22 JULMONDAY2024 1:45:04 AM
Nari

अगर आपको बार-बार हो रही है वैजाइन में इंफेक्शन तो जान लें इसके कारण

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 25 Mar, 2022 10:38 AM
अगर आपको बार-बार हो रही है वैजाइन में इंफेक्शन तो जान लें इसके कारण

गर्मियों में महिलाओं को शिकायत रहती है कि उन्हें बार-बार वैजाइना में इंफेक्शन हो जाती है। रिपोर्ट के अनुसार, 4 में से 3 महिलाएं अपने जीवनकाल में कभी ना कभी इसका अनुभव जरूर करती हैं। इसके कारण वैजाइना में तेज जलन और खुजली होती है, जिसे बर्दाश्त करना भी मुश्किल हो जाता है। कई बाद पूरा ट्रीटमेंट लेने के बाद भी महिलाओं को इंफेक्शन से छुटकारा नहीं मिलता। ऐसे में दवाओं से ध्यान हटाकर अपनी दिनचर्या पर फोकर करें क्योंकि डेली रूटीन में की गई कुछ गलतियां वैजाइना इंफेक्शन को ठीक नहीं होने देती।

बार-बार क्यों हो जाती है वैजाइना इंफेक्शन?

. प्राइवेट पार्ट की अच्छी तरह सफाई ना करना
. भरपूर पानी ना पीना
. गंदी अंडवियर का इस्तेमाल करना
. प्रेगनेंसी
. अनियंत्रित डायबिटीज
. कुछ दवाओं या एचआईवी (HIV) संक्रमण
. इम्यूनिटी कमजोर होना
. गीले या पसीने वाले अंडरवीयर पहनना
. स्ट्रेस (Stress)
. गंदे पब्लिक टॉयलेट या गंदे वाशरूम का इस्तेमाल
. पीरियड्स के दौरान योनि की साफ-सफाई का ध्यान न रखना

PunjabKesari

वैजाइना इंफेक्शन के लक्षण

. प्राइवेट पार्ट में तेज जलन, खुजली और डिस्चार्ज
. शारीरिक संबंध बनाते समय जलन
. पेशाब करते समय भी जलन महसूस होना
. गाढ़ा, सफेद, गंध रहित डिस्चार्ज

गंभीर योनि संक्रमण के लक्षण

. योनि में सूजन और रेडनेस  होना
. वैजाइना में खुजली की वजह से घाव होना
. योनि में दर्द होना
. प्राइवेट पार्ट पर लाल चकत्ते पड़ जाना

PunjabKesari

क्या करें?

. प्राइवेट पार्ट की सफाई का खास ध्यान रखें।
. भरपूर पानी पीएं, ताकि वैजाइना में ड्राईनेस ना हो।
. चावल का पानी यानि मांड पीएं।
. गंदी और गीली अंडवियर ना पहनें। साथ ही इसे रोजाना बदलें।
. पीरियड्स में कम से कम 2 बार पैड बदलें। साथ ही पर्सनल हाइजीन का भी ख्याल रखें।
. जिम और स्विमिंग के बाद तुरंत कपड़ों को बदलें।

इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपाय करके भी वैजाइना इंफेक्शन से छुटकारा पा सकते हैं।

1. दही में प्रीबायोटिक होते हैं, जो प्राइवेट पार्ट में हो रही जलन को कम करते हैं। इसकी रोजाना 1 कटोरी दही जरूर खाएं।
2. शहद में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इंफेक्शन को दूर करने में मददगार है। आप इसे दही में मिलाकर खा सकती हैं।
3. एप्पल साइडर विनेगर के एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल प्राइवेट पार्ट में पीएच को मेंटेन करते है। आप 1 गिलास पानी में 1 चम्मच एप्पल साइर विनेगर मिलाकर पीएं। आप चाहे तो इसे नहाने के पानी में भी मिला सकती हैं।
4. टी ट्री ऑयल में एंटी फंगल गुण होते हैं, जो खुजली और जलन को कम करने में मददगार है। इसके लिए टी ट्री ऑयल की 4-6 बूंदे प्राइवेट पार्ट के ऊपरी हिस्से में लगाएं।

PunjabKesari

अगर घरेलू नुस्खे करने से भी आराम ना मिले तो बिना देरी डॉक्टर से चेकअप करवाएं।

Related News