Twitter
You are hereNari

जानिए क्‍या हैं एंडोमेट्रियोसिस सिंड्रोम, इस तरह करें इसका उपचार

जानिए क्‍या हैं एंडोमेट्रियोसिस सिंड्रोम, इस तरह करें इसका उपचार
Views:- Thursday, February 22, 2018-10:54 AM

बिगड़ते लाइफस्टाइल और तनाव भरी जिदंगी के कारण महिलाओं के शरीर में कई तरह की समस्याएं हो जाती हैं जिसमें से एक है एंडोमेट्रियोसिस। 25-30 साल की उम्र में पेट दर्द और गर्भधारण न कर पाने का सबसे मुख्य कारण यही है। इस समस्या में गर्भ (एंडोमेट्रियम) को ढकने वाले टिश्यूज ओवरीज या गर्भाशय के आसपास विकसित होने लगते हैं, जिससे पीरियड्स के दौरान ओवरीज और पेल्विक में खून के गहरे थक्के जमा हो जाते है, जोकि आंत, ट्यूब्स और ओवरीज में चिपक जाते है। इससे ट्यूब्स और ओवरीज को नुकसान पहुंचता है, जो इंफर्टिलिटी का कारण बनता है। इसका समय पर इलाज न करवाने के कारण पेल्विक में सूजन और तेज पेट दर्द प्रॉब्लम हो जाती है।
 

क्‍या है एंडोमेट्रियोसिस?
गर्भाशय में होने वाली इस समस्‍या के कारण पेट के अंदर एक परत बनती है, जिससे एंडोमेट्रियम ऊतक में असामान्य तरीके से बढ़ने लगता है और वो गर्भाशय से बाहर फैलने लगता है। यह ऊतक गर्भाशय के अंदर ही नहीं अंडाशय, आंतो और अन्य प्रजनन अंगो तक भी फैल सकते है, जिससे इंफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है।

PunjabKesari

एंडोमेट्रियोसिस के कारण
एम्ब्रोनिक कोशिकाओं का बढ़ना
सर्जरी से हुए घाव के करण
एंडोमेट्रियल कोशिकाओं के शरीर के अन्य भागों में फैलने के कारण

PunjabKesari

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण
पेट दर्द के निचले हिस्से में तेज दर्द
पीरियड्स में तेज दर्द
मांसपेशियों में खिचाव
शरीर के निचले हिस्से में जकड़न
मल या मूत्र त्याग में समस्या
संबंध बनाने के दौरान या बाद में दर्द
पीरियड्स में अधिक ब्‍लीडिंग
थकान, तनाव
कब्ज़
चक्कर और उल्टी आना
 

एंडोमेट्रियोसिस का घरेलू इलाज
1. अलसी के बीज
ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर अलसी के बीज शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालते है। इसके कुछ दानें पानी में डालकर रातभर रखें और सुबह इस पानी पीएं। अलसी के बीजों का पाउडर बनाकर भी खाने से भी यह समस्या दूर हो जाती है।

PunjabKesari

2. शहद
औषधीय गुण होने का कारण शहद का सेवन करने से यह समस्या दूर हो जाती है। गर्म पानी के साथ शहद पीने से आप इस बीमारी से छुटकारा पा सकते है।

3. हल्दी
1 चम्मच हल्दी और नींबू के रस को पानी में अच्छी तरह उबालकर पीएं। दिन में 2 बार इसका लगातार सेवन करके इस बीमारी से छुटकारा पा सकते है।

4. कैस्टर ऑयल
कैस्टर ऑयल को थोड़ा सा गर्म कर लें। इसे कपड़ें में लगाकर पेट के निचले हिस्से में लगाएं। इससे आपको पेट दर्द से तुरंत आराम मिल जाएगा।

PunjabKesari

5. अदरक
औषधि के रूप में इस्तेमाल होने वाली अदरक को पतले में टुकड़ों में काटकर चाय बना लें। इसे नियमित रूप से पीने पर आपकी यह समस्या दूर हो जाएगी।


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Latest News