23 SEPMONDAY2019 6:39:10 PM
Nari

Women Care: रोज दिखते हैं ये 6 लक्षण तो मामूली समझकर न करें नजरअंदाज

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 28 Aug, 2019 04:14 PM
Women Care: रोज दिखते हैं ये 6 लक्षण तो मामूली समझकर न करें नजरअंदाज

महिलाएं दिनभर काम में इतना बिजी रहता हैं कि अपनी सेहत की तरफ ध्यान ही नहीं देती। जागरूकता के अभाव में थकान, सुस्ती, दर्द, सर्दी-जुकाम और बुखार जैसे कुछ लक्षणों की ओर महिलाओं का ध्यान ही नहीं जाता, जो कभी-कभी किसी गंभीर बीमारी का संकेत दे रहे होते हैं। अगर इन संकेतों को समय रहते पहचान लिया जाए तो कई गंभीर बीमारियों से बचा जा सकता है।

आज हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में ही बता रहे हैं, जिन्हें पहचान कर उनसे संबंधित बीमारियों को किया जा सकता है।

1. बेवजह थकान

क्या आपको भी कई बार मेहनत किए बिना भी हमेशा सुस्ती महसूस होती है? अगर हां तो यह एनीमिया, हाइपोथायरॉडिज्म या विटमिन डी की कमी का संकेत हो सकता है।

PunjabKesari

क्या करें?

-सीबीसी यानी टोटल ब्लड काउंट और टी-3, टी-4 और टी-एसएच की जांच करवाएं। इससे खून में हीमोग्लोबिन लेवल और थायरॉक्सिन हॉर्मोन के सही स्तर का पता चल जाता है।
-अगर एनीमिया की समस्या हो तो अपने आहार में आयरन युक्त फूड्स जैसे चना, गुड़, खजूर, चुकंदर, केला, सेब, अनार और हरी पत्तेदार सब्जि़यां लें।
-थायरॉयड ग्लैंड से जुड़ी हो तो डॉक्टर से सलाह लेकर दवा और हेल्दी डाइट लें। साथ ही रोजाना एक्सरसाइज करें।
-हर 6 महीने के अंतराल पर जांच करवाती रहें।
-विटमिन डी का लेवल कम हो तोरोज 15-20 मिनट गुनगुनी धूप में बैठें। डाइट में मिल्क प्रोडक्ट्स, डाई फ्रूट्स और फिश लें।

2. सीने में दर्द

अक्सर महिलाओं को सीने में दर्द या सीढिय़ां चढ़ते व उतरते समय सांस फूलने की शिकायत रहती है। यह दिल के रोग का संकेत हो सकता है।

PunjabKesari

क्या करें?

-ऐसे लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें और कोलेस्ट्रॉल लेवल की जांच करवाएं।
-अगर कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ गया है तो घी-तेल, मक्खन, मिर्च-मसाले से दूर रहें।
-अल्कोहॉल या सिगरेट पीने से बचें।
-ईसीजी (ECG) या एंजियोग्राफी टेस्ट करवाएं। 
-रोजाना नियमित एक्सरसाइज और मॉर्निंग वॉक करें।
-वजन को कंट्रोल में रखें और डाइट में फल, सब्जियां ज्यादा लें।

3. बार-बार भूख लगना

अगर आपको भी भूख ज्यादा लगती है और दिन में नींद आती है तो अनदेखा ना करें। अधिक भूख, प्यास, नींद और बार-बार टॉयलेट आना डायबिटीज की ओर इशारा करते हैं।

PunjabKesari

क्या करें?

-शुगर लेवल की जांच कराएं और डॉक्टर द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करें।
-डाइट में वही चीजें लें, जिससे शुगर लेवल कंट्रोल में रहे।
-चावल, आलू, चीनी, मैदा, जंक फूड, सॉफ्ट ड्रिंक्स और अल्कोहल से दूर रहें।
-नियमित एक्सरसाइज और वॉक करें।

4. भूलने की आदत

आजकल औरतों में यह समस्या भी काफी देखने को मिल रही है की वो अपनी चीजों को इधर-उधर रखकर भूल जाती है। यह डिमेंशिया जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारी का भी लक्षण हो सकता है। इसके अलावा विटमिन बी-12 की कमी से औरतों को यह समस्या हो सकती है।

PunjabKesari

क्या करें?
-सबसे पहले तो किसी अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाएं। साथ ही विटमिन बी-12 की जांच करवाएं।
-अगर शुरुआती दौर में उपचार मिल जाए तो इस समस्या को आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है।
-डाइट में मिल्क प्रोडक्ट्स, मशरूम, चिकेन या रेड मीट को शामिल करें।
-एक्सरसाइज और योग के साथ दिनभर में कम से कम 8-9 गिलास पानी भी पीएं।

5. घुटनों से आवाज निकलना

चलते समय घुटनों से निकलने वाली आवाज़ ऑस्टियो ऑथ्र्राइटिस का संकेत देती है। वैसे तो यह समस्या किसी को भी हो सकती है पर मेनोपॉज़ के बाद स्त्रियों में इसकी आशंका बढ़ जाती है। मोटापा भी इसकी एक प्रमुख वजह है।

PunjabKesari

क्या करें?

सबसे पहले अस्थि रोग विशेषज्ञ से सलाह लें। उसके सभी निर्देशों का पालन और दवाओं का नियमित सेवन करें। कैल्शियम के पोषण के लिए अपनी डाइट में मिल्क प्रोडक्ट्स की मात्रा बढ़ाएं, सब्जि़यों, फलों और स्प्राउट्स को अपने आहार में नियमित रूप से शामिल करें। एक्सरसाइज़ और संतुलित खानपान से बढ़ते वज़न को नियंत्रित करें।

6. सेहत का अलार्म हैं खर्राटे

खर्राटे को गहरी नींद समझकर महिलाएं उसे इग्नोर कर देती हैं लेकिन यह खराब सेहत का लक्षण है। सांस की नली में रुकावट, नाक की हड्डी की संरचना में गड़बड़ी, सांस की नली में कमजोरी आदि इसकी प्रमुख वजहें हैं। इसके अलावा स्लीप एप्निया और मोटापे के कारण भी खर्राटे आने की समस्या हो सकती है।

PunjabKesari

क्या करें?

-इससे छुटकारा पाने के लिए एक्सरसाइज और योग का सहारा लें।
-डाइट में हेल्दी चीजें जैसे फल, सब्जियां, नट्स आदि शामिल करें। साथ ही जंक फूड्स, मसालेदार भोजन और मीठे से दूर रहें।
-अगर नाक की हड्डी बढऩे की समस्या हो तो ईएनटी एक्सपर्ट से सलाह लें।
-अगर ज्यादा परेशानी हो तो स्लीप स्पेशलिस्ट या पल्मेनोलॉजिस्ट से मिलकर उपचार जरूर करवाएं।  

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News