18 JULTHURSDAY2024 9:16:56 PM
Nari

इन कारणों से डिलीवरी के बाद नहीं बन पाता है ब्रेस्ट मिल्क, प्रेगनेंसी के दौरान ही ध्यान में रखें ये बातें

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 20 Sep, 2023 01:54 PM
इन कारणों से डिलीवरी के बाद नहीं बन पाता है ब्रेस्ट मिल्क, प्रेगनेंसी के दौरान ही ध्यान में रखें ये बातें

मां बनना दुनिया के सबसे खूबसूरत एहसासों में से एक होता है। हालांकि जो महिलाएं पहली बार मां बनती है उन्हें इस दौरान कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है।  शुरुआती दिनों में कुछ महिलाओं को दूध न निकलना या पर्याप्त दूध न होने की समस्या रहती है, जिसके चलते वह मजबूरी में अपने शिशु को ब्रेस्ट फीडिंग नहीं करवा पाती हैं। आइए जानते हैं ब्रेस्ट मिल्क ना आने के क्या कारण होते हैं। 

PunjabKesari

बच्चे के लिए मां का दूध क्यों है जरूरी


जन्म के साथ ही मां का पहला दूध बच्चे के संरक्षण के लिए सबसे ज़रूरी होता है। ये दूध प्रोटीन और एन्टी बॉडी के गुण से भरपूर होता है जो शिशु के इम्युनिटी लेवल को मजबूत करने में अहम् भूमिका निभाता है। साथ ही यह बच्चे को मां से भावनात्मक रूप से भी जोड़ती है। मां के पहले दूध में वो सब कुछ है जो एक बच्चे को अपनी पहली खुराक में चाहिए होता है। मां कें दूध की सबसे अच्छी बात ये है कि प्रीमैच्युर हो या या नॉर्मल दोनों उम्र के शिशु के ज़रूरत को पूरा करने की ये क्षमता रखता है। इसलिए जन्म से छह महीने तक दूध पिलाना शिशु के लिए बहुत ही आवश्यक होता है।

PunjabKesari
ब्रेस्ट मिल्क ना आने के कारण

ब्रेस्टफीड कराने में देरी

डिलीवरी के बाद के दो दिनों के भीतर शिशु को ब्रेस्टफीड न कराने से दूध बनने की प्रक्रिया कम हो जाती है और इससे आउटपुट कम हो जाता है।

ग्लैंड्यूलर टिश्यू की कमी

यह समस्या पहली बार मां बनने वाली महिलाओं में ज्यादा आती हैं, क्योंकि मिल्क डक्ट पूरी तरह बने नहीं होते हैं, जिससे दूध कम बनता है। डॉक्टर का कहना है कि इस समस्या के समाधान के लिए बेबी को सक करने दें, ज्यादा सक करने से ज्यादा दूध बनेगा।

गलत खानपान

डॉक्टर्स का मानना है कि गर्भवती महिलाओं को कैफीन, असंतुलित भोजन, स्मोकिंग जैसी चीजों से दूर रहना चाहिए। अगर वे गर्भावस्था में इन चीजों का सेवन करती हैं, तो इससे उनके ब्रेस्ट मिल्क पर असर पड़ सकता है। 

पानी की कमी

कई बार पानी की कमी की वजह से भी दूध  नहीं बन पाता है। इसलिए गर्भावस्था में ही ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए इससे शरीर हाइड्रेट रहेगा और शरीर में इलेक्ट्रोलाइट भी बढ़ेंगे जो ज्यादा दूध निर्माण में आपकी मदद करेगा।

स्ट्रेस 

डिलीवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क ना होने का कारण स्ट्रेस भी हो सकता है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेस ना लें।  

इन्फेक्शन 

जिन महिलाओं को किसी तरह का इन्फेक्शन हो जाए या ब्रेस्ट में मवाद हो जाने पर मां ब्रेस्टफीड नहीं करा पातीं। अंदर की ओर धंसी निप्पल या क्रैक निप्पल होने के कारण भी ये परेशानी आती है। 

हार्मोन असंतुलित 

डिलीवरी के दौरान शरीर का हार्मोन असंतुलित हो जाता है, जिसके कारण ब्रेस्ट मिल्क पर भी इसका असर पड़ता है। थायराइड होने पर भी शरीर का हार्मोंस असंतुलित रहता है। इस वजह से भी महिलाओं को ब्रेस्ट मिल्क नहीं बन पाता है

PunjabKesari
ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए खाएं ये चीजें

 

जीरा पंजीरी 

एक्सपर्ट्स की मानें तो नई बनी मांओं के लिए जीरा पंजीरी बहुत ही लाभकारी मानी जाती है इसलिए डिलीवरी के 5-6 दिनों बाद जीरा पंजीरी पीने की सलाह भी दी जाती है। 

भूने हुए तिल 

भून हुए तिलों के साथ सौंफ खाने से भी दूध का सेवन बढ़ने लगता है। ऐसे में आप इसे भी आप अपनी डाइट का हिस्सा बना सकते हैं। 

खुबानी 

खुबानी कई पोषक तत्व और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले बायोएक्टिव यौगिक प्रदान करती है। इसे खाने से ब्रेस्‍टमिल्‍क बढ़ाने में भी मदद मिल सकती है। 

मेथी के बीज 

मेथी के बीजों का दूध के उत्पादन को बढ़ाने के लिए काफी लंबे समय तक प्रयोग किया जा रहा है। इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड्स की मात्रा भी अधिक होती है, जो बच्चे के दिमाग के विकास के लिए काफी अच्छे होते हैं। 

 हरी पत्तेदार सब्जियां 

पालक, केल और मेथी जैसी हरी और पत्तेदार सब्जियों के सेवन से आपको बहुत से पोषण मिलते हैं – जैसे आयरन, कैल्शियम और फोलेट। इनमें बहुत अधिक विटामिन्स होते हैं। जिस कारण आपके दूध की सप्लाई भी बढ़ती है।

Related News