26 SEPSUNDAY2021 3:42:44 PM
Nari

मेडल के करीब पहुंची पीवी सिंधु, बैडमिंटन में अपना दूसरा मैच जीता

  • Edited By Anu Malhotra,
  • Updated: 28 Jul, 2021 09:32 AM
मेडल के करीब पहुंची पीवी सिंधु, बैडमिंटन में अपना दूसरा मैच जीता

23 जुलाई से शुरू हुए जापान में टोक्यो ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया है। बतां दें कि आज टोक्यो ओलंपिक का छठां दिन हैं। इस दौरान भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में अपने दूसरे ग्रुप मैच में हांगकांग की नगयान यी चियुंग को 21-9, 21-16 से हरा मैच अपने नाम कर लिया। इस तरह सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में एक कदम और बढ़ा लिया है। सिंधु की इस ओलंपिक में ये दूसरी जीत है, वह नॉकआउट स्टेज में पहुंच गई हैं। अब प्री क्वार्टर फाइनल में सिंधु का सामना डेनमार्क की मिया ब्लिचफेल्ट से होगा।

PunjabKesari

आपकों बतां दें कि पीवी (पुसरला वेंकट)  सिंधु 21वीं सदी की सबसे प्रसिद्ध भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। पीवी सिंधु बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक और ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। 

साथी बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल और मुक्केबाज़ मैरी कॉम के साथ, खेल जगत में वह भारत की चमकती सितारों में से एक हैं। वर्तमान रैंकिंग में वह दुनिया में सातवें स्थान पर हैं। शटलर पीवी सिंधु बैडमिंटन में भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक बनी हुई हैं, जहां टोक्यो 2020 के लिए देश तैयारी कर रहा है।

PunjabKesari

जानिए पीवी सिंधु की पर्सनल लाइफ के बारे में
पीवी सिंधु का जन्म 5 जुलाई, 1995 को आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद में हुआ था, उनके माता-पिता राष्ट्रीय स्तर के वॉलीबॉल खिलाड़ी थे, उनके पिता पीवी रमाना ने 1986 के सियोल एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था। नतीजतन शुरू से ही उनके चारों ओर खेल ही रहा है।

PunjabKesari

भले ही उनके माता-पिता वॉलीबॉल खिलाड़ी रहे हों लेकिन बैडमिंटन में पुलेला गोपीचंद के प्रदर्शन को देखकर पीवी सिंधु ने अपना करियर बैडमिंटन में बनाया और आठ साल की उम्र में ही वो इस खेल को नियमित रूप से प्रैक्टिस कर रही हैं। 

Related News