीं होता इसलिए दुनियाभर पर इसका कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।

PunjabKesari

मानसिक स्वास्थ्य पर होगा असर

हालांकि ग्रहण के कारण लोगों की मानसिक स्थिति और सेहत पर असर पड़ सकता है। ऐसे में सावधानी जरूर बरतें और भूलकर भी ये काम ना करें...

. वैसे तो इस उपचंद्र ग्रहण पर सूतक नहीं लग रहा है लेकिन भी खाने की चीजों पर एक तुलसी का पत्ता रख दें।
. भगवान की मूर्ति को ना छूएं और ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान करें।
. इस दौरान कुछ खाना-पीना भी नहीं चाहिए। मांसाहारी और तामसिक भोजन का सेवन ना करें।
. ग्रहण के बाद स्नान करने के बाद पूरे घर में गंगा जल का छिड़काव करना चाहिए।
. इस दौरान "ओम् सोमेश्वराय नमः" मंत्र का जाप करें और भगवान का ध्यान करें।
. कहा जाता है कि ग्रहण खत्म होने के बाद गाय को रोटी खिलाने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।

गर्भवती महिलाएं रखें विशेष सावधानी

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं घर से बाहर ना निकलें क्योंकि इससे शिशु पर नकारात्मक असर पड़ता है। साथ ही ग्रहण के दौरान कुछ खाएं-पीएं भी नहीं। ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को चाकू, कैंची आदि धारदार चीज को यूज करने से बचना चाहिए।

PunjabKesari

Related News