15 JULMONDAY2024 9:37:53 PM
Nari

अपना पानी साथ लेकर शिमला जाएं घुमने, नहीं तो वहां पहुंचकर होगा पछतावा !

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 18 Jun, 2024 04:21 PM
अपना पानी साथ लेकर शिमला जाएं घुमने, नहीं तो वहां पहुंचकर होगा पछतावा !

शिमला को "पहाड़ों की रानी" कहा जाता है क्योंकि यह एक पहाड़ी शहर है जो हिमालय की पहाड़ियों में स्थित है। गर्मियों में यहां भारी भीड़ देखने को मिलती है,  सैलानी यहां दूर-दूर से वादियों का आनंद उठाने पहुंचते हैं। अगर आप भी शिमला जाने का प्लान बना रहे हैं या तो रुक जाइए या फिर अपने साथ पानी लेकर जाइए। क्योंकि इस समय यह शहर पेयजल संकट का सामना कर रहा है।

PunjabKesari

 हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में गहरे जल संकट के बीच निवासियों को अब दो दिन छोड़कर हर चौथे दिन पानी मिलेगा। वैसे चौथे दिन भी पानी मिलेगा इसकी कोई गारंटी नहीं है। अब तक शहर के अधिकांश इलाकों में हर तीसरे दिन पानी आ रहा था। गिरि जल परियोजना से आपूर्ति कम होने के कारण नया शेड्यूल बनाना पड़ रहा है। 

PunjabKesari
 परेशान निवासी कार्यालय में फोन कर यह पूछ रहे हैं कि आखिर पानी कब आएगा। कुछ क्षेत्रों में हैंडपंप या कुओं की कमी है, जिससे लोगों को बाजार से पानी खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ता है। जल कंपनी द्वारा एक सलाह जारी की गई है, जिसमें निवासियों से पानी का संरक्षण करने का आग्रह किया गया है क्योंकि बारिश शुरू होने तक स्थिति खराब हो सकती है।

PunjabKesari
राज्य जल अधिकारियों की मानें तो शिमला को रोजाना 43 मिलियन प्रति लीटर पानी की जरूरत है लेकिन उसे केवल 30 एमएलडी पानी ही मिल पा रहा है। ऐसे में होटलों के मालिक पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए निजी टैंकरों से पानी खरीद रहे हैं और प्रति टैंकर 2 हजार से 5000 रुपए के बीच भुगतान किया जाता है। 

PunjabKesari
पेयजल कंपनी का कहना है कि जनसंख्या बढऩे से पानी ज्यादा खर्च होता है और यही कारण है कि पानी की भारी डिमांड है और जल स्तर घटने के कारण शहर को पानी कम मिल रहा है। इसका खामियाजा यहां घूमने आ रहे पर्यटकों को भी भुगतना पड़ रहा है।

Related News