25 JUNSATURDAY2022 12:52:17 PM
Life Style

लिज्जत पापड़ स्टोरीः 7 महिलाओं की मेहनत, 80 रुपए की उधारी से खड़ा किया 800 करोड़ का बिजनेस

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 06 Dec, 2020 04:13 PM
लिज्जत पापड़ स्टोरीः 7 महिलाओं की मेहनत, 80 रुपए की उधारी से खड़ा किया 800 करोड़ का बिजनेस

हमारे समाज में औरतों को हमेशा पुरुषों से कम ही आंका जाता है लेकिन कई सफल महिलाओं ने इस बात को पूरी तरह गलत साबित किया है। आज हम जिन महिलाओं की बात कर रहे हैं उन्‍होंने घर से शुरु हुए पापड़ के छोटे से कारोबार को अपनी काबिलियत से सफलता के शिखर पर पहुंचा दिया। गांव की पृष्ठभूमि से आई और कम पढ़ी-लिखी होने के बावजूद अपनी मेहनत से इन्‍होंने वह कर दिखाया जिसे करना आसान नहीं था। माने या ना माने लेकिन भारतीय महिलाओं के लिये ये काफी सम्मान की बात है और ये हौसला भी देती है कि अगर आप अपने हुनर को तलाश लें तो कामयाबी पा सकती हैं।

जी हां, आज हम आपको बताने वाले हैं 'श्री महिला गृह उद्योग लिज्जत पापड़' के बारे में। जिस दिन लिज्जत का पहला पापड़ बेला गया था, उस दिन शायद किसी ने ये सोचा भी नहीं होगा कि एक दिन यह एक बड़ा उद्योग बनेगा और हजारों महिलाओं के रोजी-रोटी का सहारा भी बनेगा।

कैसे हुई शुरूआत?

मुंबई की रहने वाली जसवंती जमनादास पोपट ने अपना परिवार चलाने के लिए 1959 में पापड़ बेलने का काम शुरू किया था। जसवंती बेन गरीब परिवार से ताल्लुक रखती थी और कम पढ़ी-लिखी भी थी लेकिन उनमें कारोबार की अच्‍छी समझ थी। उन्होंने इस काम में अपने साथ और 6 गरीब बेरोजगार महिलाओं को जोड़ा और 80 रुपये का कर्ज लिया और पापड़ बेलने का काम शुरु किया। इन महिलाओं द्वारा 15 मार्च 1959 को लिज्जत पापड़ का व्यवसाय शुरु किया था। किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि यह बिजनेस सारे भारत की पहचान के तौर पर पूरी दूनिया में अपनी जगह बना लेगा।

PunjabKesari

80 रुपए उधारी से 800 करोड़ का टर्नओवर

गरीबी के कारण उन्होनें 80 रूपए उधार लेकर व्यवसाय शुरू किया था लेकिन कुछ महीने की मेहनत से ही उन्होंने 80 रुपए चुका दिए और फिर चार पैकेट से 40 और फिर 400 तक पहुंचने में वक्त नहीं लगा। 80 रुपये से शुरू हुआ यह कारोबार आज सालाना 800 करोड़ रुपये का कारोबार करती है। इस कारोबार से तकरीबन 45 हजार महिलाएं जुड़ी हुई हैं और इसके 62 ब्रांच हैं। 

PunjabKesari

कमजोरी को बनाया ताकत

जितनी भी महिलाएं इस व्यवसाय से जुड़ी है वह आर्थिक रूप से कमजोर है और अपनी खराब आर्थिक स्थिति के कारण ज्यादा शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाई है लेकिन वे इसे अपनी कमी नहीं मानती और यही इस कारोबार की सफलता का राज है। 

पापड़ का नामकरण

1962 में ग्रुप ने अपने पापड़ का नामकरण किया और यह नाम था 'लिज्जत पापड़'। लिज्जत गुजराती शब्द है, जिसका अर्थ स्वादिष्ट होता है। साथ ही, इस ऑर्गेनाइजेशन का नाम रखा गया 'श्री महिला गृह उद्योग लिज्जत पापड़'।

मशीन नहीं हाथों से बनाया जाते है पापड़़

लिज्जत पापड़ देश-विदेश में फेमस हैं और इसके फेमस होने के पीछे का कारण है इसकी गुणवत्ता। इसकी गुणवत्ता का श्रेय इस कारोबार से जुड़ी सभी महिलाएं को जाता हैं जो यहां बनाने वाले पापड़ों की गुणवत्ता का खास ख्याल रखती हैं। यहां अभी भी पापड़ों को मशीन से नहीं बल्कि हाथों से बनाया जाता है और आटा गूंथना, लोई बनाना, पापड़ बनाना, सुखाना और पैंकिग इस पापड़ के मुख्य चरण हैं।

PunjabKesari

लिज्जत ग्रुप की दो अच्छी बातें

लिज्जत ग्रुप की दो सबसे अच्छी बातें यह है कि लिज्जत पापड़ सरकार से किसी भी तरह की आर्थिक सहायता नहीं लेती और यहां काम करने वाली हर महिला को 'बहन' शब्द से संबोधित किया जाता है, जिस कारण सब एक समान दिखते हैं।

कानाफूसी 'Not Allowed'

बिजनेस बहुत बढ़ा है लेकिन उन्होंने मशीन का इस्तेमाल न करते हुए और महिलाओं को काम पर बढ़ाया हैं। इन महिलाओं ने तय किया है की हम मिलकर काम करेंगे। वहाँ का रूल ही ऐसा है की “कानाफूसी allowed नहीं है “, “जो बोलना है जोर से बोलों” इसी वजह से वहाँ महिलाओं की गॉसिप भी नहीं, झगडा नहीं, इसी वजह से ये काम अच्छी तरह से चल रहा है।

PunjabKesari

महिलाएं ही चलाती हैं उद्योग

ये कंपनी बाकी कंपनियों से थोड़ी अलग है, इस व्यापार में सभी महिला सदस्य हैं। यहां अध्यक्षता कार्यकारी समिति से सदस्य बारी-बारी से संभालते हैं और वो भी सबकी सहमति से चुने जाते हैं। यानी सबको मौका दिया जाता है जो इस उद्योग की सफलता में एक अहम किरदार निभाते हैं। हर शाखा का नेतृत्व एक संचालिका करती है। यह हर साल बदलती रहती हैं।

महिलाओं से शुरु और उन्हीं के लिए 

लिज्जत पापड़ की कॉ-फाउंडर जसवंती बेन पोपट चाहती तो आज लिज्जत पापड़ के बिजनेस को बहुत आगे ले जा सकती थीं लेकिन जसवंतीबेन उन महिलाओं को अपने पैरों पर खड़ा करना चाहती थी, जिनके बच्चे पढ़ नहीं पा रहे थे और जिसके घर में कोई कमाने वाला नहीं हो। जसवंती बेन का यही मुख्य उद्देश्य था की इन महिलाओं को रोजगार मिले और ये अपना घर चला सके।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News