24 JANSUNDAY2021 7:06:58 PM
Nari

अकेली रहने वाली महिलाओं को हाई बीपी का 28% खतरा अधिक, जानिए क्यों?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 18 Nov, 2020 09:52 AM
अकेली रहने वाली महिलाओं को हाई बीपी का 28% खतरा अधिक, जानिए क्यों?

गलत लाइफस्टाइल और खान-पान के कारण होने वाली हाई ब्लड प्रेशर यानि हाइपरटेंशन की समस्या आजकल आम देखने को मिलती है। वहीं, हाल ही में एक शोध में खुलासा किया गया है कि कुंवारी और विधवा महिलाओं को हाई बीपी का अधिक खतरा होता है। इसके अलावा रिसर्च के मुताबिक, कुंवारी या अकेली रह रही हाई ब्लड प्रेशर का खतरा अधिक होता है। चलिए आपको जानते हैं शादी और हाई ब्लड प्रेशर का क्या कनेक्शन है...

इन महिलाओं को अधिक खतरा

कनाडा में 45 से 85 साल की 28,238 पुरुष-महिलाओं पर रिसर्च की गई, जिसके मुताबिक अकेले रह रही 28% महिलाएं हाई बीपी से जूझ रही है। इसके अलावा जो महिलाएं अपने पार्टनर से अलग हो चुकी हैं उन्हें 21% और विधवा महिलाओं में 33% हाई बीपी की समस्या रहती है। रिसर्च के मुताबिक, इसका सबसे बड़ा कारण तनाव और गलत खान-पान है।

PunjabKesari

कुंवारे पुरुषों में हाई बीपी के मामले कम क्यों?

दरअसल, अकेले रह रहे पुरुष को किसी बात का तनाव, चिंता नहीं होती है। अधिक तनाव होने के कारण पुरुषों में हाई बीपी का खतरा कम होता है। वहीं वैज्ञानिकों के मुताबिक, महिलाओं के दोस्त कम होते हैं, जिसकी वजह से वो किसी से अपनी बातें शेयर नहीं कर पाती, जिसकी वजह से वो जल्दी इस बीमारी की चपेट में आ जाती है। ऐसी महिलाओं को हाइपरटेंशन का खतरा 15% तक होता है।

हाई बीपी के लक्षण

. बेचैनी महसूस होना
. तेज सिरदर्द
. कमजोरी महसूस होना
. सुस्ती महसूस

PunjabKesari

ब्लड प्रेशर को कैसे रखें काबू?

सामान्य रक्तचाप की रेंज 120/80 MMHG होती है। हाई और लो बीपी दोनों ही सेहत के लिए खतरनाक है इसलिए इसे काबू रखना बहुत जरूरी है।

. इसे काबू रखने के लिए 50% फल और कच्ची सब्जियां अधिक खाएं। इसके अलावा अधिक नमक और तेल से दूरी बनाकर रखें।
. सुबह खाली पेट लौकी रस पीने से हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहता है।
. रोजाना तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने से भी बीपी कंट्रोल रहता है।
. साथ ही ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने के लिए रोजाना व्यायाम करें और तनाव से दूर रहें।
. हर 6 महीने में एक बार बीपी का चेकअप जरूर करवाएं।

PunjabKesari

याद रखें कि हाई बीपी में हार्ट, किडनी व शरीर के अन्य अंग काम करना बंद कर सकते हैं इसलिए बीमारी को गंभीरता से लें।

Related News