20 MAYMONDAY2024 9:45:08 AM
Nari

सिंगल चाइल्‍ड की परवरिश में पेरेंट्स से होती हैं ये गलतियां, कहीं आप तो नहीं कर रहे ऐसा?

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 15 May, 2024 06:29 PM
सिंगल चाइल्‍ड की परवरिश में पेरेंट्स से होती हैं ये गलतियां, कहीं आप तो नहीं कर रहे ऐसा?

आज कल एक ही संतान का चलन तेजी से व्यवहार में आया है। आधुनिकीकरण ने पहले ही परिवारों का आकार छोटा कर दिया है। ऐसे में एक बच्चे का पालन पोषन करना जरा टेढ़ी खीर है। यदि आप एक ही संतान के अभिभावक हैं तो थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है क्योंकि इकलौता है आपकी आंखों का तारा... समय बदल गया है। एकल परिवारों में इकलौते बच्चे की परवरिश मां-बाप के लिए बहुत बड़ी जिम्मेदारी और कठिन चुनौती बन चुका है। कई बार इकलौता बच्चा दूसरे बच्चों से व्यवहार व कार्यशैली में बिल्कुल अलग होता है। अभिभावक के लाड़-प्यार के कारण ऐसे बच्चे अक्सर शरारती और गुस्सैल हो जाते हैं। इन बच्चों को माता-पिता के लाड-प्यार के साथ उनकी विशेष देखभाल की जरूरत होती है। यदि आपके आंगन में हो रही है इकलौती संतान की परवरिश तो इन बातों का रखें ख्याल :

PunjabKesari

ध्यान दें कहीं वह जिद्दी तो नहीं

उसकी हर मांग को पूरा न करें। वह कमजोर है, अकेला है ऐसे विचार मन से निकाल दें। बच्चा अकेला होता है तो माता-पिता का पूरा ध्यान उसी पर होता है। शरारती बच्चे सबको अच्छे लगते हैं, मगर कई बार ये शरारतें दूसरों की परेशानियां बन जाती हैं। ऐसे में अकेला बच्चा है, उसे कैसे डांटा जाए या बड़ा होकर ठीक हो जाएगा, जैसी बातें बच्चे को और उकसाती हैं, उसे उद्दंड बनाती हैं।इसलिए यदि आप एक संतान के अभिभावक हैं तो चिंता की बात नहीं बस थोड़ी सी समझदारी से काम लें ,जिससे आपका चांद दुनिया में आपका नाम रोशन कर सके।

PunjabKesari
इन्हें चाहिए पूरी अटैंशन

जहां संयुक्त परिवारों में घर के दूसरे लोग बच्चों का ध्यान रख लेते थे वहीं एकल होती जीवनशैली में अभिभावकों का कामकाजी होना भी एक समस्या बन गया है। ऐसे में इकलौती संतान को समय देना अपना कर्तव्य समझना चाहिए। यदि कामकाजी दम्पति के पास समय की कमी है तो कोशिश करें कि जो भी समय बच्चे को दे सकते हैं वह क्वालिटी समय हो। बच्चे के साथ खेलें, उसे साथ लेकर उसकी पुस्तकों या कपड़ों की अलमारी साफ करें, किचन में कुछ-कुछ सीखें सिखाएं, सोते समय उसे अच्छी कहानियां सुनाएं।

PunjabKesari

जिम्मेदारी का कराएं अहसास

प्यार पाना बच्चे का अधिकार है लेकिन यह भी ध्यान रखें कि इकलौती संतान को जो कुछ भी आप सिखाएंगे वह सीखता चला जाएगा, उसे सिखाने वाला दूसरा कोई नहीं है इसलिए लाड-प्यार दें, मगर उसे जिम्मेदारियों का अहसास भी कराएं। उसे जीवन की वास्तविकता के बारे में बताएं। उसे छोटी-छोटी जिम्मेदारी दें और कुछ मसलों पर उसकी राय लें ताकि उसे महसूस हो कि वह भी महत्वपूर्ण है। बचपन से उसे कुछ छोटे-छोटे काम देकर उसकी जिम्मेदारी तय करें, उससे उसका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।


 

Related News