Twitter
You are hereNari

5 तरह का होता है नमक, जानिए आपके लिए कौन-सा है बेस्ट?

5 तरह का होता है नमक, जानिए आपके लिए कौन-सा है बेस्ट?
Views:- Wednesday, December 26, 2018-7:08 PM

नमक हमारे भोजन का एक अहम हिस्‍सा है क्योंकि इसके बिना भोजन स्वादहीन है। सिर्फ टेस्ट ही नहीं बल्कि स्वास्थ के लिए भी नमक का सेवन बहुत जरूरी है।  ज्यादातर रसोई में सफेद जिसे हम सादा नमक भी कहते हैं , का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन नमक भी कई तरह का होता है और इन सबसे आपको फायदे भी अलग-अलग मिलते हैं हालांकि नमक आपको फायदे की जगह नुकसान भी दे सकता है जब आप जरूरत से ज्यादा इसका इस्तेमाल करते हैं। 

दिन में कितना नमक खाएं

डब्ल्यूएचओ (WHO) के अनुसार, एक दिन में 5 ग्राम से ज्याद नमक का सेवन नहीं करना चाहिए ज्यादा सेवन आपको मोटापा, झुर्रियां, हाइपरटेंशन, कैंसर, गुर्दे में पथरी, तनाव, उच्च रक्तचाप, दिल बीमारियां दे सकता है इसलिए नियमित मात्रा में ही नमक का सेवन करें तो अच्छा है।

नमक के 5 प्रकार व फायदे

सादा नमक-आयोडीन का अच्छा स्त्रोत

बाजार में पैकेट के रूप में मिलने वाला नमक हर घर में इस्तेमाल किया जाता है। सादा नमक आयोडीन का भी एक अच्छा स्त्रोत है। इसकी कमी होने पर थाॅयराइड होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। 

PunjabKesari

सेंधा नमक-पाचन तंत्र रखे सही

सेंधा नमक को विशेष रूप से व्रत में खाया जाता है। यह रंगहीन या सफेद होता है लेकिन इसका रंग हल्का नीला, गाढ़ा नीला, जामुनी, गुलाबी, नारंगी, पीला या गुलाबी भी हो सकता है। आयुर्वेद में इस नमक को सबसे अच्छा माना गया है। इसमे कई प्रकार के खनिज और लवण पाए जाते हैं जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाते हैं। इसके अलावा कोलेस्टाॅल, तनाव, ज्वाॅइंटस पेन, साइनस व अस्थमा आदि को भी कंट्रोल करते हैं।

PunjabKesari

काला नमक- एसिडिटी से राहत

भोजन में कई लोग काला नमक का भी अधिक प्रयोग करते हैं। इसमें सोडियम क्लोराइड, सोडियम सल्फेट, आयरन सल्फाइड, हाइडोजन सल्फाइड भरपूर मात्रा में होता है। आयरन सल्फाइड के कारण इसका गहरा बैंगनी रंग दिखता है और सल्फर लवण के कारण इसका स्वाद अलग होता है। आयुर्वेदिक के अनुसार इसे ठंडी तासीर का मसाला माना जाता है। इसका सेवन करने से खाना अच्छे से पच जाता है और पेट की गैस व जलन से राहत मिलती है। इसके अलावा अस्थमा, सीने में जलन, हाई कोलेस्टाॅल, आस्टियोपोरोसिस आदि के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

PunjabKesari

सी साल्ट-ब्यूटी से जुड़े कई फायदे 

इसे समुद्री नमक कहा जाता है। यह सीधे समुद्र के पानी से बनाया जाता है। इसका इस्तेमाल रोज नहीं किया जाता। सी साल्ट इम्युन सिस्टम को मजबूत, दिल को दुरूस्त, हड्डियों को मजबूत बनाने, पाचन तंत्र को बेहतर बनाने और डायबिटीज को कंट्रोल करने का काम करता है। इसमे एल्यूमीनियम सिलिकेट और पोटेशियम आयोडेट जैसे हानिकारक रसायन होते हैं। इन दोनों रसायनों का स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता हैं इसलिए कुछ देशों में समुद्री नमक पर प्रतिबंध लगा दिया गया है लेकिन इस साल्ट को आप ब्यूटी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। 

थकान करें दूर 

दिनभर की थकान दूर करने के लिए सादे गुनगुने पानी में नमक डालें और इस पानी से नहाएं। मांसपेशियों की ऐंठन दूर करने व दिनभर की थकान दूर करने के लिए इसका इस्तेमाल करें। 
 

पिंक साॅल्ट- वेरिकॉज वेन्स व थकान करें दूर 

पिंक साॅल्ट को हिमालयन नमक भी कहा जाता है। इसे एक हेल्दी नमक के रूप में जाना जाता है। इस नमक में मौजूद आयरन के कारण इसका रंग गुलाबी है। इसमें 92 फीसदी खनिज पाए जाते हैं जो मांसपेशी की ऐंठन को कम करने के साथ-साथ कोशिकाओं में पीएच स्तर को बेहतर बनाने का काम करता है।  हिमालय नमक आयोडीन के साथ आयरन का भी अच्छा स्त्रोत माना जाता है।

ओरल हैल्थ 

इस नमक का कुल्ला करने से ओरल हेल्थ में सुधार होता है। सर्दी-खांसी से पीड़ित लोगों को भी इसी नमक का कुल्ला करना चाहिए, इससे फेफड़े साफ होते हैं। 

वजन कंट्रोल रखना

वजन कंट्रोल रखना चाहते हैं तो यह नमक आपके लिए बेस्ट है। साथ इससे मांसपेशियों की ऐंठन भी कम होती है।

वेरिकॉज वेन्स व पैरों की सूजन

हिमालय नमक वेरिकॉज वेन्स और टखनों व पैरों की सूजन के रोकथाम में मदद करता है। इसे खाने से शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स का सही संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है।

 

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
Edited by: