17 JANMONDAY2022 7:20:34 AM
Life Style

प्यार के लिए कपूर खानदान की इन बहुओं ने छोड़ा चमकदार करियर,  नहीं टूटने दी परिवार की परंपरा

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 27 Nov, 2021 05:45 PM
प्यार के लिए कपूर खानदान की इन बहुओं ने छोड़ा चमकदार करियर,  नहीं टूटने दी परिवार की परंपरा

कपूर खानदान एक ऐसा परिवार है जिसने  सिनेमा को पीढ़ी दर पीढ़ी अपनाया। कपूर परिवार से बॉलीवुड को कई एक्टर्स से लेकर डायरेक्टर्स और प्रोड्यूसर्स तक मिले हैं। तभी तो इस खानदान का नाम बड़े ही सम्मान से लिया जाता है। एक वक्त था जब यह कहा जाता था कि  कपूर परिवार की बेटियां या बहुएं फिल्मों में काम नहीं करती हैं, लेकिन करीना और करिश्मा ने बॉलीवुड में अपना नाम कमाकर यह साबित कर दिया कि  उनके खानदान में  बहू-बेटियों के इंडस्ट्री में कदम रखने पर रोक नहीं हैं। लेकिन इस परिवार में 3 अदाकाराएं ऐसी भी थी जिन्होंने कपूर खानदान की बहू बनने के लिए अपना चमकदार करियर छोड़ दिया। 

PunjabKesari
गीता बाली ने दी कई हिट फिल्में

सबसे पहले बात करते हैं एक्टर शम्मी कपूर की पत्नी गीता बाली की। गीता ने 12 साल की उम्र में ही अपना करियर शुरू कर दिया था। उनकी डेब्यू फिल्म 'बदनामी' 1946 में रिलीज हुई थी । 1950 तक गीता ने इतनी हिट फिल्में दीं कि वो स्टार बन गईं । अपने जेठ राज कपूर के साथ फिल्म 'बावरे नैन' में भी काम किया था। शम्मी और गीता के बीच  रंगीत रातें के लोकेशन पर प्यार हुआ। शम्मी कपूर उस समय बड़े सितारे नहीं थे जबकि गीता का बहुत नाम था। 

PunjabKesari
गीता को पसंद नहीं करता था कपूर परिवार

 शम्मी उस समय गीता से बहुत प्यार करते थे लेकिन घर वाले इस रिश्ते के खिलाफ थे। काफी कोशिशों के बाद कपूर खानदान इस शादी के लिए राजी हुआ। शाादी के अगले साल दोनों के बेटा हुआ और 5 साल बेटी का जन्म हुआ।  दुर्भाग्य से शादी के सिर्फ 10 साल के बाद स्माल पॉक्स की वजह से 1965 में गीता बाली इस दुनिया से चल बसीं। कहा जाता है कि गीता ने कभी अपने फिल्मी करियर को परिवार से बढ़कर महत्व नहीं दिया और कपूर खानदान की प्रथा को निभाया। 

PunjabKesari

बबीता ने की कामयाब फिल्में

मशहूर एक्ट्रेस बबीता शिवदासानी को कौन नहीं जानता। अपने छोटे से फिल्मी सफर में बबीता ने कई बड़े सितारों के साथ कामयाब फिल्में की।जैसे ही बबीता को दुनिया जानने लगी और जब उनकी मेहनत का असर दिखने लगा तभी उन्हें प्यार हो गया। 1971 में रणधीर कपूर और बबीता की मुलाकात फिल्म ‘कल आज और कल’ की शूटिंग के दौरान हुई थी. रणधीर फिल्म की अभिनेत्री बबीता को अपना दिल दे बैठे और उनसे ही शादी करने की ठान ली। 

PunjabKesari
बेटियों के लिए रणधीर से हुई अलग

कहा जाता है कि बबीता से शादी करने के लिए रणधीर ने अपने परिवार से काफी लड़ाई लड़ी थी। दोनों की शादी तो हो गई लेकिन बबीता का करियर काफी  पीछे रह गया। बबीता ने तो अपना फिल्मी करियर छोड़ दिया था, लेकिन वो अपनी बेटियों को एक्ट्रेस बनाना चाहती थीं. इस बात के लिए रणधीर कपूर तैयार नहीं थे लेकिन बबीता ने फैसला कर लिया था। बेटियों का करियर बनाने की वजह से बबीता को 19 साल तक रणधीर से अलग रहना पड़ा था। 

PunjabKesari
 फिल्म इंडस्ट्री में नीतू कपूर का था बोलबाला

70-80 के दशक में फिल्म इंडस्ट्री में नीतू कपूर का बोलबाला था। एक्ट्रेस ने साल 1973 में फिल्‍म रिक्‍शावाला से अपने करियर का डेब्यू किया था. उस वक्त एक्ट्रेस महज 15-16 साल की थीं.  इस फिल्म में ऋषि कपूर के बड़े भाई रणधीर कपूर उनके अपोजिट नजर आए। उसके बाद नीतू  ने यादों की बारात, खेल-खेल में, कभी कभी, धरम वीर जैसी कई सुपरहिट फिल्में दी। 

PunjabKesari
सभी ने नभाई खानदान की परंपरा

जब ऋषि के साथ उन्होंने शादी का फैसला किया तो उनकी उम्र सिर्फ 21 साल की थी  नीतू कपूर के सामने 2 चॉइस थी...पहली की या तो वो अपने प्यार को अलविदा कहे या फिर करियर को। उन्होंने प्यार को चुना और छोड़ दिया अपना करियर।  ​वैसे तो नीतू कपूर ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने अपनी मर्जी से करियर छोड़ा था, मगर हम इस बात को झुठला नहीं सकते है कि कपूर खानदान की परंपरा को करिश्मा कपूर और करिना कपूर से पहले तक कि सभी औरतें निभा रही थी। 
 

Related News