04 AUGTUESDAY2020 5:41:02 AM
Nari

Inspirational: कैंसर पीड़ित पिता के लिए ऑटो रिक्शा चला पैसे जुटा रही दिव्यांग बेटी

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 15 Jul, 2020 07:33 PM
Inspirational: कैंसर पीड़ित पिता के लिए ऑटो रिक्शा चला पैसे जुटा रही दिव्यांग बेटी

कौन कहता है कि बेटियां एक बेटे की जगह नहीं ले सकती हैं , कौन कहता है कि एक बेटी घर की जिम्मेदारी नहीं संभाल नहीं सकती। आज हम आपको एक ऐसी बेटी की कहानी बताने जा रहे हैं जिसने ये डॉयलॉग सच साबित कर दिया , ' हमारी छोरी क्या छोरों से कम है? हम बात कर रहे हैं अहमदाबाद की अंकिता शाह की, जो कि बचपन से दिव्यांग है और वो अहमदाबाद की पहली दिव्यांग महिला ऑटो ड्राइवर है।

PunjabKesari

बचपन से पोलियों की शिकार

बचपन से पोलियो का शिकार हुई अंकिता का एक पैर नहीं है लेकिन इसके बावजूद वो अपने बीमार पिता के इलाज के लिए ऑटो चलाती है और अपने पिता के इलाज के लिए पैसे जुटा रही है। 

छोड़ दी कॉल सेंटर की नौकरी 

आपको बता दें कि अंकिता अपने 5 भाई-बहनों में से सबसे बड़ी है। अर्थशास्त्र के विषय में डिग्री हासिल करने वाली अंकिता ऑटो रिक्शा चलाने से पहले एक कॉल सेंटर में काम करती थी लेकिन अपने पिता के लिए अंकिता ने वो नौकरी छोड़ दी। दरअसल अंकिता के पिता कैंसर की बीमारी से जूझ रहे हैं जिनके इलाज के लिए अंकिता ने अपनी कॉल सेंटर की नौकरी छोड़ कर ऑटो रिक्शा चलाना शुरू किया। अंकिता के अनुसार, उसे अपनी नौकरी से इतने पैसे नहीं मिलते थे कि वो अपने पिता का इलाज करवा सके और अपना घर संभाल सके और तो और वो नौकरी भी घर से दूर थी जिसके कारण अंकिता कोे छुट्टीयां भी बहुत मुश्किल से मिलती थी इसलिए अंकिता ने अपनी कॉल सेंटर की नौकरी छोड़ दी। 

PunjabKesari

दिव्यांग होने के बाद नहीं मिली कहीं नौकरी 

अंकिता के अनुसार उन्होंने कॉल सेंटर की नौकरी छोड़ने के बाद काफी कंपनियों को इंटरव्यू भी दिए लेकिन दिव्यांग होने के कारण उसकी सेलेक्शन कहीं भी नहीं हुई। इसलिए अंकिता ने खुद के बलबूते पर कुछ करने की ठानी और पिता का इलाज करवाने के लिए खुद का ऑटो चलाना शुरू किया। 

पिता के इलाज के लिए शुरू किय़ा ये काम

अंकिता के अनुसार जब उसे कहीं भी नौकरी नहीं मिल रह थी तो उसके मन में एक मलाल था कि वो अपने पिता का इलाज नहीं करवा पा रही है और उस दौर में घर का गुजारा करना भी आसान नहीं था इसलिए अंकिता ने ऑटो रिक्शा चलाने की सोची। 

PunjabKesari

कमा लेती हैं 20 हजार रूपए

8 घंटे ऑटो चलाने वाली अंकिता इस काम से महीने का  तकरीबन 20 हजार कमा लेती हैं जिसे वो अपने पिता के इलाज के लिए इस्तेमाल करती है । हम अंकिता के इन न हारने वाले हौसलों को सलाम करते हैं। 

ऐसे ही अधिक स्टोरीज के लिए जुड़िए रहिए NARI के साथ। 

 

Related News