03 MARWEDNESDAY2021 2:21:52 AM
Nari

गलत तरीके से लगाई हेयर डाई दे सकती कैंसर, इन बातों का रखें ध्यान

  • Edited By neetu,
  • Updated: 07 Sep, 2020 04:21 PM
गलत तरीके से लगाई हेयर डाई दे सकती कैंसर, इन बातों का रखें ध्यान

बालों के सफेद होने की परेशानी से बहुत से लोग परेशान रहते हैं। ऐसे में बहुत सी महिलाए ऐसी है जो बालों का रंग बरकरार रखने के लिए उसमें हेयर डाई का इस्तेमाल करती है। इसतरह अपने बालों का सफेद रंग छुपा कर उसे सुंदर बनाती है। मगर बात अगर कलर की करें तो कुछ कलर परमानेंट तो कुछ टेम्प्रेरी होते हैं। ऐसे में जो टेम्प्रेरी कलर तो लगाने के कुछ दिन ही बालों पर टिक पाता है। मगर परमानेट कलर बालों को लंबे समय तक काला, भूरा या जिस भी कलर के  बाल रंगे हो वो रहने देता है। मगर परानेंट हेयर डाई को यूज करने से बालों को बार-बार और जल्दी कलर करने की जरूरत नहीं पड़ती है। मगर इसपर हुई एक रिसर्च से यह पता चला है कि इसे लगाने से शरीर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का शिकार हो सकता है। तो चलिए जानते हैं इस  पर हुई रिसर्च के बारे में...

हेयर डाई से कैंसर होने का खतरा

बात अगर हेयर कलर इस्तेमाल करने वाले लोगों की करें तो इसे ज्यादातर 30 या इससे ज्यादा उम्र की महिलाएं लगाती है। वैसे इस उम्र के दौरान सेहत का कुछ खास ध्यान रखने  की जरूरत होती है। असल में, इसी उम्र में बीमारियों की चपेट मे आने का खतरा कई गुणा अधिक होता है। इसलिए अधिक मात्रा में हेयर डाई को यूज करना खतरे से खाली नहीं होगा। इस पर हुई एक अध्य्यन के अनुसार, 1,17,200 महिलाओं पर रिसर्च की गई। इस दौरान 36 साल तक महिलाओं पर रिसर्च की गई। जब यह अध्ययन शुरू किया गया था। तब ये महिलाएं पूरी तरह से स्वस्थ थी। मगर 36 साल के बाद इस निर्णय पर पहुंचे कि जिन महिलाओं ने अधिक मात्रा में अपने बालों को कलर किया वे कैंसर की चपेट मे आ गई।

nari,PunjabKesari

अधिक मात्रा में कलर लगाने से कैंसर होने का खतरा बढ़ता है

इस पर हुई एक रिसर्च के अनुसार, जो लोग परमानेंट हेयर करवाते हैं उन्हें कैंसर होने का खतरा कई गुणा ज्यादा होता है। उन लोगों को मुख्य रूप से  ब्रेस्ट कैंसर, ओवरियन कैंसर और स्किन कैंसर होने की संभावना ज्यादा होती है। साथ ही हेयर कलर करवाने से कैंसर होने का खतरा इस बात पर निर्भर करता है कि सामने वाला अपने बालों को कितनी बार कलर करता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, ज्यादा बार कैमिकल्स से तैयार डाई का रंग जितना ज्यादा गहरा व काला होगा। उसमें कैमिकल्स की मात्रा उतनी  ही ज्यादा होगी। ऐसे में इसे लगाने से त्वचा काली पड़ने के साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की चपेट में आने का खतरा अधिक रहता है। 

nari,PunjabKesari

अगर आप भी करती हैं हेयर डाई या कलर का इस्तेमाल तो इन बातो का रखें ध्यान

- बालों को कलर करने के लिए घरेलू नुस्खों को अपनाएं। 
- अगर आप कैमिकल्स वाला हेयर कलर ही करना चाहते हैं तो उसे हाथों से छुने की जगह ब्रश से लगाएं। 
- कलर को खरीदने से पहले उसकी एक्सपाइरी डेट जरूर चेक करें। 
- डाई को तैयार करते समय हाथों पर ग्लव्स पहनें। फिर ही उसे मिक्स करें। 
- कलर के पैकेट में जितनी देर तक लगाने का समय लिखा है। उतने समय के लिए ही हेयर कलर लगाएं। 
- कलर को ध्यान से बालों पर ही लगाएं। इसे त्वचा पर लगाने से बचाएं। अगर कहीं स्किन पर लग भी जाएं तो तुरंत नारियल का तेल, एलोवेरा जेल, पेट्रोलियम जेली लगाकर उसे साफ करें। 
- बहुत से लोगों को अलग-अलग कंपनी और कलर को मिलाकर लगाना पसंद होता है। ऐसी गलती करने से बचें। इससे त्वचा पर साइड इफेक्ट हो सकता है।
- अगर कही कलर लगाने के बाद स्किन मेंजलन, खुजली, रेडनेस या सांस से जुड़ी कोई परेशानी हो तो तुरंत बालों को धोकर कलर उतार दें। साथ ही डॉक्टर की सलाह लें।

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News