23 JULTUESDAY2019 7:23:18 PM
Nari

महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है फोलिक एसिड, ये 2 चीजें पूरी करेंगे कमी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 06 Jul, 2019 06:08 PM
महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है फोलिक एसिड, ये 2 चीजें पूरी करेंगे कमी

शरीर में पोषक तत्वों की जरूरत तो हर किसी को होती है लेकिन महिलाओं की जरूरतें पुरुषों से शरीर से काफी अलग होती हैं। हार्मोन में बदलाव, पीरियड्स, मां बनने और मेनोपॉज के कारण महिलाओं के शरीर की जरूरतें भी बदलती रहती हैं। ऐसे में महिलाओं के शरीर को पोषक तत्वों की ज्यादा जरूरत होती है, जिसमें से फोलिक एसिड भी एक है। फोलिक एसिड विटामिन बी9 का एक प्रकार है, जो ना सिर्फ हड्डियों को मजबूत बनाता है बल्कि यह महिलाओं को डिप्रेशन जैसी बीमारियों से भी बचाकर रखता है।

 

क्या है फोलेट (फोलिक एसिड)?

फोलिक एसिड को विटामिन बी-9 या फोलासीन और फोलेट के नाम से भी जाना जाता है। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं और डीएनए बनाने में मदद करता है। इसके अलावा यह ब्रेन, नर्वस सिस्‍टम और रीढ़ की हड्डी में तरल पदार्थ पहुंचाने के लिए भी जरूरी होता है। शरीर में इसकी कमी से कई बीमारियों और प्रैग्नेंट महिलाओं में गर्भपात का खतरा भी बढ़ जाता है।

PunjabKesari

प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए ज्यादा जरूरी

प्रेगनेंसी के समय महिलाओं में फोलिक एसिड की कमी होनी संभावना ज्यादा होती है। महिला के शरीर में अगर फोलिक एसिड की कमी अगर होती है तो इसका असर होने वाले बच्चे के हेल्थ पर पड़ता है। यह शरीर और दिमाग में नई स्वस्थ कोशिकाएं का निर्माण करने के साथ-साथ खून में रेड सैल बनाने का काम करता है, जिससे प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को एनिमिया की शिकायत नहीं होती।

गर्भावस्था में कितना लें फोलिक एसिड

अगर आप मां बनना चाहती हैं तो अपनी डाइट में 400 मिक्रोग्राम फोलिक एसिड फूड्स शामिल करें। वहीं प्रेग्नेंसी के तीसरे महिने के दौरान रोजाना 600 मिक्रोग्राम फोलिक एसिड के सेवन की सलाह दी जाती है। अगर आप स्‍तनपान कराती हैं तो आपको फोलिक एसिड 500 मिक्रोग्राम प्रतिदिन लेना चाहिए।

PunjabKesari

फोलिक एसिड की कमी के लक्षण

-थकान और चक्कर आना
-सांस फूलना
-त्वचा में पीलापन
-दिल की धड़कनें तेज होना
-अचानक वजन घटना
-हाथों-पैरों का सुन्न होना
-मांसपेशियों में कमजोरी
-मानसिक भ्रम
-बार-बार भूलना

PunjabKesari

फोलिक की कमी से होने वाले रोग
हार्ट अटैक और स्ट्रोक

फोलिक, शरीर में हीमोसिस्टीन के स्तर को सामान्य रखता है लेकिन इसकी कमी से हीमोसिस्टीन का स्तर कम हो जाता है। इससे दिल के रोगों के साथ हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है।

मानसिक विकार

इसकी कमी से महिलाओं में मानसिक विकार जैसे तनाव, डिप्रैशन, साइक्‍लोथीमिया और डीरियलाइजेशन का खतरा भी बढ़ जाता है।

एनीमिया

फोलिक शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स का निर्माण करने के लिए बहुत जरूरी है। ऐसे में इसकी कमी के कारण महिलाओं में एनिमिया की समस्या हो सकती है।

PunjabKesari

कैंसर

खून में फोलेट की कमी कई मामलों में सर्वाइकल कैंसर, स्तन कैंसर, कोलन कैंसर, मस्तिष्क कैंसर और फेफड़ों में कैंसर होने का खतरा भी बढ़ा देती है। ऐसे में जिनता हो सकें फोलेट से भरपूर चीजें खाएं।

हाई बीपी

इसकी कमी के कारण महिलाओं में हाई बीपी की समस्या होना भी आम है इसलिए शरीर में इसकी कमी न होने दें।

हड्डियों में कमजोरी

इसकी कमी के कारण महिलाएं जल्दी जोड़ों के दर्द, हड्डियों में कमजोरी और ऑस्टियोपोरोसिस जासी बीमारियों का शिकार हो सकती है।

फोलेट या फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत

अगर शरीर में फोलिक एसिड की कमी है तो इसकी दवाओं का उपयोग किया जा सकता है लेकिन इसके लिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें। इसके अलावा दालों और हरी सब्जियों में फोलिक एसिड अधिक पाया जाता है। इसकी कमी को पूरा करने के लिए आप हरी पत्‍तेदार सब्जियां, फलियां, बीज, अंडा, अनाज और खट्टे फल आदि अपनी डाइट में शामिल है। इसके अलावा ब्रोकली, पपीता, स्‍ट्रॉबेरी, पिंटो सेम, काले सेम, राजमा और किडनी बींस भी फोलिक एसिड का स्रोत है।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad