13 JULSATURDAY2024 4:01:53 AM
Nari

Women Equality Day: पुरुषों से कंधा मिलाकर चल रही इन महिलाओं ने कायम की मिसाल

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 26 Aug, 2023 12:53 PM
Women Equality Day: पुरुषों से कंधा मिलाकर चल रही इन महिलाओं ने कायम की मिसाल

हर साल 26 अगस्त को महिला समानता दिवस मनाया जाता है। ये दिन महिलाओं को सम्मान, समान अधिकार दिलाने और उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से मनाया जाता है। बता दें इस दिन को मनाने की पहल अमेरिका से तब हुई जब उन्हें मतदान देने का अधिकार नहीं दिया गया था।  दुनिया के कई हिस्सों में बेटी का संपत्ति पर हक न होना, नौकरी में महिलाओं को समान पद और वेतन न मिलना जैसे कई सारे मामले देखने को मिले, जिससे ये पता चलता है कि महिलाओं की स्थिति कितनी चिंताजनक थी, हालांकि अब महिलाओं ने अपने हक के लिए आवाज उठाना शुरु कर दिया है। आज के समय में भी कई ऐसी महिलाएं हैं जो खेल, राजनीति, राष्ट्रीय सुरक्षा और प्रशासनिक क्षेत्र में कुछ महिलाओं की भूमिका दमदार है। वो दूसरी महिलाओं के लिए नारी शक्ति का एक दमदार उदाहरण बन रही हैं। आइए women's equality day पर आपको बताते हैं इन पॉवरफुल महिलाओं के बारे में...

द्रोपदी मुर्मू

राष्ट्रपति भारत देश का सबसे बड़ा पद है और द्रोपदी मुर्मू के हाथ में इस पॉवरफुल पॉजिशन की कमान है और वो महिला समानता की एक बेहतरीन मिसाल है। वो देश की दीसरी महिला राष्ट्रपति हैं। तीन बच्चों की मां द्रौपदी विधवा है, लेकिन पति का साथ छुटने के बाद भी उन्होंने कभी परिस्थितियों के आगे घुटने नहीं टेके। 

PunjabKesari

निर्मला सीतारमण

देश की सबसे दिग्गज राजनीतिज्ञों  में निर्मला का नाम सबसे आगे आता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एनडीए सरकार की पहली पूर्णकालिक वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इसके पहले रक्षा मंत्री भी रह चुकी हैं।

PunjabKesari

सुधा मूर्ति

सुधा मूर्ति सिर्फ infosys के फाउंडर की पत्नी नहीं है, बल्कि वो खुद  भारत की सबसे बड़ी ऑटो निर्माता इंजीनियरिंग और लोकोमोटिव कंपनी टेल्को में काम करने वाली पहली महिला इंजीनियर रह चुकी हैं। बता दें अपने जमाने में सुधा इंजीनियरिंग में 150 स्टूडेंट्स के बीच दाखिला पाने वाली पहली महिला थीं। उन्होंने बीवीबी  कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, हुबली से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में  फर्स्ट क्लास में स्नातक की डिग्री हासिल की थी। वो इंफोसिस फाउंडेशन के संस्थापक नारायण मूर्ति की पत्नी हैं। उन्होंने अब तक 8 उपन्यास लिखे हैं और एक active social worker भी हैं।

PunjabKesari

शिवांगी सिंह

देश की रक्षा में आजकल सिर्फ पुरुष ही नहीं बल्कि महिलाएं भी आगे हैं। आज के समय में भारत की कई बेटियां सेना में उच्च पदों में हैं और देश की सेवा जी जान से कर रही हैं। इन्हीं में से एक हैं फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह , जो भारतीय वायुसेना में लड़ाकू विमान राफेल को उड़ाने वाली पहली महिला पायलट हैं। इसके पहले वह मिग 21 भी उड़ा चुकी हैं।

PunjabKesari

मैरी कॉम

मैरी कॉम आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। सिर्फ देश में नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बॉक्सिंग में उन्होंने अपनी दमदार जगह बनाई है, जो एक समय पर सिर्फ पुरुषों तक ही सीमित था। साल 2012 में ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक, साल 2014 में एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाली मैरी कॉम को अर्जुन अवार्ड, पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

PunjabKesari

Related News