15 JULMONDAY2024 8:26:00 PM
Nari

फिटनेस फ्रीक हिना खान आई ब्रेस्ट कैंसर की चपेट में,  इन लक्षणों को आप भी ना करें Ignore

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 28 Jun, 2024 03:21 PM
फिटनेस फ्रीक हिना खान आई ब्रेस्ट कैंसर की चपेट में,  इन लक्षणों को आप भी ना करें Ignore

'ये रिश्ता क्या कहलाता है' से घर- घर पॉपुलर हुईं हिना खान  को भला कौन नहीं जानता। खूबसूरती के साथ- साथ वह अपनी फिटनेस को लेकर भी हमेशा चर्चाओं में रही है। इन दिनों वह बेहद ही मुश्किल दौर से गुजर रही हैं। हिना ब्रेस्ट कैंसर के चपेट में आ गई हैं, जिस पर विश्वाश करना बेहद मुश्किल है। हमेशा खुद को फिट रखने वाली एक्ट्रेस की यह हालत सुन हर कोई हैरान है। चलिए आज आपको बताते हैं इस गंभीर बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव के तरीके 

PunjabKesari
क्या होता है ब्रैस्ट कैंसर

स्तन शरीर का एक अहम अंग है । स्तन का कार्य अपने टिश्यू से दूध बनाना होता है । ये टिश्यू सूक्ष्म वाहिनियों द्वारा निप्पल से जुड़े होते हैं । जब ब्रेस्ट कैंसर वाहनियों में छोटे सख्त कण जमने लगते हैं या स्तन के टिश्यू में छोटी गांठ बनती है, तब कैंसर बढ़ने लगता है । विशेषज्ञों के मुताबिक स्तन में गांठ को आसानी से महसूस किया जा सकता है। इस बारे में सभी लोगों को अलर्ट रहने की आवश्यकता है।

 

30 के बाद ज्यादा खतरा

भारत में हर 10 में एक महिला ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित है और बीते कुछ सालों से ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है। भारतीय महिलाओं में होने वाले कैंसर में से स्तन कैंसर सबसे आम है। डॉक्टरों के मुताबिक ब्रेस्ट कैंसर उम्र के किसी भी पड़ाव पर हो सकता है, लेकिन 30 साल की उम्र के बाद इसका खतरा बढ़ना शुरू हो जाता है और 50-64 वर्ष की उम्र में इसका सबसे ज्यादा खतरा होता है।


ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण

-स्तन या बाहों के नीचे गांठ होना
-स्तन के आकार में बदलाव जैसें ऊंचा, टेड़ा-मेड़ा होना
-स्तन या फिर निप्पल का लाल रंग हो जाना
-स्तन से खून आना
-स्तन की त्वचा में ठोसपन हो जाना
-स्तन या फिर निप्पल में डिंपल, जलन, लकीरें सिकुड़न होना
-स्तन का कोई भाग दूसरे हिस्सों से अलग होना
-निप्पल से असामान्य रूप से डिस्चार्ज होना

PunjabKesari

बीमारी का इलाज 

इस बीमारी का इलाज है ब्रेस्ट की सर्जरी । यदि आप सर्जरी नहीं करवाना चाहते तो कीमोथेरेपी, हैल्दी लाइफस्टाइल और हार्मोन थैरेपी के साथ भी इस समस्या से राहत पा सकते हैं। इलाज इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप ब्रेस्ट कैंसर की कौन-सी स्टेज पर हैं। समस्या के पता करके आप डॉक्टरी सलाह से बीमारी का अच्छे से इलाज जान सकते हैं। 


फल और हरी सब्ज‍ियां 

एक अध्ययन में यह बात सामने आई थी कि  कम उम्र से ही डाइट में  फलों जैसे सेब, केला और हरी सब्ज‍ियों को शामिल करने से ब्रेस्ट कैंसर होने की आशंका काफी कम हो सकती है। दरअसल, फलों और सब्जियों में काफी मात्रा में फाइबर और विटामिंस पाए जाते हैं, जो ब्रेस्ट कैंसर की कोशिकाओं को शरीर में बढ़ने से रोकते हैं। किशोरावस्था में फलों और सब्ज‍ियों के सेवन से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा लगभग 25-30 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

PunjabKesari

कैंसर से बचना है तो इन बाताें को भी रखें ख्याल

- रोजाना एक्सरसाइज करें या पैदल चलें। हफ्ते में 3 घंटे दौड़ लगाने या 13 घंटे पैदल चलने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा करीब 23 प्रतिशत तक कम हो सकता है।

- गुटका, तंबाकू या धूम्रपान, शराब आदि नशीली चीजें कैंसर के खतरे को बढ़ाने का काम करती है। ऐसे में इससे दूरी बनाकर रखें।


- मोटापा भी बीमारियों की चपेट में आने का एक मुख्य कारण माना जाता है। इसलिए वजन कंट्रोल रखें।


- डिलीवरी के बाद बच्चे को स्तनपान करवाने से  ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम होता है। साथ ही वजन कंट्रोल रहने में मदद मिलती है।

- 30 की होने के बाद किसी भी तरह का कोई संशय होने पर बिना देरी किए स्तनों की जांच करवाएं।
 

Related News