13 JULSATURDAY2024 3:27:47 AM
Nari

हर चीज में नमक डालकर खाने के शौकीन हो जाएं सावधान! Heart Attack का हो सकते हैं शिकार

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 11 Aug, 2023 03:57 PM
हर चीज में नमक डालकर खाने के शौकीन हो जाएं सावधान! Heart Attack का हो सकते हैं शिकार

देश में लगातार हार्ट अटैक के cases में बढ़ोतरी देखने को मिली है । आजकल किसी भी उम्र के लोगों को दिल का दौरा पड़ रहा है। वैसे तो हार्ट डिजीज बढ़ने के कई से कारण है, जैसे खराब लाइफस्टाइल और जंक फूड पर क्या आपको पता है कि नमक के चलते भी दिल की बीमारियां बढ़ रही है। जी हां, बिल्कुल सही सुना आपने। अगर नमक में सोडियम की मात्रा ज्यादा है तो इससे हार्ट को नुकसान पहुंचता है। इस बारे में World Health Organization (WHO) ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है और साथ में नमक को कम मात्रा में खाने की भी सलाह दी है।

PunjabKesari

क्या कहती है  WHO की रिपोर्ट

WHO का कहना है कि नमक में सोडियम की मात्रा को 30 प्रतिशत तक कम करने की जरुरत है। सोडियम से ज्यादा मात्रा होने से heart problems की चपेट में आना और  heart attack पड़ने का खतरा भी बढ़ जाता है। हालांकि अभी भारत ने इस मामले में कोई कदम नहीं उठाया है। कई लोगों के मन में सवाल होगा की सोडियम में हार्ट हेल्थ का क्या संबंध? आइए आपको बताते हैं इसके बारे में विस्तार से....

PunjabKesari

ज्यादा नमक है सेहत के लिए हानिकारक

एक्सपर्ट्स का कहना है कि हार्ट में कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। नमक ज्यादा खाने से हाइपरटेंशन यानी हाई बीपी हो जाता है। इससे हार्ट की धमनियों में बल्ड का सर्कुलेशन काफी तेज हो जाता है। इस वजह से हार्ट पर असर पड़ता है और दिल का दौरा पड़ने का खतरा रहता है। इसी वजह से लोगों को नमक की मात्रा कम करने की सलाह दी जाती है। हार्ट के मरीजों को तो कम से कम नमक खाने की सलाह दी जाती है।

PunjabKesari

रोजना इतनी मात्रा में ही खाएं सोडियम

WHO का कहना है कि पूरी दुनिया भर में लोग हर दिन 10.8 ग्राम तक सोडियम खाते हैं। वहीं WHO की लोगों को सलाह है कि हेल्दी हार्ट के लिए हर दिन 5 ग्राम से ज्यादा सोडियम ना खाएं।  रिपोर्ट के अनुसार, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ऐसे राज्यों का सोडियम स्कोरकार्ड बनाया है जिन्होंने सोडियम के प्रकार और उसके घटाने की संख्या पर काम किया है। स्कोरकार्ड में उन देशों का पता लगाया गया है जिन्होंने राष्ट्रीय नीति के तहत सोडियम की मात्रा घटाने को लेकर काम किया है। उन्हें स्कोर में 1 दिया गया है। वहीं ऐसे देश जिन्होंने सोडियम की मात्रा घटाने को लेकर कड़ाई से काम और लोगों को जगरुक करने का काम किया है, उन्हें स्केर में 2 दिया गया है। वहीं ऐसे देश जिन्होंने सोडियम की मात्रा घटाने को लेकर कोई एक कदम उठाए हों या पहले से पैक खाने के आइटम में सोडियम की मात्रा डालना अनिवार्य कर दिया हो उन्हें स्कोर में 3 दिया गया है। भारत को इस स्कोरकार्ड में 2 दिया गया है।

Related News