17 MAYTUESDAY2022 3:33:14 AM
Nari

क्या आप भी चाहते हैं कि आपका बच्चे बने Intelligent तो अपनाएं ये ट्रिक्स

  • Edited By Vandana,
  • Updated: 26 Apr, 2022 02:01 PM
क्या आप भी चाहते हैं कि आपका बच्चे बने Intelligent तो अपनाएं ये ट्रिक्स

हर किसी माता-पिता की ये ख्वाहिश होती है कि उनका बच्चा स्मार्ट हो। स्कूल की सारी एक्टिविटी पढ़ाई से लेकर गेम्स सारी एक्टिविटी में अपना दिल बेस्ट दें। बच्चे को इंटेलिजेंट बनाने के लिए आप माता-पिता बहुत से प्रयास करते हैं। इंटेलिजेंट और आईक्यू लेवल में फर्क होता है। आई क्यू लेवल का मतलब है कि इंटेलिजेंट कोशिएंट। यह आपके बच्चे को दूसरे बच्चों से अलग बनाता है। तो चलिए आपको बताते हैं कि कैसे आप बच्चे के आईक्यू लेवल को बढ़ा सकते हैं।

इंस्ट्रूमेंट बजाना सिखाएं

आप अपने बच्चे को इंस्ट्रूमेंट बजाना सिखाएं। इस एक्टिविटी से बच्चे के मस्तिष्क का विकास होगा और उसका आई क्यू लेवल भी बढ़ेगा। इससे आपके बच्चे के अंदर मैथमेटिकल स्किल भी डेवलप होगी। आप बच्चे को गिटार, सितार,कीबार्ड, हारमोनियम और किसी भी प्रकार का वाद्ययंत्र बजाना सिखा सकते हैं। 

PunjabKesari

खेलने में बढ़ाएं रुचि

आप बच्चों को खेलने के लिए प्रेरित करें। खेलों से बच्चे की शरीर का शारीरिक और मानसिक विकास होता है। जब बच्चे खेलते हैं तो बहुत सी चीजें सीख लेते हैं। आप उनके अंदर और एक्साइटमेंट बढ़ाने के लिए उनके साथ खेल सकते हैं। इससे उनकी खेलों के प्रति रुचि और भी बढ़ेगी। 

PunjabKesari

बच्चे से मैथ्स के प्रश्न करवाएं सोल्व

आप बच्चे का आई क्यू लेवल बढ़ाने के लिए उनके जोड़ने और घटाने के सवाल दे सकते हैं। इससे बच्चों के दिमाग बढ़ेगा। आप उन्हें मल्टीप्लाई के सवाल भी सिखा सकते हैं। इससे भी बच्चों का आईक्यू लेवल बहुत बढ़ता है। आप रोज 10-15 मिनट के लिए उन्हें मैथ्स के प्रश्न सोल्व करावाएं । आप बच्चे को अबेक्स सिखा सकते हैं। 

माइंड गेम्स खिलाएं 

बच्चों का आईक्यू लेवल बढ़ाने के लिए आप उन्हें माइंड गेम्स खिला सकते हैं। आप उन्हें पजल, चैस जैसी गेम्स खिला सकते हैं। इससे उनका माइंड इम्प्रूव होगा और मानसिक विकास में भी मदद मिलेगी। माइंड गेम्स बच्चे का दिमाग बढ़ाने में मदद करेंगी। 

PunjabKesari

डीप ब्रीदिंग के बारे में बताएं

आप बच्चों को डीप ब्रीदिंग करना भी सिखा सकते हैं। इससे बच्चों के विचार शुद्ध होंगे। गहरी सांस लेना अच्छे ब्रेन हैक्स में से एक माना जाता है। इससे बच्चे के अंदर ध्यान लगाने की शक्ति भी बढ़ेगी और बच्चे काफी रिलेक्स रह पाएंगे। 

PunjabKesari

Related News