08 AUGMONDAY2022 10:20:45 PM
Nari

दो मिनट का स्वाद देगा Cancer, खा रहे हैं ये 6 'सफेद चीजें' तो हो जाए सावधान!

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 09 Oct, 2021 01:06 PM
दो मिनट का स्वाद देगा Cancer, खा रहे हैं ये 6 'सफेद चीजें' तो हो जाए सावधान!

स्वाद के चलते लोगों में चाइनीज, प्रोसेस्ड फूड्स का क्रेज काफी बढ़ गया है, जिन्हें बनाने के लिए आलू, नमक, अजीनोमोटो, मैदा, चावल आदि का इस्तेमाल किया जाता है। नतीजन लोगों के शरीर में आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन्स जैसे कई पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। हैरानी की बात तो यह है कि प्रोसेस्ड फूड में "सफेद चीजों" इतनी ज्यादा होती है, जिससे मोटापा, कैंसर, टाइप-2 डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक का कारण बन रहा है। शोध की मानें तो इन चीजों का अधिक सेवन करने से व्यक्ति की उम्र कम से कम 10 साल कम हो रही है।

आज हम आपको ऐसी ही 5 सफेद चीजों के बारे में बताएंगे, जिनका ओवरयूज सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

कई बीमारियों का शिकार बनाती हैं सफेद चीजें

आपने अक्सर देखा हो जब आप किसी बीमारी के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं तो वह चावल, मैदा, नमक लेने से मना कर देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि सफेद चीजें रिफाइंड और प्रोसेस्ड होती हैं, जिसमें पोषक तत्वों की मात्रा ना के बराबर होती है। ये मोटापा, हाइपरटेंशन, शुगर और इंसुलिन असंवेदनशीलता जैसी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स के लिए जिम्मेदार होती है।

PunjabKesari

​चीनी

रिफाइंड शुगर यानी चीनी को एम्प्टिी कैलारी भी कहा जाता है जो नली में पहुंचते ही ग्लूकोज व फ्रुक्टोज में ब्रेक हो जाती है। धीरे-धीरे ये फैट के रूप में जमा होने लगती, जिससे मोटापा, डायबिटीज, लिवर, डेंटल प्रॉब्लम और कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। हर दिन केवल 5 चम्मच चीनी लेना ही पर्याप्त होती है।

​सफेद चावल

सफेद चावल को प्रोसेस करते समय भूसी और रोणाणु को निकाल दिया जाता है। इसके कारण इसमें पोषक तत्वों का मात्रा ना के बराबर हो जाती है। इससे टाइप-2 डायबिटीज का खतरा रहता है। इसकी बजाए आप ब्राउन या रेड राइस खा सकते हैं।

PunjabKesari

​मैदा

मैदा, आटा रिफाइंड करके बनाया जाता है, जिससे इसमें से गुड फैट, फाइबर,  विटामिन, मिनरल्स और फाइटोन्यूट्रिएंट्स निकल जाते हैं। इससे इंसुलिन प्रतिरोध और टाइप-2 डायबिटीज का खतरा रहता है। ऐसे में मैदे से बनी व्हाइट ब्रेड, केक, बिस्कुट और पेस्ट्री चीजों का सेवन कम से कम करें।

अजीनोमोटो

नमक जैसे दिखने वाला चमकीला रसायन (एक तरह का मसाला) अजीनोमोटो, फूड को टेस्टी बनाने के लिए फेमस फ्लेवर है। इसके खाने के बाद पसीना आना सबसे कॉमन समस्या है। इसके अलावा इसका अधिक मात्रा में सेवन कैंसर, पेट में जलन, सीने में दर्द, मोटापा, कोल्ड कफ, मासपेशियों में तनाव की दिक्कतें पैदा कर सकता है।

PunjabKesari

​सफेद आलू

आलू स्टार्च और कार्ब से भरपूर होता हैं। वहीं, जब इसे डीप फ्राई या मक्खन - क्रीम के साथ मैश किया जाता है तो यह सेहत के लिए और भी हानिकारक हो जाता है। शोध के अनुसार, ज्यादा तले हुए आलू का सेवन कैंसर और डायबिटीज का खतरा बढ़ाता है।

​नमक

नमक सोडियम और क्लोराइड का बेहतरीन स्त्रोत है लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन शरीर में पानी की मात्रा पर असर डालता है। साथ ही इससे ब्लड वेसेल्स भी डैमेज हो जाते हैं , जिससे हाई ब्लड प्रेश, कमजोर हड्डियां,और कैंसर का खतरा रहता है। एक्सपर्ट के मुताबिक, प्रत्येक व्यक्ति को 1 दिन में 1 छोटा चम्मच ही नमक लेना चाहिए।

PunjabKesari

अब तो आप समझ गए होंगे कि क्यों सफेद चीजों का सेवन कम मात्रा में करना क्यों जरूरी है। उम्मीद है कि आब आप इन्हें हफ्ते में एक बार सिर्फ टेस्ट के लिए खाएंगे।

Related News