17 OCTSUNDAY2021 4:49:26 AM
Nari

विजदशमी: इन गांवों में दशहरे की खुशी नहीं, मनाया जाता है रावण का शोक

  • Edited By neetu,
  • Updated: 14 Oct, 2021 05:06 PM
विजदशमी: इन गांवों में दशहरे की खुशी नहीं, मनाया जाता है रावण का शोक

देशभर में दशहरे के दिन रावण दहन किया जाता है। हर जगह मेलों की रौनक देखने को मिलती है। रावण, कुंभकरण, मेघनाथ के पुतले जलाएं जाते हैं। मगर देश के कई हिस्सों में विजयदशमी के दिन रावण का शोक मनाया जाता है। असल में, इन गांवों का संबंध रावण व इसके परिवार से जुड़ा है। इसलिए यहां पर विजयदशमी के दिन रावण दहन की जगह पूजा करने का महत्व है। चलिए जानते हैं इनके बारे में...

मध्यप्रदेश के विदिशा के पास नटेरन नामक गांव में रावण का शोक

मध्यप्रदेश के विदिशा के पास नटेरन नामक गांव में रावण दहन पर शोक मनाया जाता है। कहा जाता है कि यह गांव रावण की पटरानी मंदोदरी का गांव था। इसलिए यह गांव रावण को दामाद मानता है। ऐसे में वे विजयदशमी के दिन रावण की बरसी मनाते हैं। साथ ही उनकी पूजा करके झांकी सजाते हैं।

PunjabKesari

PunjabKesari

कानपुर जिले के शिवाला में दशानन मंदिर

कानपुर जिले के शिवाला में दशानन मंदिर है। कहा जाता है कि यह मंदिर विजयदशमी पर यानि साल में सिर्फ एक बार ही खुलता है। इस खास पर्व पर मंदिरों को फूलों से खूब सजाया जाता है। रावण की मूर्ति को दूध से नहलाने की प्रथा है। उसके बाद भक्त रावण की पूजा करके सरसों तेल के दीपक जलाते हैं। दशहरा पर्व पर मंदिर के द्वार रावण दहन से पहले ही बंद कर दिए जाते हैं।

PunjabKesari

PunjabKesari

राजस्थान के जोधपुर जिले में रावण मंदिर

राजस्थान के जोधपुर जिले में मंदोदरी नामक एक स्थान है। पौराणिक कथाओं अनुसार, इसी जगह पर रावण और मंदोदरी का विवाह हुआ था। इसके साथ ही यहां के चांदपोल स्थान पर रावण मंदिर भी स्थापित है। बता दें, रावण और मंदोदरी के विवाह स्थल पर चवरी नाम की एक छतरी भी है।

PunjabKesari

कर्नाटक में रावण पूजा करने का महत्व

कर्नाटक के मंडया जिले में भी दशहरे पर्व पर रावण की पूजा होती है। यहां के माललवी इलाके में रावण मंदिर है। इसके साथ ही कर्नाटक के कोलार जिले में भी रावण दहन नहीं किया जाता है। यहां के लोगों का मानना है कि दशानन महान शिव भक्त था इसलिए रावण दहन नहीं बल्कि उसकी भी पूजा होनी चाहिए।

PunjabKesari

आंध्र प्रदेश में शक्ति सम्राट के रूप में रावण पूजा  

जैसे की सभी जानते हैं कि रावण को कई सिद्धियां प्राप्त थी। ऐसे में आंध्रप्रदेश के काकिनाड इलाके में एक रावण मंदिर स्थापित है। बता दें, इस मंदिर में रामभक्त भी दर्शन करने आते हैं। यहां पर रावण को शक्तिसम्राट माना जाता है।

PunjabKesari

मंदसौर में रावण का ससुराल

मध्य प्रदेश के मंदसौर में भी विजयदशमी पर रावण की पूजा करने का विधान है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, पुराने समय में मंदसौर गांव का नाम दशपुर था। माना जाता है कि यह जगह रावण की पत्नी का मायका था। ऐसे में यहां पर रावण दहन होने की जगह पर दशानन की पूजा होती है।
साथ ही विजयदशमी के दिन रावण की मृत्यु का शोक मनाया जाता है।

PunjabKesari

उत्तर प्रदेश के बिसरख में रावण के पिता

उत्तर प्रदेश के बिसरख में भी रावण का मंदिर स्थापित है। कहा जाता है कि प्राचीन समय में इस गांव का नाम विश्वेश्वरा था, जो रावण के पिता थे। इसलिए दशहरे के दिन इस मंदिर में विशेष पूजा की जाती है।

PunjabKesari

 

Related News