01 DECTUESDAY2020 9:33:57 PM
Nari

क्या आप भी सारा दिन रहते हैं सुस्त? जानिए 3 आसन जो फील कराएंगे एक्टिव

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 11 Jun, 2020 11:47 AM
क्या आप भी सारा दिन रहते हैं सुस्त? जानिए 3 आसन जो फील कराएंगे एक्टिव

योग तन के साथ-साथ मन को भी खुश रखने में मदद करता है। आज प्रत्येक व्यक्ति इतना बिजी है कि 9 घंटे की जॉब पर भी उसे 10-12 घंटे तक अपनी ड्यूटी निभानी पड़ती है। ऐसे में शरीर को थक जाना लाजमी है। रात 11-12 बजे सोने के बाद अगले दिन जॉब पर एक्टिव होकर जाने में मुश्किल तो लगती ही है। मगर यदि सुबह 10-15 मिनट लगाकर आप ये 3 आसन कर लें, तो शायद पिछले दिन की थकावट आपकी मिनटों में दूर हो जाए, और आप सारा दिन खुशी-खुशी और एक्टिवली अपनी जॉब पूरी कर सकें। आइए जानते हैं 3 आसन कौन-कौन से हैं..

सुप्त मत्स्येन्द्रासन

nari

आसन करने का तरीका

यह आसन करने के लिए आप जमीन पर मैट बिछाकर सीधे लेट जाएं। उसके बाद अपने घुटनों को ऊपर उठा लें। हाथ आपके जांघों के साथ मिले होने चाहिए या फिर आप बाजू को पूरी तरह फैला भी सकते हैं। अब घुटनों व टांगो को दाईं तर मोड़े और अपने मुंह को दाईं तरफ घुमा लें। एक साइड में 30 सेंकेड तक रुकने के बाद फिर बाईं तरफ टांगे और दाईं तरफ मुख कर लें। ऐसा कम से कम 5-6 बार करें।

लाभ

व्यक्ति को थकावट दो ही तरह से महसूस होती है। एक तो ठीक ढंग से न खाने के कारण और दूसरी जब एक जगह पर बैठे-बैठे पीठ में दर्द या सूजन पैदा हो जाए। कई बार यह सूजन शुरुआत में दिखाई नहीं देती, मगर समय पर ध्यान न दिया जाए तो समस्या बढ़ सकती है। इस आसन को करने से रीढ़ की हड्डी में लचक पैदा होती है। आपकी गर्दन के मसल्लस राहत महसूस करते हैं। जिससे आपको दिन भर के काम करने में परेशानी नहीं महसूस होती।

nari

पवनमुक्तासन

पवनमुक्तासन आसन करना बहुत ही आसान है। इसके लिए जमीन पर बैठ जाएं। अपने घुटनों को मोड़कर अपनी छाती के पास ले आएं। बाजू के साथ टांगो को जकड़कर आगे-पीछे झूलें।

लाभ

पवनमुक्तासन करने से पेट में मौजूद गैस दूर होती है। जिससे आप हल्का और फ्रेश फील करते हैं। साथ ही इस आसन को करने से पीठ दर्द और पेट से जुड़ी समस्त परेशानियों से राहत मिलती है। कब्ज आपके सुस्त रहने की एक खास वजह है, मगर इस आसन को निरंतर करने से आपकी यह परेशानी कुछ ही दिनों में खत्म हो जाएगी।

nari

वज्रासन

वज्रासन में बस आपको जमीन पर घुटनों के बल बैठना है। आपके हाथ संत मुद्रा में आपके घुटनों पर होने चाहिए या फिर आप इन्हें सीधा भी रख सकते हैं।  आपकी पीठ एक दम सीधी और चेहरे थोड़ा ऊपर की ओर होना चाहिए। इस आसन को यदि सूरज के समक्ष बैठकर करें तो आपको अधिक लाभ प्राप्त होगा। आप चाहें तो इस स्थिति में आप ओम् का उच्चारण कर सकते हैं। तीसरे नंबर पर इस आसन को करने से शरीर की थकावट पूरी तरह से गायब हो जाएगी और तनाव रहित महसूस करेंगे और साथ ही आपके चेहरे पर एक ताजगी दिखाई देगी। 

nari

Related News