24 OCTTHURSDAY2019 5:16:35 AM
Nari

Inspiration: पिता को मार गया लकवा तो बेटियों ने शुरू किया नाई का काम

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 14 May, 2019 07:10 PM
Inspiration: पिता को मार गया लकवा तो बेटियों ने शुरू किया नाई का काम

आपने आजतक सिर्फ मर्दों को ही नाई की दुकान पर शेविंग और बाल काटते देखा होगा। मगर आज हम आपको उत्तर प्रदेश में रहने वाली दो ऐसी बहनों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो नाई की दुकान पर काम करके लिंग संबंधी रुढ़ियों पर सवाल खड़े कर रही हैं। नाई की दुकान पर मर्दों की शेविंग और चंपी करने वाली ये लड़कियां उनके लिए मिसाल है, जो आज भी खुद को पुरूषों से कम आंकती हैं।

 

विज्ञापन के जरिए बताई कहानी

26 अप्रैल को जिलेट (ब्लेड कंपनी) ने अपने यूट्यूब पेज पर एक विज्ञापन (Ad) दिया था, जिसके जरिए 'लड़के तो लड़के ही रहेंगे' जैसे धारणाओं को चुनौती थी। यह विज्ञापन उन दो लड़कियों की कहानी पर अधारित था, जो बचपन से नाई का काम संभाल रही है। इंटरनेट पर जमकर वायरल हुए इस एड को लेकर कई विवाद भी खड़े हुए थे।

PunjabKesari

वीडियो में पुराने वक्त से चले आ रहे महिलाओं और पुरुषों के अलग-अलग काम को दिखाया गया है। मसलन पुरुष कुश्ती करते हैं, व्यापार पर उन्हें हक मिलता है तो महिलाओं के जिम्मे पानी लाना और चूल्हा-चौका जैसे काम हैं। इस विज्ञापन का ध्यान लोगों का ध्यान उन काम की तरफ खींचना है, जो महिलाओं के लिए नहीं बने।

पिता की खराब तबीयत के कारण उठाया उस्तरा

बता दें कि यह दो लड़कियां उत्तर प्रदेश के बनवारी टोला जिले की रहने वाली है। नेहा और ज्योति के पिता ध्रुव नारायण को लकवा मारा था। उस वक्त नेहा की उम्र 11 साल थी और ज्योति की 13 साल। पिता के इलाज और खुद की पढ़ाई के लिए नेहा और ज्योति को नाई का काम शुरू करना पड़ा। पिता ने दुकान का नाम (नेहा ज्योति पार्लर) भी अपनी बेटियों के नाम पर ही रखा है। वह इन दुकान में काम कर ना सिर्फ पिता का ख्याल रख रही हैं बल्कि अपनी पढ़ाई का खर्च भी उठाती हैं।

PunjabKesari

शेविंग से लेकर चंपी तक का करती हैं काम

दोनों लड़कियां ना सिर्फ लड़कों की तरह ड्रैसअप करती हैं बल्कि वह नाई की तरह मर्दों की शेविंग, चंपी और हेयर कट का काम भी करती हैं। उन्होंने बताया कि शुरूआत में उन्हें काफी परेशानी होती थी लेकिन बाद में लोगों ने उन्हें स्वीकार कर लिया।

PunjabKesari

उस्तरे को क्या पता कि चलाने वाला लड़का है या लड़का

बात अगर विज्ञापन की करें तो तो इसमें बताया गया है कि पिता का पेशा लड़के को विरासत में मिलता है। मगर लड़कियों को विरासत में गृहस्थी, रसोई और घर की जिम्मेदारियां दी जाती हैं। इसके बाद एक पिता लड़के के साथ नाई की दुकान में जाता है। वीडियो में दुकान में लड़की को नाई का काम करते देख बच्चा अपने पिता से पूछता है- बापू ये लड़की होकर उस्तरा चलाएगी? इस पर पिता कुछ सोचते हुए जवाब देता है- अरे बेटा उस्तरे को क्या पता कि चलाने वाला लड़का है या लड़की? इसके बाद लड़की शेविंग करनी शुरू कर देती है।

PunjabKesari

PunjabKesari

बॉलीवुड स्टार्स भी कर रहे तारीफ

सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बॉलीवुड सेलेब्स भी उन लड़कियों की तारीफ किए बिना नहीं रह पाए। दंगल गर्ल फातिमा सना शेख, सान्या मल्होत्रा, राधिका आप्टे और हेयरस्टाइलिस्ट आलिम हकीमने उन लड़कियों की जमकर तारीफ की। एक्टर फरहान अख्तर ने लिखा है कि दोनों लड़कियों ने दिल छू लिया। पिता और गांव के लोगों को सलाम, जिन्होंने इनको सपोर्ट किया।

PunjabKesari

इतना ही नहीं, दोनों बच्चियों ने तो करण कुद्रां, फरहान अख्तर और सचिन तेंदुलकर की शेविंग तक की।

PunjabKesari

वहीं एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने भी अपने इंस्टाग्राम पर इनका ये वीडियो शेयर किया है। और इनकी काफी तारीफ भी की है।

सचिन तेंदुलकर ने स्पॉनसर की लड़कियों की पढ़ाई

भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने ना सिर्फ इन लड़कियों के काम को सहारा बल्कि उनकी पढ़ाई का जिम्मा भी अपने सिर पर ले लिया।

PunjabKesari

फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

Related News