24 JULWEDNESDAY2024 12:20:43 PM
Nari

Nag Panchami के दिन भूलकर भी ना करें ये 4 काम, वरना 7 पीढ़ियों को लगेगा दोष

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 20 Aug, 2023 04:48 PM
Nag Panchami के दिन भूलकर भी ना करें ये 4 काम, वरना 7 पीढ़ियों को लगेगा दोष

नाग पंचमी का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। हर साल सावन के पर्व में शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। नाग पंचमी के दिन मंदिर में नाग देवता के ऊपर दूध चढ़ाकर पूजा अर्चना की जाती है। इस साल नाग पंचमी 21 अगस्त को मनाई जाएगी। सबसे खास बात यह है कि नाग पंचमी सावन महीने की तीसरी सोमवार को पड़ रही है। ये विशेष संयोग बुहत दुलर्भ है। वहीं, देवघर के ज्योतिषी ने लोगों को नाग पंचमी के दिनकुछ गलतियों से बचना चाहिए। एक्सपर्ट्स की माने तो इस दिन भोलेनाथ को दूध चढ़ाने से नाग मंदिर में नाग देवता पर दूध और लावा का भोग अवश्य लगाएं।  साथ ही गरीबों को अन्न दान करें। इससे सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी। इस दिन सांप को किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए, नहीं तो नाग देवता नाराज हो सकते हैं....

PunjabKesari

नाग पंचमी के दिन ना करें ये गलतियां

- ज्योतिषाचार्य का कहना है कि नाग पंचामी के दिन लोगों को कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए। इस दिन भूल से भी सांप को नहीं मारना चाहिए। अगर सांप को नुकसान पहुंचाते हैं तो इसका पाप आप पर नहीं, बल्कि आपके पूरे वंश पर पड़ेगा।

- नाग पंचमी के दिन जमीन की खुदाई नहीं करनी चाहिए। माना जाता है जमीन के अंदर सापों का बिल रहता है, जिसे सांपों का घर भी कहा जाता है। जमीन की खुदाई करने से सांपों का घर या बिल नष्ट हो सकता है। ऐसा करने से कई पीढ़ियों को दोष लगता है।

- कई लोग नाग पंचमी के दिन जिन्दा नाग को दूध पिलाते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि सांपों के लिए दूध जहर के सामान होती है। इसलिए नाग पंचमी के दिन आप मंदिर में जाकर दूध चढ़ाएं।

- धार्मिक शास्त्र के अनुसार, नाग पंचमी के दिन धारदार वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। जैसे सिलाई, कढ़ाई, इत्यादि अशुभ माना जाता है।

PunjabKesari

क्या है नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त

श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि की शुरुआत 20 अगस्त की रात 12 बजकर 23 मिनट से हो रही है, जोकि अगले दिन यानि 21 अगस्त दिन सोमवार की रात 02 बजकर 12 मिनट तक रहने वाली है। उदयातिथि को मानते हुए नाग पंचमी 21 अगस्त को मनायी जाएगी। वहीं पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 07 बजे से 09 बजकर 30 मिनट तक है।

Related News