27 MAYWEDNESDAY2020 3:24:51 PM
Nari

कोरोना से 20% बढ़े मानसिक रोगी, WHO से जानें क्वारंटाइन में भी कैसे रहेंगे मेंटली फिट

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 02 Apr, 2020 03:55 PM
कोरोना से 20% बढ़े मानसिक रोगी, WHO से जानें क्वारंटाइन में भी कैसे रहेंगे मेंटली फिट

कोरोना वायरस ने जहां दुनियाभर में डर व चिंता का माहौल बना दिया वहींं इसके कारण देश में मानसिक रोगियों की संख्या भी बढ़ रही है। अध्ययन के मुताबिक, कोरोना मरीज, क्वारंटाइन या आइसोलेशन में रह रहे व्यक्ति, यहां तक कि इलाज कर रहे व्यक्ति की मानसिक सेहत पर इससे असर पड़ रहा है। इसके कारण देश में अवसाद, एंग्जायटी, डिप्रैशन व मानसिक रोगियों की संख्या 20% बढ़ गई है।

इसी बात को ध्यान में रखते हुए WHO यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने क्वारंटाइन में मेंटली फिट रहने के कुछ टिप्स दिए हैं।

तनाव का कारण

लोगों में लॉकडाउन के चलते बिजनेस, नौकरी, कमाई, बचत और यहां तक कि मूलभूत संसाधन खोने तक डर भी इसका कारण माना जा रहा है। रिसर्च के अनुसार, लॉकडाउन व कोरोना वायरस के चलते हर 5 में से 1 भारतीय तनाव से जूझ रहा है। इसके लिए जागरूरता व सुविधाओं में कमी को जिम्मेदार माना जा रहा है। हालांकि भारत में इसका आंकड़ा अभी विदेशों से कम है।

PunjabKesari

दिमाग पर होता है कैसा असर?

क्वारंटाइन में रहने वाले लोगों को चिढ़चिढ़ापन, मन में संक्रमण का डर, बोरियत जानकारी की कमी या सामान की कमी की चिंता जैसी प्रॉब्लम्स का सामना करना पड़ता है। यही भावनात्मक अस्थिरता तनाव, डिप्रैशन, उदासी, पैनिक अटैक, नींद की कमी और गुस्से का कारण बनती है। हैरानी की बात तो यह है कि क्वारंटाइन में माता-पिता की तुलना में बच्चों को अधिक तनाव होता है।

क्या क्वारंटाइन के बाद भी है खतरा?

क्वारंटाइन के कारण लोगों की रोजाना रूटीन में काफी बदलाव आया है। जब हम किसी भी काम को ज्यादा बार दोहराते हैं तो वो आदत बन जाती है। ऐसे में क्वारंटाइन के कारण लाइफस्टाइल आदतों को फिर से नॉर्मल करने में कुछ समय लगेगा इसलिए इसके बाद भी लोगों में तनाव की स्थिति बनी रह सकती है। सर्वे बताता है कि क्वारंटाइन के दौरान 7% में एंग्जायटी और 17% में गुस्से के लक्षण देखे गए।

PunjabKesari

कैसे पहचानें एंग्जायटी और पैनिक के संकेत?

. हर समय उदास रहने
. अकेले रहने का मन करना
. बार-बार बेवजह गुस्सा आना
. स्वभाव में चिड़चिड़ाहट
. बार-बार तथ्य व आंकड़ों की जांच करते रहना
. नींद ना आना या कुछ न कुछ सोचते रहना
. बीतों दिनों को बार-बार याद करना
. बार-बार भूख लगना
. कंपकपी, भ्रम, और चीजों में ध्यान ना लगना

PunjabKesari

अब जानते हैं WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) द्वारा लोगों को मानसिक रूप से स्वस्थ के लिए दिए गए कुछ टिप्स...

1. दोस्तों और परिवार के संपर्क में रहें। साथ ही तनावभरी खबरों पर ध्यान ना दें।
2. डाइट में हैल्दी चीजें शामिल करें। अधिक से अधिक विटामिन व प्रोटीन युक्त चीजें लें।
3. पर्याप्त नींद और रोजाना एक्सरसाइज बहुत जरूरी है। 
3. स्मोकिंग, शराब या अन्य ड्रग्स को सहारा न बनाएं। 
4. योग, एक्सरसाइज व सैर करें।
5. घर से बाहर नहीं निकल सकते लेकिन आप इनडोर गेम्स के जरिए खुद को मेंटली फिट रख सकते हैं।

PunjabKesari

Related News