Twitter
You are hereNari

तेजी से फैलता 'Nipah' वायरस,लक्षण पहचानें और करें तुरंत बचाव

तेजी से फैलता 'Nipah' वायरस,लक्षण पहचानें और करें तुरंत बचाव
Views:- Tuesday, May 22, 2018-11:42 AM

निपाह वायरस एक तरह का संक्रमित रोग है। मेडिकल टर्म में इसे NiV भी कहा जाता है। यह वायरस एक जानवर से फलों में और फलों के जरिए व्यक्तियों में फैलता है। इस गंभीर संक्रमण की चपेट में आने से इंसान की मौत भी हो सकती है। सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि अभी तक इस बीमारी का कोई स्टिक इलाज भी नहीं हैं। बचाव के जरिए ही इससे दूर रहा जा सकता है।

 

कहां से शुरू हुआ यह वायरस 
केरल में एक ही परिवार के तीन लोगों की निपाह वायरस की मौत हो गई है। भारत में इस वायरस का मामला पहली बार नहीं बल्कि इससे पहले साल  2001 के जनवरी और फरवरी माह में पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी में दर्ज किया गया था। इस साल में लगभग 66 लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ गए थे, जिनमें से 45 लोगों की मौत भी हो गई थी। इसके बाद 2007 में पश्चिम बंगाल के नदिया में निपाह वायरस का दूसरा मामला दर्ज किया गया था। अब हाल ही में केरल से आए निपाह वायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं और सरकार भी इस विषय को लेकर चिंता में है। केन्द्र की तरफ से इससे बचने के लिए कोशिशे तेजी से शुरू कर दी गई हैं। 


निपाह वायरस का मामला सबसे पहले सिंगापुर और मलेशिया में 1998 -1999 में सामने आया था। सिंगापुर में इस वायरस के कारण एक व्यक्ति की मौत हो जाने पर उसके गांव कांपुंग सुंगई निपाह के नाम से ही इस संक्रमण का नाम भी निपाह वायरस रख दिया गया। 2004 में बांग्लादेश में भी इसके मामले सामने आए थे। 

PunjabKesari

क्या है निपाह वायरस
यह वायरस जानवरों से इंसानों में फैलता है यानि निपाह वायरस चमगादड़ से फलों में और फलों से इंसानों और जानवरों में फैलता है। इस जानलेवा वायरस की चपेट में आने से इंसान को गंभीर परेशानियों से भी गुजरना पड़ सकता है। यह खतरनाक वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलने का भी डर रहता है। खजूर के खेतों में काम करने वालों में भी निपाह वायरस फैलने का खतरा ज्यादा होता है।जिससे मौत भी हो सकती है। 

 

PunjabKesari
निपाह वायरस के लक्षण
निपाह वायरस की चपेट में आने वाले इंसान में एन्सेफलाइटिस सिड्रोम के जरिए यह वायरस तेजी से फैलता है। जिससे तेज बुखार,दिमाग या सिर में तेज जलन,दिमाग में सूजन और दर्द,मानसिक भ्रम, सांस लेने में परेशानी होती है। संक्रमण बढ़ने से मरीज कोमा में भी जा सकता है, इसके बाद इंसान की मौत हो जाती है।  

PunjabKesari

निपाह वायरस से बचाव के तरीके
अब तक हुई जांच के मुताबिक इस वायरस से बचने के लिए कोई वैक्सीन अभी नहीं बनी है लेकिन कुछ बातों का ख्याल रखकर ही खुद का बचाव किया जा सकता है। इसके लिए वायरस के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। खजूर की खेती करने वालो में यह संक्रमण तेजी से फैलता है। 

1. खजूर के फल को खाने से परहेज करना चाहिए। 
2. पेड़ से गिरे फल को नहीं खाना चाहिए। 
3. निपाह के संक्रमित रोगी से दूरी बनाए
4. सुअर और चमगादड़ों से दूर रहें।

 

 
तेज दिमागी बुखार से कोमा में पहुंचा सकता है Nipah वायरस, खुद का रखें यूं बचाव

तेज दिमागी बुखार से कोमा में पहुंचा सकता है #Nipah वायरस, खुद का रखें यूं बचाव #NipahVirus #Symptoms #Treatment #HealthCare #Healthandsafety #Fever #Fruitbats

Posted by Nari on Tuesday, May 22, 2018

 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP