05 DECSATURDAY2020 2:13:44 AM
Nari

बन गई कोरोना की 'सुपर वैक्‍सीन', जानवरों पर किया गया ट्रायल रहा सफल

  • Edited By Bhawna sharma,
  • Updated: 04 Nov, 2020 05:09 PM
बन गई कोरोना की 'सुपर वैक्‍सीन', जानवरों पर किया गया ट्रायल रहा सफल

जहां एक तरफ कोरोना वायरस का बढ़ता कहर दुनियाभर में तांडव मचा रहा है। वहीं लोगों की नजरें वैक्सीन पर टिकी हुई है। देश के तीन वैक्सीन आखिरी चरण के ट्रायल पर पहुंच चुकी है। वहीं अब अमेरिकी वैज्ञानिकों ने दावा करते हुए कहा है कि उन्होंने कोविड-19 की दमदार वैक्‍सीन बनाई है। जिसके इस्तेमाल सबसे पहले जानवरों पर किया गया है। 

PunjabKesari

जानवरों पर किया गया परीक्षण 

जिन शोधकर्ताओं ने वैक्सीन को बनाने का दावा किया है उनमें यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन के शोधकर्ता भी शामिल हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि इस वैक्सीन को में नैनो पार्टिकल्‍स का इस्तेमाल किया गया है। इसके साथ सबसे पहले जानवरों पर कोरोना की इस वैक्सीन का परीक्षण किया गया था जो सफल रहा है। शोधकर्ताओं का मानना है कि यह वैक्‍सीन कोरोना वायरस से लड़ने के लिए शरीर में कई गुना ज्यादा एंटीबॉडी बनाती है।

PunjabKesari

क्या है स्‍पाइक प्रोटीन? 

शोधकर्ताओं के मुताबिक बंदर पर इस वैक्‍सीन का परीक्षण किया गया। जिसके नतीजे के रुप में सामने आया कि वैक्सीन देने के बाद बंदर के शरीर में बनी एंटीबॉडी ने कोरोना वायरस के स्‍पाइक प्रोटीन पर हमला किया। आपको बता दें कि स्‍पाइक प्रोटीन के जरिए ही वायरस इंसानी कोशिकाओं में पहुंचता है। इसके साथ ही दावा करते हुए वैज्ञानिकों ने कहा कि जब कोरोना वायरस अपना रूप बदलेगा तब भी यह वैक्सीन का असर रहेगा। 

PunjabKesari

इसके अलावा रिसर्च में यह भी सामने आया है कोरोना वैक्सीन की आणविक संरचना कुछ हद तक वायरस की ही नकल करती है। जिस वजह से वैक्‍सीन की इम्‍युन रेस्‍पांस ट्रिगर करने की क्षमता में बढ़ोतरी हुई है। वहीं बताया गया है कि वैक्सीन को बनाने के लिए वायरस के पूरे स्‍पाइक प्रोटीन का यूज नहीं किया गया है।

Related News