30 SEPWEDNESDAY2020 12:09:25 PM
Nari

जब द्रोपदी की राखी का श्रीकृष्ण ने रखा था मान, जानिए रक्षाबंधन से जुड़ी पौराणिक कथाएं

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 03 Aug, 2020 04:07 PM
जब द्रोपदी की राखी का श्रीकृष्ण ने रखा था मान, जानिए रक्षाबंधन से जुड़ी पौराणिक कथाएं

आज पूरे भारत में रक्षाबंधन का पर्व सेलिब्रेट किया जा रहा है। भाई -बहन के प्यार का प्रतीक यह पर्व सदियों से यूं ही मनाया जा रहा है। रक्षाबंधन को लेकर बहुत सी पौराणिक कथाएं भी प्रचलित हैं और हम आपको ऐसी ही कुछ कहानियों के बारे में बताएंगे। चलिए आपको बताते हैं रक्षाबंधन से जुड़ी पौराणिक कथाएं...

कृष्ण और द्रौपदी

भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार, मकर संक्रांति पर भगवान कृष्ण ने गन्ने को संभालते समय अपनी छोटी उंगली काट दी। तभी रानी रुक्मिणी ने तुरंत दासी को पट्टी लेने के लिए भेजा। इसी बीच द्रौपदी, जो पूरी घटना देख रही थी, ने अपनी साड़ी को थोड़ा सा काटकर उंगली पर बांध दिया और रक्तस्राव को रोका। बदले में भगवान कृष्णा ने आवश्यकता पड़ने पर उनकी मदद का वादा किया। द्रौपदी चीरहरण के दौरान कृष्ण द्वारा प्रदान की गई मदद के पीछे की कहानी यही है कि कृष्ण ने द्रौपदी की साड़ी को कभी खत्म नहीं किया और उन्हें अपनी सुरक्षा देकर शर्मिंदगी से बचाया।

PunjabKesari

यह भी है कृष्ण और द्रौपदी की कथा

वहीं एक अन्य कथा के अनुसार, जब शिशुपाल का वध करने के लिए श्रीकृष्ण ने सुदर्शन चक्र चलाया था तब उनकी उंगली कट गई थी। तभी श्रीकृष्ण की उंगुली से बहते रक्त को रोकने के लिए द्रौपदी ने अपनी साड़ी फाड़कर बांधी थी। बदले भगवान कृष्ण ने उन्हें रक्षा का वचन दिया। इसलिए कौरवों द्वारा चीरहरण किए जाने पर भगवान कृष्ण ने द्रौपदी की साड़ी को बढ़ाकर उनकी लाज बचाई थी।

यम और यमुना

एक अन्य कथा के अनुसार, रक्षा बंधन की रस्म भारत में बहने वाली नदी यम, मृत्यु के देवता और यमुना द्वारा की गई थी। एक बार यमुना ने यमराज को राखी बांधी तो मृत्यु के स्वामी ने उन्हें अमरता प्रदान की। कहा जाता है कि जो भी भाई राखी बंधवाकर अपनी बहन की रक्षा करता है वह भी अमर हो जाएगा।

PunjabKesari

संतोषी मां का जन्म

राखी का त्यौहार से संतोषी मां के जन्म की भी एक लोकप्रिय कहानी जुड़ी है। कहानी यह है कि इस शुभ दिन पर भगवान गणेश की बहन मानसा उन्हें राखी बांधने के लिए उनसे मिलने जाती हैं। यह देखते ही गणेश के पुत्र बहन की जिद करने लगते हैं। पुत्र की अच्छा पूरी करने के लिए भगवान गणेश अपनी दिव्य ज्वालाओं देवी संतोषी को उत्पन्न करते हैं। कहा जाता है कि वह अपने ऋद्धि और सिद्धि से उभरी हैं।

रोक्साना और राजा पोरस

एक अन्य कहानी यह है कि 326 ईसा पूर्व जब सिकंदर ने भारत पर आक्रमण किया तब उसकी पत्नी रोक्साना ने पोरस को एक पवित्र धागा भेजा और उसे युद्ध के मैदान में अपने पति को नुकसान नहीं पहुंचाने के लिए कहा। उनके अनुरोध का सम्मान करते हुए युद्ध भूमि पर पोरस ने सिकंदर को मारने से इंकार कर दिया था। भले ही पोरस हाइडेस्पेस नदी की लड़ाई हार गया लेकिन उसे सिकंदर का सम्मान हासिल हुआ। सिकंदर की मृत्यु के बाद पोरस एक बहुत ही वफादार मैसेडोनियन क्षत्रप बन गया।

Related News