02 JULSATURDAY2022 2:09:35 AM
Nari

प्रकृति प्रेमियों के लिए बेस्ट हैं पालमपुर की ये Places

  • Edited By palak,
  • Updated: 30 May, 2022 06:08 PM
प्रकृति प्रेमियों के लिए बेस्ट हैं पालमपुर की ये Places

हिमाचल की पहाड़ियों में बसा शहर पालमपुर भी प्रकृति प्रेमियों के लिए बहुत ही अच्छा है। शांत और सुकून भरे वातावरण का यदि आप आनंद उठाना चाहते हैं तो पालमपुर सैर कर सकते हैं। इसे उत्तरी भारत के चाय की राजधानी के रुप में भी जाना जाता है। यहां पर चाय के बहुत ही सुंदर-सुंदर बाग पाए जाते हैं। इसलिए इसे चाय की राजधानी के रुप में भी जाना जाता है। अगर आप भी वेकेशन्स में पालमपुर जाने का प्लान  बना रहे हैं तो इन जगहों की सैर जरुर करें। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में...

PunjabKesari

शेराब्लिंग मोनास्ट्री 

कांगड़ा घाटी के किनारे पर स्थित शेराब्लिंग बहुत ही प्रसिद्ध बौद्ध मठ है। इस बौद्ध मठ में तीर्थस्थल, एक कॉलेज, एक पुस्तकालय, एक संग्रहालय, एक प्रदर्शन हॉल और औषधालय भी शामिल है। यह मठ गहरे जंगलों में स्थित है। आप यहां की सैर करते हुए कैंटीन के खाने का लुत्फ भी उठा सकते हैं। 

PunjabKesari

 बीर बिलिंग 

पालमपुर से लगभग 30 किमी की दूरी पर स्थित बिलिंग एक बहुत ही सुंदर पहाड़ी चोटी है। आप यहां पर धौलाधार पहाड़ों, कांगड़ा घाटी के सुंदर दृश्य का आनंद भी ले सकते हैं। आप यहां पर पैराग्लाइडिंग जैसी मनोरंजक एक्टिविटी का आनंद भी ले सकते हैं। सुंदर और बेहतरीन यादों को आप कैप्चर करके भी रख सकते हैं। यहां पर पहुंचने के लिए बीड़ ट्रैकिंग कर सकते हैं। यदि आप सर्दियों के मौसम में यहां पर जाना चाहते हैं तो बर्फीला तुफान आपके मनोरंजक दृश्य को और भी मजेदार बना देगा। 

PunjabKesari

फॉलो बुन्दला टी एस्टेट 

पालमपुर में बहुत से चाय के बागान पाए जाते हैं। परंतु फॉलो बुन्दला टी एस्टेट सबसे ज्यादा प्रसिद्ध और आलीशान बागानों में से एक है। सुगंधित चाय की पत्तियों के अलावा यहां की खूबसूरत हरियाली के बीच आप बहुत ही आरामदायक महसूस करेंगे। यहां का अत्यंत सुंदर वृक्षारोपण आपको एक अनूठे अनुभव का महसूस करवाएगा। 

PunjabKesari

चामुंडा देवी मंदिर 

पालमपुर के धार्मिक स्थानों में से चामुंडा देवी मंदिर भी है। यह एक बहुत ही पवित्र स्थान है जो 51 शक्ति पीठों के अंतगर्त आता है। मान्यताओं के मुताबिक, यह मंदिर 700 साल पुराना है। आपको यहां पर मंदिर के साथ एक पुस्तकालय, औषधालय और संस्कृत कॉलेज भी देखने को मिलेगा। यह मंदरि घने जंगलों और पहाड़ियों में बसा हुआ है। 

PunjabKesari


 

Related News