23 JULTUESDAY2024 5:14:07 PM
Nari

AI के सामने फेल हुई साइंस ! अब Artifical Intelligence की मदद से ब्रेस्ट कैंसर की होगी  स्क्रीनिंग

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 30 Aug, 2023 11:31 AM
AI के सामने फेल हुई साइंस ! अब Artifical Intelligence की मदद से ब्रेस्ट कैंसर की होगी  स्क्रीनिंग

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) चिकित्सा के क्षेत्र में अहम याेगदान दे रहा है, वो दिन दूर नही जब  इलाज करने के लिए भी  AI का इस्तेमाल किया जाएगा। कुछ दिनों पहले लैंसेट में प्रकाशित एक स्वीडिश अध्ययन में पाया गया कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता के उपयोग से स्कैन के विश्लेषण में स्तन कैंसर के 20 प्रतिशत अधिक मामलों का पता चला और काम का बोझ 44 प्रतिशत कम हो गया। रिसर्च में पाया गया कि  (AI) टूल्स ब्रेस्ट कैंसर की जांच करने वाली इमेज को "सुरक्षित रूप से" पढ़ सकते हैं।

PunjabKesari
पहले ऐसी होती थी कैंसर की जांच

स्टडी में एआई-सपोर्टेड स्क्रीनिंग में 244 महिलाओं को कैंसर पाया गया, जबकि मानक स्क्रीनिंग सें 203 महिलाओं में कैंसर पाया गया। मैमोग्राम प्रारंभिक चरण के स्तन कैंसर का पता लगाने का एक प्रमुख उपकरण है और इसमें स्तन के ऊतकों को दो प्लेटों के बीच रखना और फिर एक्स-रे करना शामिल है। मैमोग्राम के स्कैन का विश्लेषण आमतौर पर दो डॉक्टरों द्वारा किया जाता है। लेकिन नए अध्ययन में एआई-सपोर्टेड स्क्रीनिंग की रेडियोलॉजिस्ट की स्क्रीनिंग से तुलना की गई।  हालांकि एक जोखिम यह है कि यह महिलाओं में ऐसे छोटे कैंसर का पता लगा सकता है जो कभी नुकसान नहीं पहुंचाएंगे, हालांकि इससे अनावश्यक उपचार होगा।

 

वर्तमान में स्तन कैंसर का पता कैसे लगाया जाता है?

शुरूआत में ही कैंसर का पता लगाने के लिए ऑस्ट्रेलिया में 30 साल से भी पहले मैमोग्राफी का उपयोग करके स्तन स्क्रीनिंग की शुरुआत की गई थी, जिससे अधिक प्रभावी और अक्सर कम आक्रामक उपचार में मदद मिली। 40 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं के लिए निःशुल्क मैमोग्राम उपलब्ध हैं और 50-74 आयु वर्ग की सभी महिलाओं के लिए इसकी अनुशंसा की जाती है। वर्तमान में, मैमोग्राम का अध्ययन दो डॉक्टरों (जिन्हें रेडियोलॉजिस्ट कहा जाता है) द्वारा किया जाता है (या "पढ़ा जाता है") जो यह तय करते हैं कि मैमोग्राम सामान्य दिखता है या नहीं। यदि कोई असामान्यता दिखाई देती है, तो महिला को ब्रेस्टस्क्रीन मूल्यांकन क्लिनिक में आगे के परीक्षण के लिए भेजा जाता है। इन परीक्षणों में अधिक मैमोग्राम, अल्ट्रासाउंड, सुई बायोप्सी और कभी-कभी सर्जरी शामिल हो सकती है। जिन लोगों को रेफर किया गया उनमें से अधिकांश कैंसर से मुक्त हो गए, लेकिन दस में से लगभग एक को अंततः स्तन कैंसर का पता चला। मैमोग्राम में दर्ज जांच को पढ़ने और मूल्यांकन के लिए बहुत अधिक विशेषज्ञता और समय की आवश्यकता होती है, और इसे उम्रदराज़ और घटते कार्यबल द्वारा किया जाता है जो सेवानिवृत्त हो रहे हैं और पेशा छोड़ रहे हैं। जांच करवाने वालों की बढ़ती संख्या को देखते हुए, यह एआई समाधान के लिए एक आदर्श परीक्षण क्षेत्र बन जाता है।

PunjabKesari
 शोधकर्ताओं ने क्या परीक्षण किया?

स्वीडिश अध्ययन में स्वीडन के एक क्षेत्र में एक स्क्रीनिंग कार्यक्रम में भाग लेने वाली 40-80 आयु वर्ग की 80,000 महिलाओं की जांच रिपोर्ट का अध्ययन किया गया। शोधकर्ताओं ने व्यावसायिक रूप से उपलब्ध एआई-समर्थित मैमोग्राम रीडिंग सिस्टम का उपयोग करके यह परीक्षण करने का प्रयास किया कि क्या एआई मैमोग्राम पर एक संदिग्ध, लेकिन अक्सर बहुत सूक्ष्म, असामान्य क्षेत्र पर रेडियोलॉजिस्ट का ध्यान बेहतर ढंग से निर्देशित कर सकता है। उन्होंने यह भी देखा कि क्या एआई का उपयोग उन दो रेडियोलॉजिस्टों में से एक की जगह ले सकता है जो आम तौर पर मैमोग्राम पढ़ते हैं। इससे प्रक्रिया और अधिक कुशल हो जाएगी। अध्ययन को यादृच्छिक किया गया था, इसलिए आधी महिलाओं को सामान्य स्क्रीनिंग प्रोटोकॉल और अन्य आधी को एआई-सहायता प्राप्त प्रोटोकॉल प्राप्त हुआ।


 तो उन्हें क्या मिला?

