18 APRSUNDAY2021 6:22:36 AM
Nari

गठिया की दवा से कोरोना का खतरा होगा कम, बुजुर्गों के लिए ज्यादा फायदेमंद

  • Edited By Bhawna sharma,
  • Updated: 17 Nov, 2020 12:45 PM
गठिया की दवा से कोरोना का खतरा होगा कम, बुजुर्गों के लिए ज्यादा फायदेमंद

कोरोना वायरस की चपेट में अब तक लाखों लोग आ चुके हैं। वहीं बदलता मौसम और चिंता बढ़ा रहा है। कोरोना से निजात पाने के लिए देश दुनिया के तमाम वैज्ञानिक इसकी वैक्सीन पर काम रहे हैं। वहीं कोरोना अस्‍थमा, डायबिटीज, हृदय रोग से पीड़‍ित व बुजुर्ग लोगों को जल्दी इफेक्ट करता है। इसलिए बुजुर्गों को खासकर जो 50-60 की उम्र पार कर चुके हैं, उनसे सोशल डिस्टेंस की अपील की जा रही हैं। इसी बीच एक अध्ययन में सामने आया है कि गठिया के उपचार में काम आने वाली दवा कोरोना से संक्रमित बुजुर्ग मरीजों को बचा सकती है। 

PunjabKesari

गठिया की दवा बुजुर्गों के लिए कारगर

खबरों की मानें तो कोरोना वायरस के खिलाफ यह एक नया हथियार मिल जाएगा जो बुजुर्ग मरीजों के मरने के जोखिम को कम कर सकती है। पत्रिका साइंसेज एजवांसेज में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक 81 साल के औसत आयु के 83 मरीजों को बैरीसिटनिब नाम की दवाई दी गई थी। ये मरीज मध्यम से गंभीर कोरोना वायरस से संक्रमित थे। अध्ययन में सामने आया है कि जिन मरीजों को यह दवा दी गई उनमें दूसरे मरीजों की तुलना में मौत का खतरा 71 फीसद घट गया। 

PunjabKesari

बड़े पैमाने पर किया जा रहा क्लीनिकल परीक्षण 

इसके अलावा अध्ययन में ये भी सामने आया है कि जिन मरीजों को यह दवा दी गई थी उनमें 17 फीसद की मौत हुई या उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखने की जरूरत पड़ी। जबकि इस दवाई का सेवन का नहीं करने वाले मरीजों में इस स्थिति से गुजरने वाले 35 फीसद थे। अनुसंधान दल का कहना है कि इस निष्कर्ष को बड़े पैमाने पर क्लीनिकल परीक्षण में टेस्ट किया जा रहा है।

PunjabKesari

वहीं हाल ही में बायोटेक कंपनी मॉडर्ना (Moderna) की ओर से एक खुशखबरी आई है। दरअसल, कंपनी का दावा है कि उनकी वैक्सीन कोरोना से लड़ने में 94.5% तक कारगर है। बायोटेक ने वैक्सीन के परीक्षण के दौरान आधे लोगों को 28 दिन तक वैक्सीन की डोज दी थी। वहीं आधे लोगों को उसी दौरान प्लेसिबो (नकली वैक्सीन) के दो डोज दिए गए थे। क्लीनिकल ट्रायल के विश्लेषण के आधार पर कंपनी ने कहा कि उनकी वैक्सीन ने 94.5% तक असर दिखाया।

Related News