23 MAYMONDAY2022 7:00:21 PM
Nari

अधूरी नींद शरीर ही नहीं दिमाग के लिए भी खतरनाक, अभी से सेट करें अपना Sleep Time

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 14 May, 2022 12:48 PM
अधूरी नींद शरीर ही नहीं दिमाग के लिए भी खतरनाक, अभी से सेट करें अपना Sleep Time

हम में से ज्यादातर लोगों को अगर रात में ठीक से नींद न आए तो कुछ भी सोचने में परेशानी होती है-कुछ अनमना सा महसूस होता है और इसका स्कूल, विश्वविद्यालय या काम में हमारे सामान्य कामकाज पर असर पड़ता है। आप महसूस करेंगे कि कम सोने से आप कहीं भी ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं या आपकी याद्दाश्त आपका साथ छोड़ने लगती है। यह सच है कि नींद न आने का सिलसिला अगर दशकों तक चले तो यह संभावित रूप से संज्ञानात्मक गिरावट का कारण बन सकती है।


मूड को भी प्रभावित करती है नींद


खराब नींद लोगों के मूड और व्यवहार को भी प्रभावित करती है, चाहे वे छोटे शिशु हों या बड़े वयस्क। तो हमारे मस्तिष्क को लंबी अवधि में ठीक से काम करने के लिए कितनी नींद की आवश्यकता होती है? नेचर एजिंग में प्रकाशित हमारा नया शोध अध्ययन इस सवाल का जवाब खोजने का प्रयास करता है। मस्तिष्क के सामान्य कामकाज को बनाए रखने के लिए नींद एक महत्वपूर्ण घटक है। नींद के दौरान मस्तिष्क खुद को पुनर्गठित और रिचार्ज करता है। साथ ही जहरीले अपशिष्ट उपोत्पादों को हटाने और हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए, नींद ‘‘यादें संजाए रखने’’ के लिए भी महत्वपूर्ण है, नींद के दौरान हमारे अनुभवों के आधार पर नए मेमोरी सेगमेंट दीर्घकालिक स्मृति में स्थानांतरित हो जाते हैं।

PunjabKesari
बेहतर नींद बहुत जरुरी

तीन से 12 महीने की उम्र के बच्चों को देखते हुए, शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया है कि बेहतर नींद जीवन के पहले वर्ष में बेहतर व्यवहार परिणामों से जुड़ी होती है, जैसे कि नई परिस्थितियों के अनुकूल होने या भावनाओं को कुशलता से नियंत्रित करने में सक्षम होना। नींद की नियमितता मस्तिष्क के ‘‘डिफॉल्ट मोड नेटवर्क’’ (डीएमएन) से जुड़ी हुई प्रतीत होती है, जिसमें ऐसे क्षेत्र शामिल होते हैं जो जागते समय सक्रिय होते हैं लेकिन किसी विशिष्ट कार्य में नहीं लगे होते हैं, जैसे कि आराम करते समय हमारा दिमाग चलता रहता है।

 

सही मात्रा में नींद लेना

अध्ययन का उद्देश्य नींद, अनुभूति और बेहतर स्वास्थ्य के बीच की कड़ी को बेहतर ढंग से समझना था। इसमें  पाया गया कि अपर्याप्त और अत्यधिक नींद दोनों ने यूके बायोबैंक के लगभग 500,000 वयस्कों के संज्ञानात्मक प्रदर्शन को प्रभावित करने में योगदान दिया। इस शोध में मध्यम आयु वर्ग से वृद्धावस्था के लोगों को शामिल किया गया था। हालांकि,  बच्चों और किशोरों का अध्ययन नहीं किया, और चूंकि उनके दिमाग का विकास हो रहा है, इसलिए उनके लिए नींद की आवश्यक अवधि अलग हो सकती है। अध्ययन में पाया गया कि जो लोग सात घंटे सोते थे, उन्होंने कम या अधिक सोने वालों की तुलना में संज्ञानात्मक परीक्षणों (प्रोसेसिंग गति, दृश्य ध्यान और स्मृति सहित) पर - औसतन - बेहतर प्रदर्शन किया। सामान्य लोगों को भी अवधि में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव के बिना, लगातार सात घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।

PunjabKesari
 दिमाग को भी  प्रभावित करती है नींद

नींद हमारे दिमाग को प्रभावित कर सकती है, लेकिन यह दूसरी तरह से भी काम कर सकती है। खराब नींद की वजह से सोने और जागने के नियमन से जुड़े मस्तिष्क क्षेत्रों में सिकुड़न आ सकती है जो बाद के जीवन में नींद की समस्याओं में योगदान करती है। अध्ययन से पता चलता है कि पर्याप्त नींद लेने से स्मृति की रक्षा करके मनोभ्रंश के लक्षणों को कम करने में भी मदद मिल सकती है। यह मानसिक विकारों और मनोभ्रंश वाले वृद्ध रोगियों में उनकी संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली, मानसिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य में सुधार के लिए नींद की अवधि की निगरानी के महत्व पर प्रकाश डालता है।

 

अच्छी नींद लाने के लिए क्या करें

सबसे पहले बेडरूम  ठंडा और हवादार होना चाहिए

सोने से पहले बहुत अधिक शराब के सेवन और थ्रिलर या अन्य रोमांचक सामग्री देखने से भी बचना चाहिए।

जब आप सोने की कोशिश कर रहे हों तो आपको शांत और आराम की स्थिति में होना चाहिए।

 कुछ सुखद और आरामदेह चीज़ों के बारे में सोचना, जैसे पिछली बार जब आप समुद्र तट पर थे, कई लोगों के लिए काम करता है।

PunjabKesari
सात घंटे की नींद  लेना जरूरी

तकनीकी समाधान जैसे ऐप या उपकरण मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ नींद पर नज़र रखने और नींद की अवधि की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। जीवन का आनंद लेने और रोजमर्रा की जिंदगी में बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए, आप अपने स्वयं के नींद पैटर्न की निगरानी करें और यह सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से सात घंटे की नींद ले रहे हैं।

 


(बारबरा जैकलीन सहकियन और क्रिस्टेल लैंगली, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और जियानफेंग फेंग और वेई चेंग, फुडन विश्वविद्यालय)

Related News