 जिन लोगों में एआई का उपयोग किया गया था, यदि एआई ने एक संदिग्ध क्षेत्र का सुझाव दिया, तो मैमोग्राम अभी भी दो रेडियोलॉजिस्ट द्वारा पढ़ा गया था। लेकिन अगर एआई ने कोई संदिग्ध क्षेत्र नहीं देखा तो केवल एक रेडियोलॉजिस्ट ने मैमोग्राम पढ़ा। इससे रेडियोलॉजिस्ट का लगभग छह महीने का समय बच गया। एआई समर्थित समूह में रेडियोलॉजिस्ट द्वारा 36,886 कम स्क्रीनिंग पढ़ी गईं (46,345 बनाम 83,231), जिसके परिणामस्वरूप रेडियोलॉजिस्ट के स्क्रीनिंग कार्यभार में 44 प्रतिशत की कमी आई। रेडियोलॉजिस्ट का ध्यान असामान्य क्षेत्रों की ओर निर्देशित करने के लिए एआई सॉफ्टवेयर का उपयोग करने से उनके पढ़ने की सटीकता में भी सुधार हुआ। एआई-सहायता प्राप्त रीडिंग का मतलब है कि थोड़ी अधिक महिलाओं को आगे के मूल्यांकन (2.2 प्रतिशत बनाम 2 प्रतिशत) के लिए भेजा गया और एआई समूह से मूल्यांकन करने वालों में अधिक कैंसर देखा गया। कुल मिलाकर, एआई-समर्थित समूह की 244 महिलाओं (28 प्रतिशत) में कैंसर पाया गया, जबकि एआई के बिना मानक डबल रीडिंग में 203 महिलाओं (25 प्रतिशत) को कैंसर था। यही नहीं, एआई कार्यक्रम ने जांच की गई प्रत्येक 1,000 महिलाओं में से एक अतिरिक्त कैंसर का पता लगाया (प्रति 1,000 पर छह बनाम प्रति 1,000 पर पांच)। 

PunjabKesari

अति निदान का जोखिम

लेकिन केवल अधिक कैंसर का पता लगाना जरूरी नहीं होता है ऐसे कैंसर का पता लगाने का कोई औचित्य नहीं है, जो छोटे, गैर-आक्रामक ट्यूमर होते हैं और महिला को नुकसान पहुंचाने के लिए कभी विकसित नहीं हो पाते हैं। निःसंदेह वास्तव में यह जानना की यह कोशिश की जा रही है कि क्या कोई नया परीक्षण कैंसर से बचने में सुधार कर सकता है - और उपचार का बोझ आसान बना सकता है। "इंटरवल कैंसर" तेजी से बढ़ने वाला आक्रामक कैंसर है जो मैमोग्राम के बीच सामने आता है। अध्ययन अक्सर कैंसर से बचने में सुधार के लिए इंटरवल कैंसर का पता लगाने को सरोगेट के रूप में उपयोग करते हैं। लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि एआई इनमें से अधिक इंटरवल कैंसर का पता लगा सकता है या नहीं। जब तक हम एआई द्वारा पता लगाए गए इन अतिरिक्त कैंसरों के बारे में अधिक नहीं समझते, ये खुले प्रश्न बने रहेंगे। इसलिए, इस अध्ययन से सकारात्मक संकेतों के बावजूद, हम अभी भी इस और अन्य कार्यों से अधिक परिपक्व डेटा के बिना अपने स्क्रीनिंग कार्यक्रमों में इसका उपयोग करने के लिए तैयार नहीं हैं, जिसमें वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया में एकत्र किया जा रहा डेटा भी शामिल है।

PunjabKesari

क्या होता है ब्रेस्ट कैंसर? 

विश्व स्वास्थ्य संगठन की मानें तो स्तन कैंसर महिलाओं में पाया जाने वाला ऐसा कैंसर है जो हर साल दुनियाभर में करीबन 2.1 महिलाओं को प्रभावित करता है। जब कुछ जीनों में बदलाव होता है तो स्तन कोशिकाएं विभाजित होती हैं और अनियंत्रित रुप से बढ़ने और फैलने लगती हैं। कुछ मालमों में कैंसर कोशिकाएं आपको बाहों के नीचे लिम्फ नोड्स में भी पहुंच जाती है और शरीर के अलग हिस्सों में फैल जाती हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार, पिछले 20 सालों के दौरान स्तन कैंसर के कारण मृत्यु दर में कमी आई है। 


ब्रेस्ट कैंसर का पहचान

1 ब्रेस्ट कैंसर की होने पर महिलाओं के स्तन में दर्द रहित एक गांठ पड़ जाती है। जिसको महिलाएं अनदेखा कर देती है।
2 ब्रेस्ट कैंसर के कारण निप्पल में खून जैसा पानी या डिस्चार्ज होना।
3 निप्प्ल का बाहर की जगह स्तन के अंदर धस जाना
4 निप्पल पर दाद या रैशेज होना भी इस खतरनाक बीमारी का संकेत है।
5 स्तन के आकार में बदलाव होना ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण हैं।

Related News