22 JANFRIDAY2021 6:24:19 AM
Nari

घर पर ही बनाएं आयुर्वेदिक काढ़ा, सर्दी-खांसी, गले की खराश से मिलेगा आराम

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 17 Jul, 2020 12:09 PM
घर पर ही बनाएं आयुर्वेदिक काढ़ा, सर्दी-खांसी, गले की खराश से मिलेगा आराम

मानसून का मौसम शुरू होते ही सर्दी-खांसी, जुकाम, गले में खराश और वायरस फीवर की समस्या बढ़ जाती है। वहीं अब देशभर में कोरोना वायरस का कहर भी है तो ऐसे में अपनी सुरक्षा करना बहुत जरूरी है। हैल्दी डाइट और योग एक्सरसाइज करने के साथ आप होममेड काढ़ा भी पी सकते हैं। चलिए आज हम आपको घर पर ही एक काढ़ा बनाने की रेसिपी बताते हैं, जो आपको मानसून में बीमारियों से दूर रखने में मदद करेगा।

काढ़ा बनाने के लिए सामग्री:

अदरक - थोड़ी सी
शहद - 1/2 टीस्पून
तुलसी की पत्तियां - 4-5
दालचीनी - 1 स्टिक
लौंग - 1-2
सौंफ - थोड़ी-सी

PunjabKesari

बनाने की विधि

1. सबसे पहले अदरक को धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
2. एक पैन में 2 गिलास पानी में अदरक, तुलसी की पत्तियां, लौंग, सौंफ, दालचीनी डालकर उबलने के लिए रख दें। जब तक पानी आधा न हो जाए इसे उबलने दें।
3. इसके बाद को एक गिलास में काढ़ा छानें और उसमें शहद मिक्स करें। ध्यान रखें कि काढ़े के लिए ऑर्गेनिक शहद इस्तेमाल करें।
4. अब काढ़े को घूंट-घूंट करके पीएं। आप चाहें तो इससे गरारे भी कर सकते हैं।

PunjabKesari

कितनी बार करें सेवन?

आप इस काढ़े का सेवन दिन में 2-3 बार कर सकते हैं। इससे गले की खराश, सर्दी-खांसी से राहत मिलेगी। इसके अलावा दोपहर व शाम के समय भी 1 कप काढ़ा पी सकते हैं।

कैसे पहुंचेगा फायदा

काढ़े में इस्तेमाल होने वाली तीनों चीजें एंटी-बैक्टीरियल, एंटीवायरल गुणों से भरपूर होती है, जिससे वायरल बीमारियों से राहत मिलती है।

काढ़ा पीने के अन्य फायदे

. इससे इम्युन सिस्टम मजबूत होती है, जिससे आप कई बीमारियों से बचे रहते हैं।
. यह काढ़ा तनावमुक्त रखता है और आप डिप्रेशन से बचे रहते हैं।
. अगर रात में नींद नहीं आती और बैचेनी रहती है तो इस काढ़े का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।
. पाचन क्रिया के लिए भी यह काढ़ा फायदेमंद है। इससे पेट दर्द, कब्ज, एसिडिटी जैसी समस्याएं भी दूर रहती है।
. यह काढ़ा कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल में रखता है और आप दिल की बीमारियों से बचे रहते हैं।
. इससे ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है, जिससे दिल की रक्त वहिनियों में खून का प्रवाह सही रहता है, जिससे हार्च अटैक का खतरा कम होता है।
. बैली फैट कम करने के साथ यह काढ़ा वजन को कंट्रोल में रखता है। साथ ही इससे भूख भी कंट्रोल होती है।

PunjabKesari

Related News