23 OCTFRIDAY2020 5:59:19 PM
Nari

Women's Equality Day: वो महिला जिसने औरतों की बराबरी के लिए उठाई आवाज

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 26 Aug, 2020 11:32 AM
Women's Equality Day: वो महिला जिसने औरतों की बराबरी के लिए उठाई आवाज

आज के समय में जब भी समानता की बात की जाती है तो पुरूषों और महिलाओं को बराबर का दर्जा दिया जाता है।  इस बात में कोई शक नहीं है कि आज महिलाएं हर एक क्षेत्र में आगे हैं और अपने देश का नाम रोशन कर रही हैं। आज का दिन महिलाओं के लिए बहुत खास है क्योंकि आज यानि 26 अगस्त को महिला समानता दिवस मनाया जाता है। 

PunjabKesari

महिला समनाता दिवस का इतिहास 

आपको बता दें कि न्यूजीलैंड दुनिया का पहला ऐसा देश है, जिसने 1893 में 'महिला समानता' की शुरुवात की थी। अमेरीका में '26 अगस्त', 1920 को 19वें संविधान संशोधन के माध्यम से पहली बार महिलाओं को मतदान यानि वोट देने का अधिकार प्राप्त हुआ लेकिन इससे पहले वहां महिलाओं को दूसरे स्तर की नागरिक समझा जाता था। महिलाओं को समानता का दर्जा दिलाने के लिए एक महिला का ही हाथ है जिसने औरतों की समानता के लिए लगातार संघर्ष किया और इस महिला का नाम है वकील बेल्ला अब्ज़ुग जिनके प्रयास से 26 अगस्त को 'महिला समानता दिवस' के रूप में मनाया जाने लगा। तो चलिए आज इस खास मौके पर हम आपको बेल्ला अब्ज़ुग के संघर्ष के बारे में बताते हैं। 

PunjabKesari

पूरी दुनिया की महिलाओं के लिए लड़ी लड़ाई

महिला वकील बेल्ला अब्ज़ुग ने महिलाओं को समान दर्जा दिलाने के लिए लगातार प्रयास किए और इन प्रयासों के आगे सभी को झुकना पड़ा। उन्होंने न सिर्फ अपने देश के लिए बल्कि पूरी दुनिया की महिलाओं के लिए आवाज उठाई। ब्रॉन्क्स में जन्मी बेल्ला ने लगातार न्याय और शांति, समानता का अधिकार्य, ह्यूमन डिग्निटी, इनवायरमेंटल इंटिग्रिटी और सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लिए संघर्ष किया।  उनके कड़े प्रयासों की वजह से ही आज के दिन हर साल महिला समानता दिवस मनाया जाता है। 

PunjabKesari

भारत में महिलाओं की स्थिती 

बात अगर भारत की करें तो आजादी के बाद महिलाओं की स्थिती में काफी सुधार आया है वह अपनी इच्छा से वोट दे सकती हैं और अपनी इच्छा से कोई भी काम कर सकती हैं लेकिन आज भी कईं ऐसे स्थान हैं जहां महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले कम समझा जाता है महिलाएं जहां आज चांद पर कदम रख रही हैं वहीं कुछ लोगों की आज भी यही सोच है कि एक महिला को घर की चार दिवारी में रहकर काम करना चाहिए लेकिन समाज को अपनी इस सोच को आज भी बदलने की जरूरत है क्योंकि एक बात हमेशा याद रखिए...,' अगर महिलाओं को मिलेगा दर्जा समान..तभी तो बढ़ेगा हमारे देश का मान।'

Related News