14 OCTMONDAY2019 11:14:53 AM
Nari

Weight Loss: इन 5 हैल्थ प्रॉब्लम्स की वजह से भी नहीं कम होता वजन

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 01 Oct, 2019 02:02 PM
Weight Loss: इन 5 हैल्थ प्रॉब्लम्स की वजह से भी नहीं कम होता वजन

जिम में घंटों वर्कआउट करने के बावजूद कई लोगों की शिकायत रहती है कि उनका वजन कम नहीं हो रहा है। इसका कारण आपकी खराब पाचन क्रिया हो सकती है। जी हां, आपका पाचन स्वास्थ्य भी वजन घटाने की प्रक्रिया में अहम भूमिका निभाता है। अगर आपका पाचन सही नहीं होगा तो आप लाख कोशिश करने के बावजूद भी अपना वजन नहीं घटा पाएंगे।

आज हम आपको पाचन क्रिया से जुड़ी कुछ ऐसी बीमारियों से बारे में बताने जा रहे हैं, जो वजन घटाने में बाधा बन सकती हैं।

गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज

GERD (गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज) ऐसी ऐसी प्रॉब्लम है, जिसमें पित्त (खाना पचाने में मदद करने वाला लिक्विड) खाने की नली की तरफ आने लगता है। वहीं इसके कारण सीने के निचले हिस्से में दर्द और जलन भी होती है। इस समस्या से जूझ रहे लोगों को अधिक खाना खाने से आराम मिलता है, जिसके कारण वो जरूरत से ज्यादा खाने की आदत में फंस जाते हैं और चाहकर भी वजन नहीं घटा पाते।

PunjabKesari

पेट में छाले

पेट और छोटी आंत की अंदरूनी परत में होने वाले छोटे-छोटे छाले भी आपकी वेट लूज प्रक्रिया में बाधा डालते हैं। इसके कारम पेट में एसिड का उत्पादन ज्यादा होता है, जिससे आपकी भूख बढ़ जाती है। अब अगर आप लगातार खाना खाते रहेंगे तो भला वजन कम कैसे होगा?

जरूरत से ज्यादा बैक्टीरिया बढ़ना

हमारी आंतों में अच्छे व बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया होते हैं। अच्छे बैक्टीरिया सूजन को कम करने में मदद करते हैं वहीं बुरे बैक्टीरिया बीमारियों का कारण बनते हैं। जब शरीर में बुरे बैक्टीरिया बढ़ जाते हैं तो मीथेन गैस का उत्पादन बढ़ जाता है। इससे छोटी आंत की गतिविधियां धीमी हो जाती है, जिससे इंसुलिन व लेप्टिन सिस्टम भी प्रभावित होता हैं। इससे भूख बढ़ जाती है और वजन घटाने में भी दिक्कत होती है।

PunjabKesari

पुरानी बीमारियां

अगर आप लंबे समय से पेट, गर्भाश्य या आंत से जुड़ी किसी बीमारी से जूझ रहे हैं तो भी आपको वजन घटाने में दिक्कत हो सकती है। वहीं अगर आपका स्टेरॉयड उपचार चल रहा है तो भी आपको वेट लूज में प्रॉब्लम हो सकती है। यह स्टेरॉयड कार्बोहाइड्रेट की भूख को बढ़ा सकते हैं, जिसके कारण आपको ज्यादा भूख लगती और वजन भी बढ़ सकता है।

इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम

इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (IBS) खाद्य संवेदनशीलता और अच्छे बैक्टीरिया के असंतुलन में मदद करता है। इसके कारण कब्ज, दस्त, गैस, सूजन, पेट दर्द और क्रैम्पिंग हो सकती है, जो वजन बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News