30 SEPWEDNESDAY2020 12:39:30 PM
Nari

प्लास्टिक नहीं, कांच की बोतल में दूध पिलाना है शिशु के लिए फायदेमंद

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 06 Aug, 2020 01:35 PM
प्लास्टिक नहीं, कांच की बोतल में दूध पिलाना है शिशु के लिए फायदेमंद

नवजात शिशु को 6 महीने तक मां का दूध जरूरी होता है लेकिन उसके बाद माएं बोतल से बच्चे को दूध पिलाना शुरू कर देती हैं। पहले बच्चों को दूध पिलाने के लिए स्टील या कांच की बोतलें यूज की जाती थी लेकिन अब मार्केट में प्लास्टिक की बोतले मौजूद है। मॉडर्न वैरायिटीज और प्रिंट्स वाली प्लास्टिक की बोतलें भले ही अट्रैक्टिव हो लेकिन यह शिशु की सेहत के लिए सही नहीं। जी हां, प्लास्टिक की बोतलों में शिशु को दूध पिलाना उनकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

क्यों हानिकारक प्लास्टिक की बोतलें?

दरअसल, प्लास्टिक की बोतलों पर बिस्फेनॉल (बीपीए) व अन्य  रासायनिक द्रव्य की कोटिंग की जाती है। जब इसमें गर्म दूध डाला जाता है तो वो द्रव्य उसके जरिए शिशु के शरीर में पहुंच जाते हैं।  यही नहीं, इसमें मौजूद रासायनिक द्रव्य आसानी से साफ नहीं होते, जिससे बोतल के अंदर सूक्ष्म कीटाणु पनपने लगते हैं। धोने या उबालने पर भी यह कीटाणु साफ नहीं होते और पेट के अंदर जाकर इंफैक्शन या बीमारियों का कारण बनते हैं।

PunjabKesari

दिमाग पर पड़ता है असर

प्लास्टिक की बोतल में मौजूद कैमिकल्स से बच्चे के दिमाग और प्रतिरोधक क्षमता पर असर पड़ता है। यही नहीं, यह द्रव्य प्रजनन प्रणाली के लिए भी हानिकारक है।

कांच की बोतलों है ज्यादा फायदे

प्लास्टिक की बजाए कांच की बोतल बच्चे के लिए ज्यादा फायदेमंद होती है। भले ही यह महंगी हो लेकिन इसमें कोई रसायन नहीं होता। यही नहीं, कांच की बोतले आसानी से साफ भी हो जाती है क्योंकि सिर्फ गर्म पानी से धोने पर ही बोतल के सभी कीटाणु मर जाते हैं।

PunjabKesari

बरकरार रहता स्वाद

कांच की बोतलों में दूध ना सिर्फ लंबे समय तक सुरक्षित रहता है बल्कि उसका स्वाद भी खराब नहीं होता। वहीं, यह 80% तक रिसाइकिल हो सकती है।

PunjabKesari

Related News