04 MARTHURSDAY2021 4:12:36 PM
Nari

शानदार पहल! प्रदूषण के खिलाफ पूजा की जंग, खराब टायरों से बना रहीं जूते-चप्पल

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 22 Feb, 2021 12:21 PM
शानदार पहल! प्रदूषण के खिलाफ पूजा की जंग, खराब टायरों से बना रहीं जूते-चप्पल

प्रदूषण और पर्यावरण संरक्षण आज एक ऐसा मुद्दा है, जिसको लेकर पूरा विश्व ही चिंतित है। क्लाइमेट चेंज (Climate Change) का ना सिर्फ पर्यावरण बल्कि सेहत, स्किन पर भी असर डालता है। अगर समय रहते प्रदूषण पर काबू ना पाया गया तो यह एक बड़ी मुसीबत बन सकता है। हालांकि प्रदूषण के खिलाफ दुनियाभर में लोग अपने-अपने तरीके से लड़ाई लड़ रहे हैं।

PunjabKesari

प्रदूषण के खिलाफ पूजा की जंग

जहां कुछ लोग प्रदूषण को कम करने के लिए जागरूकता फैला रहे हैं वहीं कुछ अपनी अनोखी पहल से लोगों को प्रदूषण कम करने का संदेश देते हैं। इसी लिस्ट में अब महाराष्ट्र के पुणे में रहने वाली पूजा बदामीकर का नाम भी शामिल हो गया है।

PunjabKesari

खराब टायरों से बना रहीं जूते-चप्पल

दरअसल, पूजा ने प्रदूषण को कम करने के लिए एक अनोखी पहल की है, जिससे हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है। दरअसल, एंटरप्रेन्योर पूजा ने पुराने टायरों से फुटवियर बनाने का काम शुरू किया है, जिसका नाम उन्होंने "निमिटल" रखा है। वह खराब टायरों का रियूज करके जूते-चप्पल बना रही है, ताकि प्रदूषण को कम किया जा सके। उनका कहना है कि वो इससे दो-दो काम हो रहे हैं पहला लोगों को फुटवियर उपलब्ध करवाना और दूसरे पर्यावरण को बचाना।

PunjabKesari

स्थानीय मोचियों को दिया काम

पूजा बताती हैं कि आंकड़ों की मानें तो हर साल दुनियाभर करीब 1 बिलियन टायर बेकार फेंके जाते हैं, जो कबाड़ बनकर वातावरण को हानि पहुंचा रहे हैं। ऐसे में उन्होंने स्थानीय मोचियों की मदद ली और दो प्रोटोटाइप बनाकर टायरों का रियूज शुरू किया। समाज को पूजा जैसे ही लोगों की जरूरत है।

PunjabKesari

प्रदूषण के लिए छोड़ दी आईटी कंपनी की नौकरी

बता दें कि पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री लेने के बाद वह एक आईटी कंपनी में जॉब कर रही थी लेकिन पर्यावरण को बचाने के लिए उन्होंने 2018 में नौकरी छोड़ दी थी। उन्हें ऐसा करते हुए करीब 2 साल हो चुके हैं। साथ ही वो लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक भी करती रहती हैं।

PunjabKesari

भई, समाज को पूजा जैसे ही लोगों की जरूरत है। उनकी इस अनोखी पहल से थोड़ा ही सही लेकिन प्रदूषण तो कम हो। साथ ही पूजा की यह पहल समाज के लिए एक सीख भी है।

Related News