14 AUGSUNDAY2022 9:28:20 AM
Nari

नौसेना को बेटियों पर भराेसा, Women sailors को सौपेंगे युद्धपोत Vikrant की जिम्मेदारी !

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 14 Jul, 2022 03:22 PM
नौसेना को बेटियों पर भराेसा, Women sailors को सौपेंगे युद्धपोत Vikrant की जिम्मेदारी !

भारत के पहले स्वदेशी विमानवाहक युद्धपोत की बागडोर अब महिलाओं के हाथ में आ सकती है।  नई अग्निपथ भर्ती योजना के तहत भारतीय नौसेना (नेवी) में शामिल होने जा रही महिला नाविकों को युद्धपोत की जिम्मेदारी सौंपने पर विचार किया जा रहा है। इन महिला नाविकों को प्रशिक्षण पूरा होने पर युद्धपोतों पर तैनात किया जाएगा। 

PunjabKesari

नौसेना के पास है 30 महिला अधिकारी

खबरों की मानें तो नौसेना अगले महीने  स्वतंत्रता दिवस के आसपास विक्रांत को नियुक्त करने के लिए तैयार है। घातक हथियारों से लैस इस युद्धपोत के आते ही हिंद महासागर में भारत की ताकत में कई गुना बढ़ोतरी हो जाएगी। भारतीय नौसेना के पास वर्तमान में अलग-अलग जहाजों (INS) पर नौकायन करने वाली 30 महिला अधिकारी हैं। अब विक्रांत की जिम्मेदारी महिलाओं के हाथ में  सौंपना देश के लिए गर्व की बात है। 
PunjabKesari

महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने पर जाेर दे रही नौसेना

पिछले कुछ समय से नौसेना महिला अधिकारियों को अपने पुरुष समकक्षों के साथ बोर्ड युद्धपोतों पर सेवा करने के अधिक अवसर दे रही है, इससे पहले हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) के व्यापक विस्तार में काम कर रहे फ्रंट-लाइन जहाजों की जिम्मेदारी भी महिलाओं को सौंपी गई है। भारतीय नौसेना  ने महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के उद्देश्य से अग्निपथ योजना को लेकर अहम घोषणा की थी। 


20 फीसदी महिला कैंडिटेट्स की होगी भर्ती

इस घोषणा में कहा गया था कि अग्निपथ योजना के तहत नौसेना में भर्ती होने वाले अग्निवीरों में 20 फीसदी महिला कैंडिटेट्स की भर्ती की जाएगी। नौसेना में भर्ती के लिए चयनित महिला कैंडिडेट्स अग्निवीर के पहले बैच में शामिल होंगी। बाद में इन महिलाओं को नौसेना के अलग-अलग विभागों में तैनात किया जाएगा। 

PunjabKesari

ये है अग्निपथ योजना

अग्निपथ भर्ती योजना के तहत कुछ दिनों के ही अंदर करीब 10,000 महिलाओं ने खुद को इसके लिए रजिस्टर कराया है। भारतीय नौसेना पहली बार महिलाओं को सेना में सेलर के रूप में भर्ती करने की अनुमति दे रहा है। अग्निपथ योजना में भर्ती के लिए युवाओं की आयु 17 साल 6 महीने से 21 महीने के बीच होनी जरूरी होगी। युवाओं को ट्रेनिंग पीरियड समेत कुल 4 साल के लिए आर्म्‍ड सर्विसेज में सेवा का मौका मिलेगा, सेना के तय नियमानुसार ही भर्ती होगी। 


भारतीय सशस्त्र बलों में इतनी है महिलाओं की संख्या

भारतीय सशस्त्र बलों में लगभग 70,000-मजबूत अधिकारी संवर्ग में महिलाओं की संख्या सिर्फ 3,904 (सेना 1,705, IAF 1,640 और नौसेना 559) है, जबकि 9,000 से अधिक अधिकारियों की कमी है। सेना द्वारा पहली बार 2019-2020 में ‘अन्य रैंकों’ में महिलाओं की भर्ती शुरू करने के बाद, अब सैन्य पुलिस कोर (सीएमपी) में 100 महिला जवान भी हैं।

Related News