23 OCTWEDNESDAY2019 12:46:11 AM
Nari

Child Care :बच्चे की सेहत नहीं बनने देता सूखा रोग, जानिए लक्षण और बचाव

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 29 Jun, 2019 04:16 PM
Child Care :बच्चे की सेहत नहीं बनने देता सूखा रोग, जानिए लक्षण और बचाव

कई बार बच्चों के सब कुछ खाने के बावजूद उनकी सेहत नहीं बनती। ऐसे में माता-पिता का चिंता करना जायज है। यदि आपके बच्चे में इस तरह के लक्षण हों तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं क्योंकि हो सकता है शायद आपका बच्चा क्षय रोग यानि सूखे रोग का शिकार हो। डॉक्टर को दिखाने के साथ आप घर पर भी कुछ उपायों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या है सूखा रोग? 

यह रोग शरीर में विटामिन डी, फॉस्फेट और कैल्शियम की कमी से होता है। क्षय रोग एक ऐसी स्थिति है जब बच्चों की हड्डियां नरम और कमजोर होने लग जाती हैंऔर कमजोर हड्डियों के साथ बच्चों का विकास रुक जाता है। 

PunjabKesari

सूखा रोग होने का कारण

सूखा रोग 36 महीने की उम्र से लेकर 6 वर्ष की उम्र तक के बच्चों में आम हैं। यह उन क्षेत्रों में बहुत आम है जहां कम धूप होती है और बच्चे सिर्फ शाकाहारी भोजन खाते हैं। क्षय या सूखा रोग हमेशा पोषक तत्वों की कमी का परिणाम नहीं होता, यह गलत पोषक तत्वों या संक्रमण के कारण पोषक तत्वों को अवशोषित या संसाधित करने में असमर्थता के कारण भी हो सकता है। 

इससे बचने के घरेलू उपाय

सूखा रोग होने पर बच्चा दिन-प्रतिदिन निर्बल होता चला जाता है। उसके हाथ-पांव सूख जाते हैं। पेट बढ़कर आगे की ओर निकल आता है। विशेषज्ञों का कहना है कि कुपोषण अथवा सन्तुलित आहार के अभाव में इस रोग की उत्पत्ति होती है।

PunjabKesari

पपीता

बच्चे को सुबह-शाम दो-दो चम्मच की मात्रा में पपीते का रस निकालकर पिलाना चाहिए। 

जामुन और सिरका

एक चम्मच जामुन का रस आधा चम्मच सिरके में मिलाकर चार खुराक बना लें। इसे दिनभर में बच्चे को चार बार पिलाएं।

बैंगन

बच्चे को लम्बे बैंगन की सब्जी चने की रोटी के साथ खिलानी चाहिए।

पीपल और सौंफ

छोटी पीपल को सौंफ के अर्क में घिसकर बच्चें को चटाने से उसकी पाचन तंत्र प्रणाली स्ट्रांग बनती है। 

मकोय और कपूर

मकोय के पत्तों का रस एक चम्मच लेकर उसमें दो रत्ती कपूर मिला लें। इसकी दो खुराक करके सुबह-शाम चटाएं।

अपामार्ग और दही

दो रत्ती अपामार्ग का क्षार दही में मिलाकर बच्चे को खिलाने से इस बिमारी में लाभ मिलता है। 

Related News