27 MAYWEDNESDAY2020 4:07:57 PM
Nari

वजन घटाने के लिए ले रहे हैं Low-Carb डाइट तो पहले जान लें ये बातें

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 17 Jul, 2019 11:33 AM
वजन घटाने के लिए ले रहे हैं Low-Carb डाइट तो पहले जान लें ये बातें

तेजी से वजन घटाने के लिए आजकल लोगों में Low-Carb डाइट का क्रेज खूब देखने को मिल रहा है। लोग मोटापा घटाने और डायबिटीज और मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम जैसी से बचने के लिए यह डाइट लेते हैं। हालांकि इस लोकप्रिय डाइट के कई मिथक है, जो हर किसी को पता होने चाहिए। चलिए आज हम आपको लो-कार्ब डाइट से जुड़ी कुछ ऐसी बातें बताते हैं, जो हर किसी के लिए जानना जरूरी है।

 

क्‍या है Low-Carb Diet?

लो-कार्ब डाइट में कार्बोहाइड्रेट सबसे कम और हाई फैट डाइट ली जाती है, ताकि शरीर को कीटोसिस स्थिति में लाया जा सके। यह शरीर की ऐसी मेटॅबॉलिक स्थिति है, जिसमें शरीर ब्लड गुल्कोस (कार्बोहाइड्रेट) की बजाए फैट के टुकड़ों को तोड़ कर एनर्जी के रूप में इस्तेमाल करता है। ऐसा तब होता है जब आप एक दिन में 40 ग्राम से भी कम कार्बोहाइड्रेट डाइट लेते है। इस स्थिति में आपका दिमाग भी फैट से मिली एनर्जी से चलता है। इसमें कोई कार्बोहाइड्रेट और चीनी नहीं होती।

PunjabKesari

चलिए अब हम आपको इस डाइट से जुड़े कुछ ऐसे मिथ बताते हैं, जो हर किसी को पता होने चाहिए...

मिथ: हर किसी को फायदा पहुंचाती है लो-कार्ब डाइट

कई अध्ययनों में पाया गया है कि कार्ब डाइट लेने से वजन कम करन में मदद मिलती है लेकिन जरूरी नहीं कि यह डाइट हर किसी के लिए फायदेमंद हो। एथलीट या जो लोग ज्यादा एक्टिव रहते हैं उन्हें कार्बोहाइड्रेट की अधिक जरूरत होती है। ऐसे में उनके लिए यह डाइट लेना हानिकारक हो सकता है।

मिथ: सभी कार्ब होते हैं सही

रिफाइंड कार्ब्स आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती हैं, यह धारणा सभी कार्ब्स के लिए सही नहीं है। जैसे कि उबले हुए आलू कार्ब्स के साथ फाइबर भी देते हैं लेकिन आलू टिप्स का सेवन सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। ऐसे में उन्हें कार्ब फूड्स का सेवन करें जो ज्यादा प्रोसेस्ड ना हो।

PunjabKesari

मिथ: कम-कार्ब आहार केवल केटोजेनिक होना चाहिए

किटोजेनिक डाइट में प्रतिदिन लगभग 50 ग्राम कार्ब्स लेने होते हैं जबकि इसमें हाई फैट अधिक मात्रा में लेने होते हैं। हालांकि यह डाइट वेट लूज, डायबिटीज और मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति के लिए फायदेमंद हो सकता है लेकिन सभी के लिए नहीं। ऐसे में लो कार्ब डाइट लेने से पहले अपने डाइटिशियन से सलाह जरूर लें।

मिथ: गाजर जैसे पदार्थ में होते हैं हानिकारक कार्ब्स

कुछ लोगों को लगता है कि इस डाइट में गाजल और फलों का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि उसमें हानिकारक कार्ब्स होते हैं। मगर आपकी यह धारणा पूरी तरह गलत है। भले ही फल व सब्जियों में कार्ब अधिक मात्रा में हो लेकिन वो शरीर को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाता।

PunjabKesari

अगर आप भी वजन घटाने या किसी अन्य कारण से Low-Carb Diet डाइट लेने की सोच रहे हैं तो आहार में बदलाव करन से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News