21 APRWEDNESDAY2021 9:44:36 PM
Nari

वाह! नौकरी के लिए पति को मंडप में छोड़ काउंसलिंग में पहुंची दुल्हन, सरकारी टीचर बन लौटी वापिस

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 05 Dec, 2020 02:12 PM
वाह! नौकरी के लिए पति को मंडप में छोड़ काउंसलिंग में पहुंची दुल्हन, सरकारी टीचर बन लौटी वापिस

शादी का दिन लड़के और लड़की दोनों के लिए बहुत खास होता है। खासकर लड़की इस दिन के लिए हजारों सपने देखती है। हालांकि कुछ लड़कियां तो शादी के लिए अपनी जॉब तक को छोड़ देती हैं लेकिन हाल ही में उत्तर प्रदेश से एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे यह पता चलता है कि एक लड़की के लिए अगर शादी जरूरी है तो उतनी ही जॉब भी। इसलिए तो यह दुल्हन अपनी शादी की रस्में छोड़ सीधे काउंसलिंग सेंटर जा पहुंची। 

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरें

PunjabKesari

दरअसल हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के गोंडा की रहने वाली प्रज्ञा की। जिसके लिए शादी के साथ-साथ नौकरी भी जरूरी थी और इसी लिए वह शादी की रस्में छोड़ नौकरी लेने पहुंच गई। हाथों में मेंहदी, कलाई में चूड़ीयां, मांग में सिंदूर और हाथों में कागज पत्र लिए इस दुल्हन की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। 

दरअसल प्रज्ञा के शादी वाले दिन ही बीएसए दफ्तर में काउंसिलिंग थी ऐसे में प्रज्ञा बिना समय गवाए बीएसए दफ्तर पहुंच गईं लेकिन इस दौरान प्रज्ञा का पति मंडप में ही बैठा रहा। 

नौकरी वापिस लेकर लौंटी घर 

PunjabKesari

दरअसल प्रज्ञा की शादी बुधवार को थी और वह 5 फेरों के बाद सीधे बीएसए दफ्तर पहुंच गई। काउंसलिंग का समय फिक्स था इसलिए प्रज्ञा ने बाकी रस्में छोड़ दी और अपने कागज-पत्र लेकर नौकरी के लिए निकल पड़ी। वहां लाइन में लग प्रज्ञा ने अपने कागज पत्र चेक करवाए। शादी की खुशी तो प्रज्ञा को थी ही साथ ही जब उसके हाथ नौकरी लगी तो प्रज्ञा की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।  नौकरी मिलने के बाद प्रज्ञा ने वापिस जाकर शादी की सारी रस्में पूरी की। 

मेरे लिए करियर बहुत मायने रखता है : प्रज्ञा

प्रज्ञा की मानें तो उसके लिए करियर बहुत महत्व रखता है। यही कारण है कि उन्होंने शादी की रस्मों को बीच में छोड़ दिया और काउंसिलिंग के लिए पहुंची। वापिस जाकर जब उन्होंने सारी रस्में पूरी की तो फिर जाकर पति के साथ उनकी विदाई हुई। 

शिक्षक पद पर हुई नियुक्ती

PunjabKesari

आपको बता दें कि प्रज्ञा गोंडा में शिक्षक पद पर नियुक्त हुई हैं। उन्होंने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया। वहीं  प्रज्ञा  ने यह भी कहा कि हर लड़की को पढ़ना चाहिए और अपने पैरों पर खडे़ होना चाहिए। 

सच में  प्रज्ञा के इस जज्बे को हम सलाम करते हैं।  प्रज्ञा  की इस सोच को आज सभी लड़कियों को अपनाना चाहिए ताकि वह भी सशक्त बन सकें। ऐसी ही प्रेरणादायक खबरों के लिए जुड़े रहिए नारी के साथ। 

Related News