04 MARTHURSDAY2021 4:20:44 PM
Nari

सेहत के लिए वरदान 'मखाना फूल' कैसे बनते हैं, जानिए क्यों कहते हैं इसे Organic Food?

  • Edited By neetu,
  • Updated: 16 Jan, 2021 12:35 PM
सेहत के लिए वरदान 'मखाना फूल' कैसे बनते हैं, जानिए क्यों कहते हैं इसे Organic Food?

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ व व्रत के दौरान मखानों को इस्तेमाल किया जाता है। इसे मखाने के अलावा लोटस सीड, फोक्स नट, प्रिकली लिली भी कहा जाता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल व औषधीय गुण होने से यह सेहत को दुरुस्त रखने का काम करते हैं। इसे हैल्दी स्नैक्स के तौर पर खाया जा सकता है। मगर बात इसकी खेती की करें तो क्या आप जानते हैं कि इसे कैसे उगाया जाता है? तो चलिए आज हम आपको मखानों की खेती के साथ इससे मिलने वाले फायदों के बारे में बताते हैं... 

मखानों की खेती का सही समय...

बात मखानों की खेती की करें तो दिसंबर से जनवरी के समय इनके बीज बोए जाते हैं। फिर अप्रैल में इसके पौधों से फूल उगने के बाद जुलाई में फूल पानी की सतह पर तैरने लगते हैं। इसका फल कांटेदार होता है। यह करीब 2 महीनों तक पानी के नीचे बैठ जाते हैं। फिर इसके कांटे सितंबर से अक्तूबर तक गल फूल बन जाते हैं। ऐसे में इस दौरान मखानों के फूल इकट्ठे किए जाते हैं। बाद में इसे बीजों को धूप में सुखाकर इस्तेमाल किया जाता है। पानी में उगने के कारण इसपर केमिकल फर्टीलाइजर का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं होता है। ऐसे में यह पूरी तरह से ऑर्गेनिक फूड कहलाता है। भारत देश में करीब 80 प्रतिशत मखानों की खेती बिहार के मिथिलांचल जगह पर की जाती है। इसके बीजों पर ग्रेडिंग भी इनके साइज के हिसाब से होती है। बात इसकी खेती की करें तो भारत के साथ चीन, रूस, जापान और कोरिया में होती है। 

PunjabKesari

कैसे करें इस्तेमाल? 

भारत के खासतौर पर पूजा-पाठ व व्रत में मखानों को शामिल किया जाता है। मगर इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। ऐसे में इसका सेवन करने के शरीर को बेहद फायदा मिलता है। इसे कच्चा, भूनकर या मखानों की खीर बनाकर खाया जा सकता है। 

तो चलिए अब जानते हैं मखाना खाने से मिलने वाले फायदों के बारे में...

PunjabKesari

डायबिटीज रखे कंट्रोल 

इसके सेवन से डायबिटीज कंट्रोल रखने में मदद मिलती है। ऐसे में शुगर के मरीजों को खासतौर पर इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। 

 

दिल रखे स्वस्थ 

इसमें फैट कम होने से कोलेस्ट्रॉल कम रहने के साथ ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। ऐसे में दिल स्वस्थ रहने के साथ हार्ट अचैक आने व इससे जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम रहता है। 

पाचन क्रिया करे मजबूत 

इसके सेवन के पाचन तंत्र मजबूत होने के साथ पेट दर्द, कब्ज, एसिडिटी आदि की परेशानी दूर होती है। साथ ही खाने में हल्का होने से यह जल्दी पच जाता है। 

 

तनाव करे कम

एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर मखाना शारीरिक व मानसिक विकास में मदद करता है। इसके सेवन से दिमाग का बेहतर विकास होने के साथ तनाव कम होने में मदद मिलती है। 

ब्लड प्रेशर रखें कंट्रोल 

मखानों में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। ऐसे में इसके सेवन से ब्लड प्रेशर नियंंत्रण में रहता है। इसलिए ब्लड प्रेशर के मरीजों को इसे अपनी डेली डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए।

जोड़ों के दर्द से दिलाए आराम

जिन लोगों को जोड़ों में दर्द रहता है, उन्हें अपनी डेली डाइट में मखानों को जरूर शामिल करना चाहिए। इससे जोड़ों व शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द होने की परेशानी से छुटकारा मिलता है। 

PunjabKesari

मजबूत हड्डियां और मांसपेशियां 

इसमें कैल्शियम व फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में होते है। इसलिए इसे खाने से मांसपेशियों व हड्डियों में मजबूती आती है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, खासतौर पर बच्चों व बूढ़ों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए। 

वजन कम करने में फायदेमंद

मोटापे से परेशान लोगों के लिए मखानों का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। इसमें फैट और मीठा कम होने से वजन कम करने में मदद मिलती है। ऐसे में आप इसे स्नैक्स के रूप में कभी भी खा सकते हैं। 

खून बढ़ाए

इसमें कैल्शियम, विटामिन, आयरन आदि तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में इसके सेवन से खून की कमी पूरी होने के साथ थकान व कमजोरी दूर होती है। ऐसे में एनिमिया के मरीजों को इसका जरूर सेवन करना चाहिए। 

PunjabKesari

स्किन करेगी ग्लो

शायद आप इस बात से अनजान होंगे मगर मखाना सेहत के साथ स्किन के लिए फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद एंटी-एजिंग तत्व स्किन को गहराई से रिपेयर करने के साथ जवां रखने में मदद करते हैं। 
 

Related News